गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के सोने का क्या है सही पॉस्चर


युं तो गर्भावस्था के दौरान बहुत सी बातों का ध्यान रखा जाना चाहिए, मगर इस दौरान कुछ बातों का खास ध्यान रखना चाहिए क्योंकि कुछ चीजों का ध्यान रखकर न सिर्फ मां का बल्कि बच्चे की भी सेहत अच्छी रखी जा सकती है। गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के शरीर में बहुत से परिर्वतन होते रहते हैं, जिसके कारण वे जल्दी जल्दी थक जाती हैं और उन्हें जल्दी जल्दी आराम की आवश्यकता होती है। चूंकि इस अवस्था में महिलाओं की शारीरिक संरचना में काफी बदलाव हो जाता है, इसलिए गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को सोने में सही पॉस्चर का प्रयोग (right posture to sleep during pregnancy) करना चाहिए।  गलत तरीके से सोने से न सिर्फ महिलाओं के शरीर पर खराब असर पड़ता है बल्कि होने वाले बच्चे के शरीर पर भी इसका खराब असर पड़ता है।

कैसे दूर करें घुटने और कोहनी का कालापन

इस दौरान महिलाओ की योनि का आकार भी बढ़ने लगता है, जो उलझन और असुविधा का कारण बनती है। साथ ही साथ प्रोलैक्टिन सेरम नामक हारमोन्‍स शरीर में बनने लगता है जिसके कारण स्‍तन में दूध तथा स्‍तनों में भारीपन आने लगता है, जिसके कारण शरीर के सामने वाला हिस्‍सा काफी असुविधाजनक हो जाता है तथा नींद भी अच्‍छे से नहीं आती है तथा भ्रूण के विकास में बाधा आने लगती है।

गर्भावस्था के दौरान सोने का सही पॉस्चर

गर्भवती महिलाओं को सोने के लिए सबसे अच्‍छी स्थिति सीधा होकर सोना है। कमर में दर्द होने की स्थिति में हल्‍का सा तिरछा होकर सोया जा सकता है।

गर्भवती महिलाओं को जहां तक संभव हो सीधा ही सोना चाहिए। इस दौरान बढ़े हुए यूट्रस के कारण आंत पर जोर पड़ता है जिससे महिलाओं को बार बार उल्टी की समस्या होती है, और सांस लेने में भी दिक्क्तों का सामना करना होता है। ऐसी अवस्था में कमर में दर्द होना आम बात है। अगर किसी गर्भवती महिलाओं के कमर में लगातार दर्द हो तो वे तिरछी होकर भी सकती हैं।

त्वचा में भी निखार लाता है आलूबुखारा


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *