खेत खलिहान

खुबानी नई फसल के ज्यादा फायदे

खुबानी का रंग जितना चमकीला होगा, उस में विटामिन सी, ई और पोटेशियम उतना ही ज्यादा होगा। सूखी खुबानी में ताजा खुबानी की तुलना में 12 गुना आयरन, 7 गुना रेशा और 5 गुना विटामिन ए होता है। खुबानी का शरबत भी बहुत जायकेदार होता है।

खुबानी का पेड़ 8 से 12 मीटर तक ऊंचा होता है। ऊपर से पेड़ की टहनियां और पत्ते घने फैले हुए होते हैं। फूल 5 पंखुड़ियों वाले, सफेद या हल्के गुलाबी रंग के छोटे होते हैं। खुबानी का फल एक छोटे आड़ु के बराबर होता है। इस का रंग पीले से ले कर नारंगी होता है, लेकिन जिस तरह सूरज पड़ता हो उस तरफ फल थोड़ा लाल भी हो जाता है।

दुनिया में सब ज्यादा खुबानी तुर्की में उगाई जाती है। मध्यपूर्व तुर्की में स्थित मलत्या क्षेत्र खुबानियों के लिए मशहूर हैं और तुर्की की तकरीबन आधी पैदावार यहीं से होती है। तुर्की के बाद ईरान का नंबर आता है।

खुबानी एक ठंडे प्रदेश का पौधा है और ज्यादा गरमी में या तो मर जाता है या फल पफदा नहीं करता। भारत में खुबानी उत्तर के पहाड़ी इलाकों में कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड में पैदा की जाती है।

सूखी खुबानी को भारत में बादाम, अखरोट की तरह एक सूखा मेवा माना जाता है। कश्मीर और हिमाचल प्रदेश के कई इलाकों में सूखी खुबानी को किश्त कहते हैं। यह माना जाता है कि कश्मीर के किश्तवार इलाके का नाम सूखी खुबानियों की वजह से ही पड़ा है।
भारत में खुबानी की पैदावार बहुत कम है। इस की वजह यहां का अलग-अलग मौसम और इलाके के मुताबिक ज्यादा उपज देने वाली वैरायटियां की कमी है। किसानों को भी इस के बारे में कोई ज्यादा जानकारी नहीं है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *