आरती

श्री कुंजबिहारी की आरती

आरती कुंज बिहारी की, श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की।
गले में बैजन्ती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।
श्रवन में कुंडल झलकाला, नंद के आनंद नंदलाला।
नैनन बीच, बसहि उरबीच, सुरतिया रूप उजारी की ।।
श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की। आरती कुंज बिहारी की…

गगन सम अंग कांति काली, राधिका चमक रही आली।
लतन में ठाढ़ै बनमाली, भ्रमर सी अलक।
कस्तूरी तिलक, चंद्र सी झलक, ललित छबि श्यामा प्यारी की।।
श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की। आरती कुंज बिहारी की…

कनकमय मोर मुकट बिलसे, देवता दरसन को तरसे।
गगनसों सुमन रासि बरसै, बजे मुरचंग मधुर मिरदंग।।
ग्वालनी संग, अतुल रति गोप कुमारी की।।
श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की। आरती कुंज बिहारी की…

जहां ते प्रकट भई गंगा, कलुष कलि हारिणि श्री गंगै।
स्मरन ते होत मोह भंगा, बसी शिव सीस जटाके बीच।
हरै अघ कीच, चरन छबि श्री बनवारी की।।
श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की। आरती कुंज बिहारी की…

चमकती उज्जवल तट रेनू, बज रही वृन्दावन बेनू।
चहुं दिसि गोपी ग्वाल धेनू, हसत मृदु मंद चांदनी चंद ।
कटत भव फंद, टेर सुनु दीन भिखारी की।।
श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की। आरती कुंज बिहारी की…..

 

 

Read all Latest Post on आरती god aarti in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: aarti kunj bihari ji ki in Hindi  | In Category: आरती god aarti

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *