फिल्म समीक्षा

न्यूटन : जवाब नही, सवाल है ये

न्यूटन कहानी है उस वर्ग की जिसको नेता और आम जनता दोनों ही अक्सर नज़रंदाज़ करते है | फिल्म 92,300 वर्ग किलोमीटर में फैले दंडकारण्य में रहने वाली जनता की बात करती है | छत्तीसगढ़, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और तेलंगाना की सीमा से लगा हुये, इस क्षेत्र को पिछले काफी वर्षो से माओवादियों का गढ़ माना जाने लगा है | यहाँ के क्षेत्रवासियों की अपनी ही दुनिया है जो कि आज की दुनिया से बहुत ही पीछे है | यहाँ के वासियों को न तो दिल्ली में बनी सरकार से, आईफोन मोबाइल से और न ही GST जैसे फैसलों से कोई फर्क नही पड़ता | फिल्म का नायक भी यहाँ जाता है और इलेक्शन के महत्व को समझाता है | न्यूटन जवाब तो दंडकारण्य के वासियों को दे रहा होता है मगर इन जवाबो में पूरे समाज से सवाल कर रहा होता है |

फिल्म की कहानी एमएससी पास एक आशावादी लड़के की है जिसका नाम है नूतन कुमार | न्यूटन सरकारी विभाग में कार्यरत है और विभाग का नाम है इलेक्शन कमीशन | नूतन कुमार न्यूटन क्यों बनता है ये फिल्म के एक डायलॉग से साफ़ तौर पर ज़ाहिर हो जाता है, न्यूटन कहता है – ““मां-बाप ने नूतन कुमार नाम रखा था तो सब लोग बहुत मजाक उड़ाते थे, तो  मैंने टेंथ के फॉर्म में ‘नू’ का ‘न्यू’ और ‘तन’ का ‘टन’ कर दिया |”  मगर कहानी में रोमांचक मोड़ तब आता है, जब न्यूटन नक्सल प्रभावित इलाके में चुनाव करवाने की जिद्द ठान लेता है | चूँकि ऐसे इलाको हर समय गोली चलने का और जान जाने का डर लगा रहता है तो यहाँ चुनाव कराना बेहद टेड़ी खीर होता है । इस बात को जानते हुए भी न्यूटन नक्सली इलाके  में मतदान कराने के साथ साथ वहां के वासियों को चुनाव का मतलब समझाने और इसके प्रति जागरुक करने के लिए आगे आ जाता है । फिल्म में न्यूटन कहता भी है - “मेरे से भी पहले बहुत पहले एक न्यूटन था | पढ़ाई करते वक्त उसकी बात कभी समझ नहीं आई, पर अब काम करते वक्त आ रही है कि जब तक कुछ नहीं बदलोगे न दोस्त तो कुछ नहीं बदेलगा |” इसी ताने बाने के बीच फिल्म आपको हँसाती भी है और आपके लिए कई सवाल भी छोड़ जाती है |

राजकुमार राव एक के बाद एक बेहतरीन फिल्मे कर रहे है और यक़ीनन ये उनके अब तक के कैरियर की सबसे बेहतरीन फिल्म है | फिल्म का निर्देशन गज़ब का है और सिनेमेटोग्राफी लाजवाब है | सह-कलाकारों में पंकज त्रिपाठी, अंजली पाटिल, रघुबीर यादव और संजय मिश्रा ने अपने किरदार बखूबी निभाए है | नये निर्देशक होने के बावजूद अमित मसुरकर की फिल्म पर पकड़ बेहद मजबूत है | फिल्म की जितनी तारीफ की जाए वो कम है | फिल्म की पूरी यूनिट की मेहनत का ही रंग है कि फिल्म को ऑस्कर के लिए भेजा जा रहा है, इसलिए फिल्म की पूरी यूनिट को बधाई |

 

 

Read all Latest Post on फिल्म समीक्षा movie_review in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: newton no answer its a question in Hindi  | In Category: फिल्म समीक्षा movie_review

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *