ये हैं संसार की दस सबसे ताकत सेनाएं, जिनसे खौफ खाती है सारी दुनिया


यूं तो विश्व के सभी देश अपनी अपनी सेनाओं की ताकत को बढ़ाने के लिए अरबों खरबों रुपए खर्च करते हैं, और समय समय पर अपनी ताकत का प्रदर्शन करती हैं। मगर कुछ देश ऐसे भी हैं जिनकी सेनाएं, युद्ध में काम आने वाली तकनीकी क्षमता और सेना पर खर्च होने वाले बजट में तमाम दुनिया से बहुत आगे हैं। आइए खुलासा में ऐसे ही संसार की सबसे ताकतवर दस सेनाओं के बारे में बात करते हैं।

armyrussian

armyrussian

रूस: सोवियत संघ के विघटन के काफी सालों बाद रूस ने एक बार फिर अपनी सैन्य क्षमता को मजबूत करना शुरू कर दिया है। रूस के पास जहां एक ओर 7 लाख 66 हजार से ज्यादा सक्रिय सैनिक हैं, वहीं दूसरी ओर 24 लाख 85 हजार प्रशिक्षित सैनिक ऐसे हैं जिन्हें रूस रिजर्व में रखता है। 15,500 से ज्यादा टैंकों की क्षमता के साथ रूस संसार में सबसे ज्यादा टैंक रखने वाला देश है। बताया तो ये भी जाता है कि रूस ने अपने सैन्य बजट में 44 फीसदी की बढ़ोत्तरी की है।

armychina

armychina

चीन: चीन का अपने पड़ोसी देशों जैसे भारत, जापान, फिलीपींस के साथ बहुत समय से सीमा विवाद चल रहा है, ये एक बड़ी वजह है कि चीन लगातार अपनी सैन्य क्षमताओं को बढ़ाता जा रहा है। बताया जाता है कि 2016 में चीन ने अपनी सैन्य बजट में 12.2 फीसदी की बढ़ोत्तरी की है, जो कि तात्कालिक समय में 126 बिलियन डॉलर है।

armyindia

armyindia

भारत: इसमें कोई शक नहीं की भारत की सैन्य क्षमता अपने पड़ोसी देशों के मुकाबले में बहुत अधिक है। बताया जाता है कि भारत का सैन्य बजट महज 46 बिलियन डॉलर का है, जो कि नई तकनीकों को हासिल करने पर खर्च हुआ है। भारत के पास ब्लास्टिक मिसाइलों का बड़ा जखीरा है। ये एक बड़ी वजह है कि भारत के पड़ोसी देश भारत की तरफ आंख उठाने की कोशिश नहीं करते।

army-uk-1-1

army-uk-1-1

इंग्लैंड: एक समय में सैन्य क्षमताओं के मामले में जिसे सबसे अधिक ताकतवर माना जाता था, वही देश 2010-2018 के बीच अपने सैन्य बजट में लगातार कमी कर रहा है। बताया जाता है कि इंग्लैड का सैन्य बजट इस समय करीब 54 बिलियन डॉलर का है। इस कम बजट के बाद भी इंग्लैड की सेना संसार की ताकतवर सेनाओं में शुमार करती है।

armyfrench-3

armyfrench-3

फ्रांस: फ्रांस की सेना के हमेशा से बहुत मजबूत रही है। फिलवक्त फ्रांस अपनी कुल जीडीपी का सिर्फ 1.9 प्रतिशत ही खर्च करता है। बताया जाता है कि फ्रांस ने अपने सैन्य बजट में काफी कटौती की है। मगर महज 43 बिलियन डॉलर खर्च करने के बावजूद फिलहाल फ्रांस की सैन्य क्षमता का कोई सानी नहीं है, यही वजह है कि फ्रांस की सैन्य क्षमता के बारे में सुनकर कई देशों के पसीने छूट जाते हैं।

armyrturkish

armyrturkish

तुर्की: इस लिस्ट में शामिल तुर्की का नाम चौंकाने वाला है. हालांकि ये देश अर्थव्यवस्था के हिसाब से दुनिया में सबसे ज्यादा खर्च सेना के नाम पर करता है, साल 2014 में तुर्की ने अपने कुल बजट का 9.4 फीसदी धन सेना पर खर्च किया. तुर्की की सेना पर कुल 18.2 बिलियन डॉलर खर्च होता है. तुर्की लगातर सीरियाई सेना और कुर्दिश अलगाववादियों से संघर्ष कर रहा है.

armygermon

armygermon

जर्मनी: जर्मनी सैनिकों के लिहाज से खर्च और सुविधाओं के मामले में दुनिया में सबसे ज्यादा खर्च करता है. द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद से लड़ाई के विरोधी देश में जर्मनी के पास महज 1 लाख 83 हजार सक्रिय और 1 लाख 45हजार रिजर्व सैनिक हैं, जो कि दुनिया के तमाम मोर्चों पर डटे हैं,

armykorea

armykorea

दक्षिण कोरिया: दक्षिण कोरिया की सेना संख्या में कम होने के बावजूद बेहद पेशेवर ढ़ंग से प्रशिक्षित और आधुनिक है. दक्षिण कोरिया के पास दुनिया में छठा सबसे बड़ा वायुसेना का बेड़ा है. यही नहीं, दक्षिण कोरिया के पास 2,346 टैंकों के साथ ही 1,393 एयरक्राफ्ट भी हैं, जो इस छोटे से देश की मजबूती से रक्षा करते हैं.

armyjapan

armyjapan

जापान: चीन के साथ तनाव को देखते हुए जापान ने पिछले 11 सालों में अपनी सेना को बढ़ाया है, जिसमें उसने बाहरी जलक्षेत्र में मिलिटरी बेस बनाया है. जापान अपनी सेना के लिए 49.1 बिलियन डॉलर सालाना खर्च करता है. जापान के पास जहां 2 लाख 47 हजार की सक्रिय सेना है तो 57,900 की रिजर्व सेना भी है.

army-us-1

army-us-1

अमेरिका: अमेरिका का सैन्य क्षेत्र में दबदबा लगातार बना हुआ है. अमेरिका अपने बजट का एक बड़ा हिस्सा सेना के आधुनिकीकरण पर खर्च करता है. और इसके लिए वह तकरीन 612 बिलियन डॉलर खर्च करता है, जो कई देशों की सकल अर्थव्यवस्था से भी ज्यादा है. अमेरिका के पास 19 एयरक्राफ्ट करियर है, जो बाकी पूरी दुनिया के 12 करियर के मुकाबले डेढ़ गुने से भी ज्यादा हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *