नोट बंद होने की खबर लगते ही उड़ी आम और खास लोगों की नींद, मची अफरातफरी

इंदौर।बड़े नोट बंद होने के प्रधानमंत्री के ऐलान के बाद शहर के आम और खास लोगों की नींद उड़ गई। आम आदमी 500-1000 के नोट खपाने के लिए पेट्रोल पंप के साथ बैंकों की डिपॉजिट मशीनों की तरफ दौड़ता नजर आया। वहीं, घरों में बड़ी मात्रा में रुपए रखने वाले अफसर और अन्य रसूखदार लोग सोना खरीदने के लिए सर्राफा व्यवसायियों को फोन घनघनाते नजर आए। ऐसा दिखा नजारा…
– बड़े नोट बंद होने की जानकारी लगते ही लोग हजार और 500 के नोट झोले में भरकर बाजार की ओर भागे।
– पेट्रोल पंपों पर कई वाहन चालक ऐेसे भी आए जिनके पास 500 रुपए का नोट था और 20 रुपए का पेट्रोल भरवाना था। हालांकि उन्हें पेट्रोल नहीं भरवाना था, सिर्फ नोट ही चलाना थे।
– रतलाम में दो बत्ती स्थित गुजरात स्वीट्स पर सेवानिवृत्त पुलिसकर्मी काटजू नगर निवासी सत्यनारायण अग्रवाल 500 का नोट लेकर 250 ग्राम मिठाई लेने पहुंचे।
– दुकान संचालक ने मना किया तो नाराज होते हुए चले गए। इसके बाद जब अधिकतर लोग 500-500 रुपए के नोट लेकर ही आने लगे तो संचालक ने पहले तो उन्हें मना किया।
– परेशान दुकानदार ने रात करीब 10.30 बजे दुकान बंद करना ही ठीक समझा।
– दुकान संचालक दीपेश किलोसिया ने बताया ग्राहकों को नाराज कौन करे इसलिए दुकान बंद कर रहे हैं।
– सूत्रों की मानें तो शहर में कुछ अफसर, बिल्डर और धन्नासेठों ने 10 लाख से लेकर डेढ़ करोड़ रुपए तक का सोना खरीदने की इच्छा जताई।
– ज्यादातर गोल्ड बिस्किट की डिमांड करते रहे, लेकिन कमी के चलते व्यापारियों ने चेन, चूड़ियों के साथ अन्य ज्वैलरी का विकल्प सामने रखा।
– चिंता में ऐसे कई लोगों ने रात में ही सौदे कर डाले।
– रात 10 बजे बाद से बिल बनने का जो सिलसिला शुरू हुआ तो वह तड़के तक जारी रहा।
– सर्राफा में पूरी रात हलचल रही। मांग बढ़ने पर सोना 45000 रुपए प्रति 10 ग्राम तक बिका।

दो लाख रुपए तक का सोना फर्जी नाम से भी खरीदा
– दो लाख रुपए तक का सोना खरीदने पर पैन कॉर्ड जरूरी नहीं है। इसका फायदा उठाते हुए कई लोगों ने अलग-अलग फर्जी नामों से ज्वैलरी बुक करवाई।
– अचानक डिमांड बढ़ने के कारण कुछ व्यापारियों ने खरीदारों को साफ कहा कि वे ज्वैलरी की डिलिवरी कुछ दिन बाद ही कर पाएंगे। लोग इसमें भी राजी हो गए।
– बुधवार को सौदे की रकम जमा करवाई जाएगी। बैंके बंद होने के कारण रुपया गुरुवार को ही जमा हो सकेगा।

इधर, शादी वाले घर में नकद खर्च की चिंता
राधेश्याम शर्मा के यहां 11 नवंबर को शादी है, उनके लिए सबसे बड़ी चिंता है कि वे शादी की व्यवस्था के लिए पेमेंट कैसे करेंगे। पीएम की घोषणा के बाद रात को ही टेंट, कैटरर्स ने बड़े नोट लेने से मना कर दिया है। अब चेक से पेमेंट करना ही रास्ता रह गया है।

2-3 माह व्यापार ठप रहेगा
वरिष्ठ कर सलाहकार आरएस गोयल ने कहा कि इंदौर में अधिकांश व्यापार नकदी पर चलता है। खासतौर से रियल एस्टेट सेक्टर, सोना-चांदी के साथ ही नकद लेन-देने वाला व्यापार दो-तीन माह तक ठप हो जाएगा। जो व्यापार चेक और बैंक से भुगतान से चलते हैं, वही चलते रहेंगे। नकद व्यापार को चेक लेन-देन पर आना होगा, तभी वह चल सकेंगे।

आगे की स्लाइड्स पर देखें फोटोज…

pic-1
pic-2
pic-3
pic-4
pic-5
pic-6
pic-7
pic-8
pic-9
pic-10
pic-11
pic-12
pic-13
pic-14
pic-15
pic-16
pic-17
pic-18
pic-19

साभार : भास्कर डॉट कॉम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *