कहीं उतर तो नहीं गया ‘जूली’ के सर से ‘मटूकनाथ’ का भूत !


लवगुरु के नाम से प्रसिद्ध प्रोफेसर मटुक नाथ चौधरी और उनकी पत्नी आभा चौधरी के बारे में कौन नहीं जानता। बरसों से इन दोनों के बीच चले आ रहे विवाद पर 17 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट ने अपनी मोहर लगाते हुए लव गुरू को आदेश दिया कि अब वो अपने वेतन का एक तिहाई हिस्सा अपनी पत्नी आभा चौधरी को गुज़ारा भत्ता के रूप में देंगे।

कहीं उतर तो नहीं गया 'जूली' के सर से 'मटूकनाथ' का भूत Juli and Matooknath love story new twist

आखिर कौन है मटुकनाथ

जो इस मामले से वाकिफ नहीं है उन्हें बता दें कि साल 2006 में सर्वप्रथम मटुकनाथ का नाम चर्चा का विषय बना, जिसका कारण था अपनी ही कॉलेज की छात्रा से मुहब्बत, वो भी जो उनसे उम्र में करीब करीब तीस साल छोटी थी। छात्रा का नाम था जूली । जब इनके सम्बन्धों की चिंगारी को हवा मिली तो उसका प्रभाव पूरे समाज पर पड़ा, कुछ इनके समर्थन में थे तो कुछ इसे बहुत खराब मान रहे थे। मशहूर गीतकार कुमार विश्वास के गीत की इन लाइनों की तरह…

भ्रमर कोई कुमुदुनी पर मचल बैठा तो हंगामा!
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा!!
अभी तक डूब कर सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का!
मैं किस्से को हकीक़त में बदल बैठा तो हंगामा!!

जी हां! हंगामा, इतना जबरदस्त हंगामा कि मटुकनाथ साहब के साथ तो जूतमपैजार तक हो गई, मगर दोनों ने हिम्मत नहीं हारी और सारी दुनिया की परवाह किए बिना एक हो गए। जूली और मटुकनाथ एक साथ लिव इन रिलेशनशिप में भी रहे।

 

कहीं उतर तो नहीं गया 'जूली' के सर से 'मटूकनाथ' का भूत Juli and Matooknath love story new twist

सात साल में भर गया जूली का दिल

एक दूसरे के प्रेम में पागल मटूकनाथ और जूली ने प्यार के सारे दुश्मनों को ठेंगा दिखाते हुए एक दूसरे का हाथ थामे रखा। इस प्रेमी जोड़े ने अपने अनोखे कारनामों से बहुत सुर्खियां बटोरीं। करवाचौथ पर कभी जूली के नाम का व्रत रखकर मटूकनाथ साहब सोशल मीडिया पर छाए रहे तो कभी वेंलनटाइन डे पर अपनी प्रेमिका जूली को लाखों रुपए का गिफ्ट देकर खुद को जवान प्रेमियों की नजर मे ईर्ष्या का पात्र बना लिया। लेकिन अंत में हुआ वही जावेद अख्तर साहब के लिखे शेर की तरह

नर्म आवाज़, भली बातें, मुहज़्ज़ब लहजे,
पहली बारिश ही में ये रंग उतर जाते हैं,

जूली का मन मटूकनाथ की मोहब्बत से भर गया और  वर्ष 2007 से 2014 तक लिव इन रिलेशनशिप में रहने के बाद एक दिन जूली अपने लव गुरु को छोड़ कर दूसरे शहर में रहने चली गयी। जब से जूली गयी है, मानों मटुकनाथ का जूली से कनेक्शन ही कट गया हो, इस वक़्त वो कहाँ है लव गुरु को इसकी कोई जानकारी तक नहीं है।

कहीं उतर तो नहीं गया 'जूली' के सर से 'मटूकनाथ' का भूत Juli and Matooknath love story new twist

अपने किए पर कोई पछतावा नहीं

फिलहाल मोहब्बत के मारे मटुकनाथ पटना के शास्त्रीनगर मोहल्ले में तीन बेडरूम वाले फ्लैट में काफी समय से अकेले रह रहे है। जब उनके खिलाफ चल रहे मामले में सुप्रीम कोर्ट ने उनसे पूछा कि क्या उनको अपनी करनी पर कोई पछतावा है? तो लव गुरु ने मनमोहक मुस्कान लेते हुए अपने और जूली के प्रेम का गुणगान करने लगे। वो मानते है कि उन दोनों ने प्रेम के प्रकाश से पूरी दुनिया को जगमगाया है, फिर उन्हें पछतावा किस बात का होना चाहिए।

कैसे चढ़ी मटूकनाथ और जूली के प्रेम कहानी परवान

मटुकनाथ आज भी उस पल को याद करते हैं जब उनकी मुलाकात पहली बार जूली से हुई थी। उन्हें अब तक याद है कि साल 2004 में पटना के बीएन कॉलेज में लेक्चरार के पद पर रहते हुए उनकी मुलाकात अपनी छात्रा जूली से हुयी थीं। जूली ने काली पोशाक पहनी हुयी थी और उस दिन वो क्लास में तक़रीबन 7 मिनट लेट आई थी। यही वो समय था जब मटुकनाथ का ध्यान पहली बार जूली पर गया और वो उनको भा गयी थी। हालाँकि बटुकनाथ को कक्षा में देर से आने वाले विद्यार्थी पसंद नहीं थे अत:उन्होंने जूली को भी फटकार लगाते हुए आगे से कक्षा में समय पर आने का आदेश दे डाला।

पर कहते हैं कि वक़्त ने सबके लिए पहले से कुछ न कुछ सोचा होता है और हम कितनी भी कोशिश कर ले उसे बदल नहीं सकते। यह बात इन दोनों की प्रेम कहानी पर बिलकुल सटीक है। पहली मुलाकात में डांट पड़ने के बावजूद इन दोनों के बीच की दूरियां धीरे धीरे कम होने लगीं।  इस नजदीकी का एक कारण यह भी था कि क्लास के अन्य बच्चों के मुकाबले जूली काफी तेज़ थी परन्तु उनकी भाषा बेहद ही अजीब सी थी, जिसकी अक्सर मटुकनाथ आलोचना किया करते थे ।

पहली मुलाकात के 6 महीने बाद जूली ने मटुक नाथ से अपने प्रेम का इज़हार किया। चूँकि प्रेम दोनों तरफ बराबर था अत: मटुकनाथ ने अपने जीवन में पहली बार मोबाइल फोन खरीदा ताकि वो जूली से बतयाया जा सके। कॉलेज से शुरू हुयी मुलाकात अब अकेले स्थानों व पार्क तक पहुँच चुकी थी। परन्तु जल्द ही इस प्रेम कहानी ने एक नया मोड़ लिया जब जूली ने मटुकनाथ के घर आना -जाना शुरू कर दिया। पत्नी और बेटे ने जूली के घर आने पर अपनी आपत्ति को खुले तौर पर ज़ाहिर कर दिया। जिसके बदले आभा को कई बार अपने पति के हिंसक रवैये का सामना करना पड़ा ।

कहीं उतर तो नहीं गया 'जूली' के सर से 'मटूकनाथ' का भूत Juli and Matooknath love story new twist

जूली से पहले भी कई बार मोहब्बत

पर सवाल आता है कि मटुक नाथ को लव गुरु की उपाधि क्यों मिली ? आपको बता दे कि इस बारे में मटुकनाथ ने बताया था कि जब 1978 में उनका विवाह आभा से हुआ तो सब सही था, परन्तु आभा से शादी के दो साल बाद ही उनके जीवन में एक अधूरापन सा रहने लगा। जिसके चलते उनका मन पराई स्त्रियों के पीछे दौड़ने लगा। ऐसा नहीं था कि शादी के बाद उनके जीवन में आने वाली जूली पहली लड़की थी। जूली से पहले भी वो किसी अन्य के प्यार में बवला चुके थे, जिनमे से एक 1981 में उनके जीवन में आई, जो कि जूली की ही तरह एक छात्रा थी तो इसके बाद 1994 में एक महिला के प्यार में वो इस कदर डूब चुके थे कि जब विरह की घड़ी आई तो वो 3 साल तक किसी मजनू की तरह विक्षिप्त हाल में रहे।

कहीं उतर तो नहीं गया 'जूली' के सर से 'मटूकनाथ' का भूत Juli and Matooknath love story new twist

मटुकनाथ की पत्नी ने की कानून की पढ़ाई

अभी नियति ने मटुकनाथ के लिए कुछ और ही सोचा हुयी था, जब मटुकनाथ पत्नी आभा चौधरी से दूर रहने लगे तो इस प्रेम कहानी ने एक नया मोड़ लिया। मटुकनाथ के अलग हो जाने के बाद 53 वर्षीय आभा ने कानून की पढ़ाई शुरू की। दरअसल यह सब अचानक नहीं हुयी। अपने हक़ की लड़ाई लड़ रही आभा को रोज़ कोर्ट जाना होता था, जहाँ अक्सर उन्हें चक्कर लगवाए जाते या फिर इंतजार की घड़ियाँ गिनने के लिए दी जाती। ऐसे में आभा को सबसे आसान तरीका यही लगा कि वो खुद ही अपनी जंग लगे, नतीजन उन्होंने लॉ की डिग्री प्राप्त की। आज जहाँ  मटुक नाथ और आभा चौधरी किसी अजनबी की तरह रह रहे है तो इन सबसे दूर जूली आध्यात्मिकता (मटुकनाथ के मुताबिक़) को अपना चुकी हैं।

 

एक ऐसा इलाका जहां विधवाओं का जीवन जीती हैं सधवा औरतें

हिटलर जैसा क्रूर तानाशाह भी मानता था इस आदमी को अपना आइडियल

क्या वजह थी कि नाकामयाब शोले को हमारी सबसे कामयाब हिंदी फिल्म का रुतबा मिल गया

इश्क़ की कोई उम्र नहीं होती

ये है असली मिस्टर इंडिया जो आंखों के सामने ही हो जाता है गायब

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें

Leave a Reply