साक्षात्कार

मेरी पांडुलिपि ने बच्चनजी को आत्मकथा लिखने के लिए प्रेरित किया-अजित कुमार

आप कविता, गद्य, आलोचना के अलावा यात्रा-संस्मरण भी लिखते हैं।

दरअसल मैं कविता, कहानी, उपन्यास पर एक ही समय में सोच सकता हूं। अपने पहले यात्रा वृतांत ‘सफर झोली में’ मैंने ऐसी ही कोशिश की कि वह आलोचना भी हो, कविता भी हो, उपन्यास भी हो, कथा भी हो और उसमें जगहों का वर्णन भी हो। यानी एक मिली-जुली विधा। हम एक ऐसे युग में रह रहे हैं , जहां विधाएं अपने अनुशासन को तोड़ रही हैं। ऐसे में कोई निरा कवि, निरा उपन्यासकार होकर नहीं रह सकता। तो मैं अब एक ऐसी विधा की तलाश में हूं, जिसमें सब कुछ एक साथ बन सके।... मेरा अब मन है कि एक पुस्तक बच्चनजी पर लिखूं। 1962 के बाद उनका और मेरा जो सपर्क रहा उस पर। किताब का नाम रखूंगा। गुरुवर बच्चन से दूर। उनसे दूर हो गया लेकिन उनके पास भी रहा।

आप सबसे ज्यादा सहज किस विधा में महसूस करते हैं, कविता में गद्य में?
सहज तो मैं महसूस करता था कविता में ही, लेकिन मैंने देखा कि मेरी कविता में बहुत से लोगों को रुचि नहीं है। मुझे महसूस होता है कि जीवन का जितना अनुभव लिखने के लिए होना चाहिए उतना अनुभव मैं कर नहीं पाया हूं। 16 साल उम्र में तो सभी कवि हो सकते हैं लेकिन अगर कोई 50 की उम्र में भी कवि बने रहना चाहता है तो उसको जीवन की और अधिक पड़ताल करनी चाहिए, अपने अनुभव को और अधिक समृद्ध बनाना चाहिए। मैं सोचता हूं कि मुझे गद्य में अधिक सुविधा होती है। कंप्यूटर आने के बाद गद्य-लेखन मुझे और भी अधिक सुविधापूर्ण मालूम होता है। कविता तो नहीं लिख सकता कंप्यूटर पर, लेकिन मैंने सुना है कि बाहर बहुत से लोग कंप्यूटर पर कविता लिखते हैं और कभी-कभार तो कंप्यूटर भी खुद ही कविता लिख देता है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें

Read all Latest Post on साक्षात्कार interview in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: interview of famous indian writer ajit kumar by sharad dutt in Hindi  | In Category: साक्षात्कार interview
शरददत्त

शरद दत्त

शरद दत्त जाने-माने फि‍ल्म-निर्माता/लेखक है। वह चार दशक से अधिक समय से इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के साथ संबद्ध हैं। उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों के विशिष्ट व्यक्तियों पर 100 से अधिक वृत्तचित्रों का निर्माण कि‍या है। स्वाधीनता दिवस और गणतंत्र दिवस समारोहों का 33 वर्षों तक सीधा प्रसारण प्रस्तुत किया। इनके अलावा महान संगीतकार अनिल विश्वास की ‘ऋतु आए ऋतु जाए’ शीर्षक से जीवनी। ‘कुंदन’ शीर्षक से कुंदललाल सहगल की जीवनी। और भी कई महत्वसपूर्ण पुस्तकों का लेखन-संपादन। स्वर्ण कमल पुरस्कार, सर्वोत्तम क्रिएटिव प्रोड्यूसर एवार्ड, दूरदर्शन एवार्ड, गणेश शंकर विद्यार्थी पुरस्कार, शमशेर सम्मान आदि‍ कई पुरस्कारों से सम्मा्नि‍त।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *