यूं करें घर में नए मेहमान का स्वागत


घर में नए मेहमान का आगमन खुशी के साथ-साथ जिम्मेदारी भी लेकर आता है। यदि बेटी पैदा हो तो जिम्मेदारी का अहसास और भी बढ़ जाता है। बहुत से प्रबुद्ध माता-पिता संतान के जन्म के साथ ही उसकी पढ़ाई-लिखाई, शादी-ब्याह के लिए पैसे जोडऩे लगते हैं। इस पैसे की पहली जरूरत तब पड़ती है जब बच्चा सत्रह-अठारह साल की उम्र में उच्च शिक्षा के लिए रवाना होता है। वर्षों से की जा रही बचत पर पहली बार नजर जाती है और पता चलता है कि जमा रकम पर्याप्त नहीं है। बच्चे के नाम की गई बचत में बढ़ोतरी तो हुई है पर बढ़ोतरी की यह रफ्तार धीमी रही। आमतौर से बच्चे के नाम या तो फिक्स्ड डिपोजिट कर दिया जाता है या रिकरिंग एकाउंट खोलकर पैसा जमा कराया जाता है। कुछ जानकार लोग म्यूचुअल फंड कंपनियों के चिल्ड्रेन स्कीम में पैसा लगाते हैं तो कुछ बीमा कंपनियों के यूलिप प्लान में। पर बचत की ये योजनाएं उस गति से नहीं बढ़ पाती हैं जिस गति से आपका बच्चा बढ़ता है, महंगाई बढ़ती है और शिक्षा का खर्च बढ़ता है। आइए, इस संबंध में कुछ बेहतरीन विकल्पों की चर्चा करें।

बच्चे के लिए की जा रही बचत का सबसे महत्वपूर्ण पहलू है बचत की अवधि। आमतौर से यह अवधि १५-१६ साल की होती है। पैसा या तो एकमुश्त लगाया जा सकता है या क्रमिक रूप से। दोनों के लिए अलग-अलग किस्म की रणनीति होगी। यदि एकमुश्त लगाना हो तो रकम कितनी है, के आधार पर उसका रियल एस्टेट में निवेश किया जा सकता है। प्लॉट में किया गया निवेश फ्लैट की तुलना में तेजी से बढ़ता है। आपकी जिज्ञासा होगी कि १५ साल की अवधि में एक लाख रुपए का प्लॉट कितना दे जाएगा। इसका सही आकलन तो बेहद मुश्किल है पर आप नौ-दस लाख रुपए तक का भरोसा रख सकते हैं। कई मामले में रियल एस्टेट में एक लाख रुपए का निवेश पंद्रह साल में बीस लाख होते हुए भी देखा गया है। पर एक लाख रुपए से रियल एस्टेट की खरीदारी थोड़ी मुश्किल है। यदि इस एक लाख रुपए का सोना खरीद लें तो आपको आठ नौ लाख रुपए हासिल होंगे। संभव है इससे ज्यादा भी मिले। यदि आपने एक लाख रुपए का एनएससी यानी राष्ट्रीय बचत पत्र खरीदा होता तो? पांच लाख रुपए भी मुश्किल से मिलते।

यदि आपके पास एकमुश्त रकम नहीं है तो आप गोल्ड ईटीएफ में सिप कर सकते हैं। यदि आप हर महीने बच्चे के नाम एक हजार रुपए का गोल्ड ईटीएफ खरीदते हैं तो आपको १५ साल बाद तकरीबन सात-आठ लाख रुपए हासिल होंगे। यदि श्ेायर बाजार में निवेश करने में दिलचस्पी रखते हैं तो आप डायवर्सिफायड इक्विटी स्कीम में सिप करें। यदि आप एक हजार रुपए प्रति माह के हिसाब से सिप करते हैं तो तकरीबन १०-१२ लाख रुपए का भरोसा रख सकते हैं। ये सारी गणनाएं पूर्व में दिए गए निवेश परिणामों पर आधारित हैं। इसलिए किसी प्रकार का निर्णय लेने से पूर्व अपने वित्तीय सलाहकार से परामर्श कर लें।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *