हिटलर के बारे में कुछ आश्चर्यजनक सत्य, जिन्हें जानकर आप भी रह जाएंगे हैरान


मानवतावाद मूर्खता और कायरता की अभिव्यक्ति है .. ये शब्द हैं हिटलर के, जिसे विश्व इतिहास में क्रूर और आतताई तानाशाह के रूप में पढाया जाता रहा है। ऑस्ट्रिया (हंगरी) के एक छोटे से कस्बे में अप्रैल 1889 में जन्मा था वह। बाद में जर्मनी आया और 1932 में वहां की नागरिकता ले ली। वह नेशनल सोशलिस्ट जर्मन पार्टी का नेता बना।

भारत के मंदिर जिनके बारे में जानकर आप भी रह जाएंगे हैरान

प्रथम विश्व युद्ध के बाद जर्मनी में नाजी पार्टी सत्ता में आई और फासिस्ट विचारधारा को जडें जमाने का मौका मिला। 1933 से द्वितीय विश्व युद्ध 1945 तक वह जर्मनी का चांसलर रहा। हम खुलासा डॉट इन में इस खलनायक के व्यक्तित्व के कुछ अनजान पहलुओं पर रोशनी डाल रहे हैं ।

 

11705324_10153500208466917_6331613917752942613_n_900x600

असंख्य लोगों की मौत का कारण बना हिटलर पूरी तरह शाकाहारी था। नशे से दूर रहता था। लेकिन स्पीड यानी गति के प्रति उसका बहुत मोह था। हिटलर ने मात्र 16 वर्ष की आयु में स्कूल छोड दिया। उसके पिता उसे कस्टम क्षेत्र में ले जाना चाहते थे, जबकि वह पेंटर बनना चाहता था। पिता की मौत के बाद हिटलर वियना आ गया। आर्ट की व्यावसायिक ट्रेनिंग लेने के लिहाज से उसने परीक्षाएं भी दीं, लेकिन विफल रहा। निराशा के इस दौर में वह कॉफी हाउस और नुक्कडों में जाया करता, जहां उसकी मुलाकात राजनैतिक लोगों से होती थी। यहीं से उसके मन में राजनीतिक-नस्ली विचार पनपने लगे।

adolf-hitler-in-colour_0

एक ऐसा भी दौर आया, जब पिता की संपत्ति समाप्त होने के बाद हिटलर पैसे-पैसे के लिए मोहताज हो गया। स्कूली शिक्षा पूरी न होने के कारण कहीं काम मिलना संभव नहीं था। अखबारों, पत्र-पत्रिकाओं में लेख लिखकर उसने आजीविका का जुगाड किया। धीरे-धीरे राजनीति में उसका दखल बढता गया। संपर्को और लेखन के जरिए वह इस लायक बना कि अपने लिए घर-गाडी ले सके।

forumfullimg-general-6167270303-1324382297718

यह नाजी शासक अपने भाषणों से लोगों को भावुक व अभिभूत कर देता था। वह भाषणों की रिहर्सल करता था। एक बार यदि रिचर्ड वेगनर के म्यूजिक या ओपेरा पर बोलना शुरू करता तो कोई उसे रोक नहीं सकता था। कहा जाता है कि हिटलर की राइटिंग बहुत साफ और सुंदर थी। लेकिन वह बहुत वैचारिक लेखक नहीं था। उसकी आत्मकथा मीन कांफ को पढने वाले ऐसा मानते हैं।

hitler-hulton-getty2

हिटलर को पेस्ट्रीज और मूवीज का बेहद शौक था। रोज वह निजी थिएटर में मूवी देखता था। कॉमेडी फिल्में उसे ज्यादा पसंद थीं, लेकिन वह ऐसी विदेशी फिल्में भी देखता था, जो जर्मन पब्लिक के लिए प्रतिबंधित थीं। सर्कस के करतब उसे भाते थे। कई बार सर्कस कलाकारों को वह चॉकलेट्स, पेस्ट्रीज और फूल भेंट करता था। जिप्सी संगीत उसे बहुत पसंद था, रिचर्ड वेगनर का वह उपासक था। उसे खेलकूद या व्यायाम में रुचि नहीं थी। हालांकि कभी-कभार वॉक कर लेता था।

hitler-in-crowd-3324060-58d6b54a5f9b584683a4d84e

वह न्यूजरील्स देखना पसंद करता था, खास तौर पर यदि खुद उसमें हो। राजनैतिक प्रचार-प्रसार के लिए उसने पहली बार रेडियो प्रसारण, रैलियों, ध्वनि उपकरणों का प्रयोग किया था। हिटलर किसी राज्य का पहला मुखिया था, जिसके पास निजी एयर प्लेन और पायलट था। टाइम मैगजीन ने 1938 में हिटलर को मैन ऑफ दि इयर घोषित किया था।

hitler-with-dog

हिटलर ने खुद को राजनीति के प्रति समर्पित किया था। घर-परिवार या विवाह जैसी संस्था से वह खुद को दूर मानता था, हालांकि इसके बारे में कई अपवाद हैं। हिटलर की मृत्यु संदिग्ध परिस्थितियों में 30 अप्रैल 1945 को बर्लिन में हुई। द्वितीय विश्व युद्ध के अंतिम दिनों में निराशा की हालत में उसने पत्नी ईवा ब्राउन (जिससे उसने एक दिन पूर्व विवाह किया था) और अपने पालतू कुत्ते के साथ सायनाइड खाकर आत्महत्या कर ली।

भारत में पैदा हुए लोग जो आज कर रहे हैं दुनिया की बड़ी कंपनियों पर राज

आने वाली हैं आठ फिल्में जो होंगी भारतीय सेना पर आधारित

वायरल फोटो जिन्हें देखकर आप भी हो जाएंगे हंसते हंसते लोटपोट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *