आलेख मनोरंजन

बरेली की बर्फी : पुरानी दाल में जायकेदार तड़का

बॉलीवुड में Love Triangle कहानी पर इतनी फिल्मे बनी है, कि अब समझ नही आता है कि यह विषय नया है या पुराना | फिल्म संगम से लेकर कुछ कुछ होता है, तक इसी फार्मूले पर बनी है और सभी फिल्मे सुपरहिट रही हैं | इसी परम्परा को आगे बढ़ाते हुए बरेली की बर्फी पुरानी दाल में जायकेदार तड़का है, जिसको चखने के बाद आप कई दिनों तक इसका चटकारा लेते रहेंगे |

फिल्म फ्रेंच नोवल ‘इंग्रीडियेंट ऑफ लव’ से पूरी तरह से इंस्पायर्ड है । फिल्म की शुरुआत किरदारों का परिचय करवाती जावेद अख्तर की जानदार आवाज से होती है। बरेली की बर्फी एक किताब का नाम है, जिसे बरेली की रहने वाली बिगडेल बिट्टी मिश्रा पढना शुरू करती है और उसे इसके लेखक से प्यार हो जाता है | किताब का पब्लिशयर ही इस किताब का लेखक भी है जो अपनी पहचान छुपाते हुए किताब को अपने बचपन के दोस्त के नाम से छाप देता है | इस किताब का पब्लिशयर बिट्टी को मन ही मन चाहता है और और बिट्टी किताब के लेखक की इस कदर दीवानी हो जाती है कि वो लेखक को ढूंढने लगती है | इसी ताने बाने के बीच एक Love Triangle की पुरानी दाल में जायकेदार तड़का कुछ इस तरह लग जाता है कि फिल्म मज्जेदार बन जाती है |

राजकुमार राव की एक्टिंग हमेशा की तरह लाजवाब है, जितनी देर के लिए भी राजकुमार परदे पर आते है, अपनी छाप छोड़ते है | आयुष्मान खुराना उम्मीद पर खरे उतरते है तो कृति सैनन की एक्टिंग में पहले से अच्छा सुधार इस फिल्म में देखने को मिलता है | फिल्म में हर वो मसाला है जो दर्शको के मनोरंजन के लिए जरूरी है | निल बट्टे सन्नाटा फेम अश्विनी अय्यर तिवारी ने इस फिल्म का निर्देशन किया है, जो इस बार भी बाज़ी मार ले जाती है । फिल्म में एकाध गीत को छोड़कर कोई भी ऐसा गीत नही है जो ज्यादा दिनों तक याद रह सके | अरिजीत सिंह की आवाज़ में बैरागी गीत कर्णप्रिय है |

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *