ज्योतिष धर्म कर्म

पचास साल बाद इस सावन में बन रहा है अद्भुत संयोग बहुत खास है ये चारों सोमवार

नई दिल्ली। आज सावन का पहला सोमवार है। पचास वर्षों के बाद पहली बार ऐसे संयोग बन रहे हैं जिसमें इस महीने सोमवार को पूजन से शिव की विशेष कृपा बहुत जल्दी प्राप्त हो सकती है। जिससे आय, नौकरी, मानसिक क्लेश और कई तरह की परेशानियों से मुक्ति पाई जा सकती है। ज्योतिषयों के अनुसार इस महीने ग्रह नक्षत्रों के कुछ ऐसे योग है जिनमें शिव कृपा आसानी से प्राप्त की जा सकती है। बता दें कि इस बार सावन प्रतिपदा तिथि और उत्तरा आषढ़ नक्षत्र में 20 जुलाई को हुआ है।

पहले सोमवार में मिटेगी सभी बाधाएं

इस बार सावन का प्रथम सोमवार 25 जुलाई को है। यह सोमवार धृति नामक शुभ योग में आ रहा है जिसके फलस्वरूप यह सर्वाथ सिद्धि योग का निर्माण कर रहा है। जानकारों का मानना है कि इस योग में शिव के पूजन से सभी प्रकार की बाधाओं से मुक्ति मिल जाती है।

111

दूसरा सोमवार विशेष फलदायक

इस बार सावन का दूसरा सोमवार 1 अगस्त को वज योग में आ रहा है और इस दिन भी सर्वाथ सिद्धि योग बन रहा है। इन दोनों योगों के मिलन के कारण दूसरा सोमवार विशेष प्रकार से फलदायक है। इस दिन शिव के पूजन से स्वास्थ्य और सभी प्रकार से रोगों से मुक्ति प्राप्त हो जाती है।

shiva4

तीसरा सोमवार दिलाएगा दुरुह कामों में सफलता

सावन माह का तीसरा सोमवार 8 अगस्त को है। जानकारों के अनुसार इस दिन साद्य योग पड़ रहा है। यह योग साधना और भक्ति के मार्ग पर चलने वाले लोगों के लिए विशेष फलदायी होता है। इस दिन शिव की पूजा करने से कठिन से कठिन कामों में आसानी से सफलता प्राप्त हो जाती है।

आर्थिक परेशानियों को दूर करेगा सावन का चौथा सोमवार

सावन का चौथा सोमवार 15 अगस्त को है इस दिन आयुष्मान योग का निर्माण हो रहा है, साथ ही यह सोमवार प्रदोष व्रत भी साथ ला रहा है। प्रदोष व्रत शिव को प्रसन्न् करने के लिए ही किया जाता है। ज्योतिषयों का मानना है इस दिन शंकर भगवान की आराधना से जीवन में आने वाले संकटों में कमी आएगी और व्यक्ति का आर्थिक पहलु अच्छा होता है।

सोमवार व्रत की है विशेष महिमा

माना जाता है कि सबसे पहले यह व्रत माता पार्वती ने शिव को प्राप्त करने के लिए रखे थे, तभी से इन व्रतों को रखने की परम्परा चली आ रही है। माना जाता है कि सोमवार के व्रत से भोले शंकर बहुत जल्द प्रसन्न् हो जाते हैं ओर लोगों को उनकी मनवांछित इच्छाएं प्राप्त हो जाती है। सौभाग्यवती स्त्रियां सोमवार अपने पति की लम्बी आयु के लिए, संतान के सुख के लिए और भाई बांधवों के कष्ट के निवारण के लिए ये व्रत करती हैं। सोमवार का व्रत नियमित रूप से रखने वालों पर शिव और पार्वती की कृपा सदा बनी रहती हे।

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: fifty years later this sawan is most important for shiv worship | In Category: ज्योतिष  ( jyotish )

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *