स्वास्थ्य

रातों को जागकर आप दे रहे हैं दिल की बीमारी को दावत

नई दिल्ली | चौकिंए मत, अगर आप को रातों को नींद नहीं आती, या आप देर रात तक जागते रहते हैं तो संभव हैं जल्दी ही आप दिल की बीमारी के शिकार हो जाएं। शोधों में पाया गया है कि जो लोग अनिद्रा के शिकार होते हैं या देर रात तक जागते रहते हैं उनमें स्लीप एपनिया (sleep apnea) होने की संभावना बढ़ जाती है और इस बीमारी से गंभीर दिल के रोग होने का खतरा बढ़ जाता है।

अनियमित दिनचर्या, ज्यादा कॉलेस्ट्रोल, अधिक धूम्रपान का सेवन अथवा उच्चतम रक्तचाप कई बार स्लीप एपनिया (sleep apnea) का कारण होता है। इस रोग में रात में बार बार लोगों की सांस कुछ समय के लिए रूक जाती है, जिन लोगों दिल की बीमारी होती है उनमें से 83 प्रतिशत लोगों को स्लीप एपनिया (sleep apnea) होता है।

अनिंद्रा से पीड़ित लोगों का पाचन तंत्र (digestive system)  धीमा होता है और उनका वजन दिन प्रतिदिन बढ़ता जाता है।  उन्हें वजन कम (weight loose) करने में भी बहुत मुश्किल होती है।

शोधों में पाया गया है कि खराब नींद से शरीर में सी-रिएक्टिव प्रोटीन बढ़ जाता है। जिसकी वजह से चोट लगने पर या संक्रमण होने पर सूजन आ जाती है, इसी वजह से अनिद्रा दिल की प्रणाली पर प्रभाव डालती है।

डॉक्टरों का मानना है कि सेहतमंद दिल के लिए पूरी नींद लेना बहुत जरूरी है। जो लोग नींद पूरी नहीं करते हैं उन्हें व्यायाम करने के बावजूद दिल के रोग होने का खतरा बना रहता है।  जो लोग सात से आठ घंटे नींद लेते हैं वह ज्यादा सजग रहते हैं और ध्यान केंद्रित कर पाते हैं। उन्हें तनाव और बेचैनी कम होती है। अच्छी नींद लेने से पाचन तंत्र और वजन कम करने में मदद मिलती है।

विशेषज्ञ मानते हैं कि रोज 30 से 40 मिनट हल्की एयरोबिक, योग आदि से काफी हद तक अनिद्रा से छुटकारा पाया जा सकता है। रात को कैफीन का प्रयोग से बचना भी अनिद्रा में काफी कारगर उपाय है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें

Read all Latest Post on स्वास्थ्य health in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: sleep disorders can make you heart patient in Hindi  | In Category: स्वास्थ्य health

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *