मां का दूध समय से पहले जन्मे बच्चों के हृदय के विकास में होता है सहायक


लंदन। शोधों में पाया गया है कि जिन बच्चों का जन्म का 9 महीने से पहले हो जाता है उनमें अक्सर हृदय के असमान्य होने की शिकायत होती है ऐसे में मां का दूध बच्चे की हृदय की संरचना में सुधार करता है और उसे जल्द ही दुरुस्त करने में सहायक होता है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से एडम लेवानडोविस्की एक अध्ययन में पाया जिन बच्चों में समयपूर्व जन्म के कारण विकास प्रभावित हुआ है उनमें स्तनपान हृदय विकास के लिए मददगार हो सकता है।

पहले के अध्ययन बताते हैं कि समयपूर्व जन्म लेने वाले लोगों में वयस्कता के दौरान हृदय के छोटे कक्षों, मोटी दीवारों और क्रियांतत्र की कमी जैसे समस्याएं मिली हैं। उन्होंने बताया, “बच्चों के लिए सर्वश्रेष्ठ डिब्बाबंद दूध में भी कई विकास कारक, एंजाइम और एंटीबॉडीस का अभाव होता है। इन सबकी पूर्ति मां के दूध से ही संभव है।”

शोधों में पाया गया कि जिन बच्चों विशेष रूप से मां का दूध दिया गया था, उन बच्चों के हृदय के आयतन और क्रियातंत्र में डिब्बाबंद दुग्ध उत्पादों का सेवन करने वाले बच्चों की तुलना में कम कमी मिली। यह शोध ‘पीडियाट्रिक्स’ पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें

Leave a Reply