सावधान! ग्रीन टी भी पहुंचा सकती है आपको नुकसान


आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में मोटापा एक आम समस्या है। वजन घटाने के लिए लोग ग्रीन टी के उपयोग शुरू कर देते हैं। ग्रीन टी शरीर के लिए लाभदायक है मगर इसका अत्याधिक इस्तेमाल आपको कई रोगों का शिकार भी बना सकता है। आइए जानते हैं ग्रीन टी से जुड़े कुछ ऐसे तथ्य जिनकी जानकारी अधिकतर लोगों को नहीं है और जिनके अभाव में कई बार लोग अनजाने ही बीमारियों को दावत दे देते हैं।

1  लोग मानते हैं कि अधिक से अधिक ग्रीन टी का इस्तेमाल करके वे जल्दी अपना वजन घटा पाएंगे। जबकि  सच बात यह है कि वजन घटाने के लिए एक दिन में अधिक से अधिक तीन कप ग्रीन टी ही पीना चाहिए। इससे ज्यादा ग्रीन टी का इस्तेमाल सिरदर्द या डायरिया जैसी समस्या भी दे सकता है।

2   कुछ लोग मानते हैं कि सुबह खाली पेट ग्रीन टी पीना ज्यादा कारगर होता है, मगर सच्चाई यह है कि ग्रीन टी में कैफीन होता है जिस कारण ग्रीन टी खाली पेट लेने से एसिडिटी हो सकती है, इसलिए ग्रीन टी का इस्तेमाल दिन में करना ज्यादा कारगर होता है।

3 कुछ लोग मानते हैं कि ग्रीन टी पीने से नींद पर कोई असर नहीं पड़ता, लेकिन अत्याधिक ग्रीन टी के सेवन से कई बार अनिद्रा की शिकायत हो सकती है, क्योंकि ग्रीन टी के एक कप में 25 मिलीग्रीम कैफीन होता है जो कि नींद भगाने के लिए काफी है।

4  कई लोग एसिडटी होने पर भी ग्रीन टी का इस्तेमाल करते रहते हैं, जबकि एसिडिटी होने पर ग्रीन टी भी सामान्य चाय की तरह नुकसान ही देती है, ग्रीन टी में टैनिन होता है जो एसिडिटी को और बढ़ाता है, इसलिए एसिडटी की समस्या के दौरान ग्रीन टी नहीं लेनी चाहिए।

5  गर्भवती महिलाओं को ग्रीन टी फायदा करती है, जबकि सच्चाई यह है कि कैफीन व टैनिन्स होने के कारण प्रेग्नेंसी के दौरान ग्रीन टी के निगेटिव इफेक्ट ज्यादा हो सकते हैं।

6  कुछ लोग मानते हैं ग्रीन टी जितनी पुरानी होगी उतना ज्यादा फायदा करेगी, लेकिन सच्चाई यह है कि छह महीने से ज्यादा पुरानी ग्रीन टी इस्तेमाल नहीं करनी चाहिए। ज्यादा समय तक रखे रहने से इसकी एंटीऑक्सीडेंट पावर कम हो जाती है।

7  लोगों की यह भी धारण है कि ग्रीन टी का कोई साइड इफेक्ट नहीं होता जबकि ज्यादा ग्रीन टी पीने से शरीर में कैल्शियम का अब्जॉर्बशन पूरी तरह नहीं हो पाता और व्यक्ति कई बार एनीमिया का शिकार भी हो सकता है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *