अर्थ जगत

क्या होती है ये आर्थिक अश्लीलता, कहीं आप तो नहीं हुए इसके शिकार

अश्लीलता (porn) से तो आप सब लोग परिचित ही होंगे।  यह एक ऐसा शब्द है जो लोगों के मन में लालच को जन्म देता है, समाज के सामने बेशक हम सभ्य बने रहें लेकिन अकेले में लोगों का अलग रूप होता है। बहरहाल यहां हम पोर्न पर बात नहीं करेंगे। यहां हम आपको परिचय करा रहे हैं आर्थिक अश्लीलता से जी हां आर्थिक अश्लीलता (Financial Porn)। दरअसल आर्थिक अश्लीलता हमेशा निवेशक को निवेश के दौरान भ्रमजाल में जकड़ने की कोशिश करती है या फिर निवेश, बीमा या लोन के समय भ्रम पैदा करती हैं, जो कि अब आर्थिक क्षेत्र में अपना विस्तार करने लगी है, जिसे आर्थिक अश्लीलता (Financial Porn) का नाम दिया गया है |

भले ही यह शब्द आपको नया लग रहा होगा परन्तु यह शब्द बहुत पुराना है जो धीरे धीरे मानव के आर्थिक जीवन को प्रभावित करने लगा है। यदि सीधे शब्दों में अश्लीलता का अर्थ समझा जाए तो जब चीजें शालीनता की हदों को भूल उसे कुचलने लगती है तो अश्लीलता का जन्म होता है, जिसका उदहारण आर्थिक उत्पाद बेचने के लिये किसी स्त्री, झूठ बच्चों या परिवार की कुछ क्रियाओं का सहारा लिया जाता है, हालाँकि ऐसा पहले नहीं था, परन्तु आज यह समाज का अंग बनने के लिए अग्रसर है ।

यदि आर्थिक अश्लीलता के उदाहरण दिए जाए तो निवेश (Investment) के समय भ्रम (Confusion) की स्थिति उत्पन्न करना, जिसके चलले निवेशक खराब उत्पाद (Mis-Selling) पर अपना पैसा निवेश कर देता है यानी कि उस वस्तु को खरीद लेता हैं । ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इन्सान की मनोस्थिति उस वक़्त आर्थिक अश्लीलता का शिकार हो चुकी होती है ।

आप देख सकते हैं कि अक्सर कुछ लोग न सिर्फ आपको स्टॉक टिप्स  देंगे, बल्कि आपको रातों रात पैसा दोगुना हो जाने का विश्वास भी दिलायेगे। ऐसे में कुछ लोग ऐसे भी मिलेंगे जो आपसे फीस लेकर आपको पैसा दुगुना करने के टिप्स देंगे। उनके झूठे बातों का अंदाज़ा आप इसी बात से लगा सकते है कि यदि उन्हे इतना अनुभव है तो वो खुद अपना पैसा निवेश कर अपनी रकम को दुगुना क्यों नहीं कर लेते ? आपको बता दें कि आर्थिक अश्लीलता का सबसे बड़ा ठिकाना शेयर के फंडामेंटल देखकर टिप्स देने वालों के ठिकाने है।

अब जब आप निवेश करने का पक्का इरादा कर चुके हैं तो ऐसे सबसे बड़ी जिम्मेदारी व महत्वपूर्ण कार्य बनता है वो है एजेन्ट द्वारा बतायी जाने वाली बातों को ध्यान से सुन उन पर गौर करना। एजेन्ट हमेशा निवेशक के भावों को पढता है, यदि उसे यह समझ आ जाता है कि आप अभी इस क्षेत्र में नए हो तो वो आपको केवल अच्छी बातें बताकर आपको अपने जाल में फंसा लेगा, इस परिस्थिति को मिस-सेलिंग (Mis-Selling) नाम दिया जाता है ।

जब आपको ऐसी किसी कंपनी का फोन आता है तो ध्यान दीजिये कि रिसीवर के दूसरी तरफ से सुरीले स्वर तो नहीं आ रहे, यदि हां तो सावधान हो जाये। अक्सर ऐसे फोन करने वाली बाला आपको बातों के जाल में फंसा कर आपकी गाढ़ी मेहनत की कमाई को किसी टटपुन्जियाँ  एजेन्ट  के लिये बलि चढ़ाने का काम करती हैं। तो कुछ लोग विज्ञापन, वेबसाईट, ईमेल या SMS द्वारा आपको आकर्षित करने की कोशिश करते हैं, ऐसे मौको पर संभल कर रहें क्योंकि आपकी एक गलती किसी और का फायदा बन सकती है।

खर्चे बहुत हैं बचत नहीं हो पा रही तो जानिए आसान उपाय

मात्र पांच सौ रुपए का निवेश बना सकता है आपको करोड़पति

पैसे बचाने के आसान उपाय जानिए

जानिए गोल्ड ईटीएफ में निवेश का तरीका

शेयर बाजार की एबीसीडी जानें और मुनाफा कमाएं

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: what is financial porn are you addicted to financial porn

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *