जानिए इक्विटी फंड्स के बारे में विस्तार से


म्यूच्यूअल फंड्स के प्रकार तो आपने कई बार सुने होंगे, मगर क्या कभी म्यूच्यूअल फंड्स में इक्विटी फण्ड के बारे में सुना है | आपको जानकार हैरानी होगी कि इक्विटी फण्ड सबसे ज्यादा लोकप्रिय हैं, जिसका कारण यह है कि यह फण्ड शेयर बाज़ार (Share Market) में निवेश करते हैं और उसी प्रकार रिटर्न भी देते हैं | इक्विटी फण्ड मुख्य रूप से लार्ज कैप, मिड कैप और स्माल कैप में बंटे होते हैं तथा इसके अतिरिक्त डाइवर्सिफाईड फण्ड और ELSS और सेक्टर फण्ड होते भी हैं | चलिए आपको विस्तार से समझाते है –

क्या आप जानते हैं पैसा बचाने के तरीके

लार्ज कैप इक्विटी फंड

लार्ज कैप फंड्स ज्यादातर बड़ी कंपनियों में उनके बाजार पूंजीकरण के आकार के अनुसार निवेश करते हैं, चूँकि इन कंपनियों को निवेश के लिए सुरक्षित माना जाता है क्योंकि वे अपने उद्योग क्षेत्र में अच्छी तरह से स्थापित कम्पनियां होतीं हैं | देखा भी गया है कि टॉप की कंपनियों ही लार्ज कैप में तब्दील होने की पूरी क्षमता रखती है । जिसके चलते लार्ज कैप फंड्स को ऐसे इक्विटी निवेशकों के लिए उपयुक्त माना जाता है, जिन्हें बड़ा रिस्क लेने में कोई समस्या नहीं होती |

जानिए कैसे करें म्युचल फंड में निवेश

मिड कैप इक्विटी फंड

मिडकैप फंड ज्यादातर मध्यम आकार की कंपनियों में निवेश करते हैं|  इन कंपनियों में निवेश करना रिस्क से भरा भी हो सकता हैं,  क्योंकि ऐसी कंपनी अपनी पूर्ण क्षमता के अनुसार विकास कर पायेंगी या नहीं, ये कहना असंभव होता है | यदि ऐसी कम्पनियां विकसित होकर बड़ी कम्पनियां का रूप धारण कर लेती है तो निवेशकों के मज्जे आ जाते है, मगर न कर पाए तो लगाया हुआ धन डूबने की आशंका रहती है | अत: अपने जोखिम पर ही इसमें निवेश करे |

 स्माल कैप इक्विटी फंड

स्मॉल कैप फंड छोटी कंपनियों में निवेश करते हैं, अक्सर ऐसी कंपनियों के शयेरों में निवेश करना जोखिम भरा साबित होता है, परन्तु कई बार ऐसी कम्पनियाँ भी असाधारण रिटर्न दे देती  हैं। ये फण्ड केवल उच्च जोखिम उठा सकने वाले निवेशकों के लिए उपयुक्त मानी जाती है |

गोल्ड ईटीएफ में निवेश यानि फायदे का सौदा

डाइवर्सिफाईड इक्विटी फण्ड

फंड मैनेजर के मार्केट व्यू के आधार पर डाइवर्सिफाईड इक्विटी फण्ड अलग अलग आकार की बाजार पूंजीकरण वाली कंपनियों में निवेश करते हैं। चूंकि पोर्टफोलियो विभिन्न बाजार पूंजीकरणों में फैला होता है, इसलिए वे मिड कैप और स्माल कैप फंडों की तुलना में कम जोखिम वाले होते हैं, लेकिन लार्ज कैप फंडों की तुलना में इनमें थोड़ा जोखिम अधिक हो सकता है। ये फण्ड सामान्य जोखिम बर्दाश्त कर सकने वाले निवेशकों के लिए उपयुक्त हैं |

इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ELSS )

इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम या टैक्स प्लानिंग म्युचुअल फंड निवेशकों के लिए आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत करों को बचाने के लिए उपयुक्त मानी जाती है |ऐसे फंडों में निवेश 1.5 लाख रुपये तक की कर कटौती के लिए योग्य मानी जाती है । तीन साल के अनिवार्य लॉक-इन अवधि के साथ ये कार्य करती है अर्थात निवश करने के बाद तीन वर्ष तक इन फंड्स को भुना नहीं सकते |

एटीएम कार्ड यूज करने वालों का भी होता है बीमा

सेक्टर फण्ड

सेक्टर फण्ड ज्यादातर किसी विशेष क्षेत्र की कंपनियों के शेयरों में निवेश करते हैं। चूंकि निवेश एक क्षेत्र पर केंद्रित होता है इसलिए सेक्टर फंड को बेहद जोखिम भरा माना गया है । जैसे कि रियल एस्टेट सेक्टर फण्ड केवल रियल एस्टेट कंपनियों में ही निवेश करेगा |

हजारों की बचत के लिए यहां करें निवेश

बच्चों के लिए यहां करें निवेश

घर बैठे पैसा कमाने के दस उपाय जो बना देंगे आपको अमीर

 

 

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें

Leave a Reply