यूकेलिप्टस है कमाई का लंबा जरिया


खुद किसान को लकड़ी की जरूरत रहती है। इस के लिए उसे बाजार से लकड़ी खरीदनी पड़ती है। अगर किसान अपने खेत में यूकेलिप्टस के पेड़ लगाएं तो वे कई काम एक साथ कर सकते हैं।

जंगल कटने और निर्माण उद्योग के तेजी से बढ़ने के कारण इमारती लकड़ी की कमी हो गई है। इस कमी की वजह से लकड़ी के दाम भी आसमान छूने लगे हैं। किसान वक्त की मांग को समझ कर खेतों में इमारती लकड़ी के पेड़ लगा कर अपनी आमदनी बढ़ा सकते हैं।

यूकेलिप्टस मूल रूप से ऑस्ट्रेलिया का पौधा है। यह तेजी से बढ़ने वाला, सीधे तने व हलके फैलाव वाला पौधा होता है। इस का इस्तेमाल इमारती लकड़ी, फर्नीचर, पेटियां, लुगदी, ईंधन, पार्टिकल बोर्ड, हार्ड बोर्ड वगैरह बनाने में किया जाता है।

कृषि वानिकी के तहत किसान अपने खेतों में यूकेलिप्टस लगा कर ईंधन, लकड़ी हासिल करने के साथ डबल कमाई कर सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें

श्री राम शर्मा

श्री राम शर्मा

पत्रकारिता की शुरुआत दैनिक हिन्दुस्तान अख़बार से की। करीब 5 साल हिन्दुस्तान में सेवाएं देने के बाद दिल्ली प्रेस से जुड़े। यहां प्रतिष्ठित कृषि पत्रिका फार्म एन फूड में डिप्टी एडिटर के तौर पर करीब 8 साल काम किया। खेती-किसानी के मुद्दों पर देश के विभिन्न हिस्सों की यात्राएं करते हुए तमाम लेख लिखे। वे ऑल इंडिया रेडियो से भी जुड़े हुए हैं और यहां भी खेती-किसानी की बात को विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से प्रमुखता से उठाते रहते हैं। वर्तामान में डीडी न्यूज दिल्ली से जुड़े हुए हैं।

Leave a Reply