दमखम से भरे होते हैं फोक्सड फंड


जोखिम को कम करने के लिए जहां कुछ फंड मैनेजर अनेक स्टॉक में डाइवर्सिफिकेशन की रणनीति अपनाते हैं वहीं कुछ ऐसे भी हैं जो शेयर बाजार से कमाई के लिए एक कसे हुए पोर्टफोलियो को तरजीह देते हैं। कसाव से हमारा मतलब है कुछ ही शेयरों में निवेश। हाल ही में एक्सिस एसेट मैनेजमेंट (म्यूचुअल फंड कंपनी) ने एक्सिस फोकस्ड 25 इक्विटी नामक फंड लांच किया है जिसका उद्देश्य केवल 25 शेयरों में निवेश से कमाई करना है। खैर यह फंड प्रदर्शन के फ्रंट पर कैसा रहेगा इसका पता तो आने वाले समय में चलेगा लेकिन सवाल यह उठता है कि क्या निवेशक को इस प्रकार के पोर्टफोलियो में निवेश करना चाहिए? यह सवाल इसलिए अहम है क्योंकि हम जानते हैं कि जोखिम कम करने के लिए वित्तीय प्लानर अधिक स्टॉक में निवेश को डाइवर्सिफाई करने की सलाह देते हैं। बहरहाल इस प्रकार के छोटे पोर्टफोलियो पर केंद्रित फंड को फोकस्ड फंड कहते हैं।

फोकस्ड फंड वैसे इक्विटी फंड हैं जिनका निवेश तुलनात्मतक रूप से कम स्टॉक में होता है। आमतौर पर किसी सामान्य इक्विटी फंड में 30 से लेकर 80 शेयरों में निवेश किया जाता है जबकि फोकस्ड फंड का निवेश 20 से 25 शेयरों में ही किया जाता है। एक आम इक्विटी फंड, शेयर के बाजार पूंजीकरण की परवाह किए बगैर जहां सभी प्रकार के स्टॉक में निवेश करता है वहीं फोकस्ड फंड अधिकांशत: लार्ज कैप शेयरों में ही निवेश करते हैं। इस प्रकार के फोकस्ड एप्रोच पर काम करने वाली पांच से छह स्कीमें बाजार में मौजूद हैं।

फंड की विशेषता

फोक्सड फंड का मुख्य उद्देश्य श्रेष्ठ स्टॉक का चयन कर उनमें निवेश करना है न कि कई सारे स्टॉक में पैसा विभाजित करना। इस फंड का प्रयास उन शेयरों की खोज कर  उनमें पैसे लगाना है जिनका ट्रैक रिकॉर्ड शानदार रहा हो, उनका प्रबंधन अच्छा हो और जिनमें विकास की क्षमताएं हो। इस प्रकार का निवेश इस सोच के साथ की जाती है कि लार्ज कैप अस्थिरता के दौरान निवेश के लिए बेहतर माने जाते हैं और जब भी आर्थिक अनिश्चितताएं हो तो इन पर दांव लगाना ही बेहतर होता है। और हां, यदि दांव सही बैठा तो मुमकिन है कि यह फंड किसी भी अन्य डाइवर्सिफाइड फंड से बेहतर प्रदर्शन कर दे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *