उच्च रक्तचाप, मधुमेह तथा चिकनाई युक्त खान-पान है गुर्दे की बीमारी के प्रमुख कारण


देश में गुर्दे संबंधी चिकित्सा सुविधाओं की भारी कमी है। दूसरी तरफ गुर्दे के रोगी लगातार बढ़ते जा रहे हैं। आखिर क्यों बढ़ती जा रही है गुर्दे की बीमारियां ? प्रस्तुत है मूत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. नरेश पाल से बातचीत

मानव शरीर में गुर्दे का क्या कार्य है ?
शारीरिक क्रियाओं में गुर्दों के कई छोड़े-बड़े कार्य होते हैं, लेकिन इनका असल कार्य रक्त को छानकर अपशिष्ट पदार्थों को खून के जरिए बाहर फेंकना होता है। रक्त में मौजूद यूरिया और सिरेनाइनी तत्वों की मात्रा को यह एक निश्चित सीमा के बाद बढ़ने से रोकते हें। इसके अलावा रक्त में पाए जाने वाले एक महत्वपूर्ण हारमोन विटामिन डी एक्टिव का निर्माण भी गुर्दों की मदद से होता है। यह हारमोन हड्डियों को मजबूती प्रदान करने के लिए होता है। दोनां गुर्दे यही कार्य करते हैं।

क्या एक गुर्दे से भी काम चल सकता है?
निःसंदेह संभवतः प्रकृति ने इसीलिए दो गुर्दे दिए हैं कि यदि एक खराब हो जाए तो दूसरे से काम चलता रहे। लेकिन इसके लिए यह आवश्यक है कि खराब गुर्दे को निकाल देना चाहिए। अन्यथा उससे संक्रमण फैलने का खतरा हो सकता है।

गुर्दों में खराबी के क्या लक्षण हैं?
यदि किसी व्यक्ति को सामान्य अवस्था में रोजाना रात में सोने के बाद दो या तीन बार मूत्र त्याग के लिए उठना पड़ता है तो यह गुर्दों में खराबी के संकेत हैं, बशर्तें की उसने शराब या बीयर नहीं पी हो। शराब और बीयर से ज्यादा पेशाब आता है लेकिन वह बीमारी नहीं है। इसके अलावा हाथ, पैरों एवं मुंह में सूजन, रक्तचाप में बढ़ोत्तरी भी इसके प्रारंभिक लक्षण हैं।

गुर्दों की जांच का क्या तरीका है?
उपरोक्त लक्षण पाए जाने पर रोगी के रक्त और मूत्र के नमूने लिए जाते हैं जिनमें सिरेनाइनी, यूरिया तथा हीमोग्लोबिन की जांच की जाती है। यदि गुर्दे ठीक काम कर रहे हों तो सिरेनाइनी का प्रतिशत रक्त में 1.5 मिलीमीटर तथा यूरिया का प्रतिशत 15 से 40 मिलीलीटर होना चाहिए। अगर इससे ज्यादा मात्रा पायी जाती है तो उसका नतीजा यह निकलता है कि रोगी के गुर्दों में संक्रमण है। इसके बाद अल्ट्रासांउड जांच करायी जाती है जिससे स्थिति और साफ हो जाती है। गुर्दों के खराब होने की स्थिति में हीमोग्लोबिन की मात्रा में रक्त 11 प्रतिशत से कम हो जाती है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *