सोनू के टीटू की स्वीटी : दोस्ती और कॉमेडी का कॉकटेल


नुसरत भरुचा और कार्तिक आर्यन की जोड़ी एक बार फिर सिनेमा घरो पर दर्शको का मनोरंजन करने के लिए आ रहे है, अब तक इस जोड़ी ने तीन फिल्मो में काम किया है और ये इनकी चौथी फिल्म है । मगर इस बार एक ट्विस्ट है कि इस फिल्म में नुसरत और कार्तिक रोमांटिक कपल न होकर होने वाले देवर-भाभी बने है और नुसरत की जोड़ी इस फिल्म में सनी सिंह के साथ है । बहराल 2 घंटे 20 मिनट की यह फिल्म आपको हँसाने में कोई कमी नहीं छोड़ेगी ।

फिल्म की कहानी तो लंगोटियां यार सोनू और टीटू की है, दोनों ने बचपन से हर चीज़ शेयर की है और सोनू टीटू की केयर एक माँ की तरह करता है और टीटू की ज़िन्दगी के सभी महत्वपूर्ण फैसले सोनू ही लेता है । टीटू आज के ज़माने के हिसाब से बिलकुल सीधा है, जिसके चलते अमीर खानदान के टीटू को कोई नहीं कोई लड़की बहला- फुसला लेती है, ऐसे में उसकी मदद हमेशा उसका दोस्त सोनू करता है । अपने ताज़ा ब्रेकअप से परेशान टीटू शादी करने के लिए तैयार हो जाता है और लड़की का नाम है स्वीटी । मगर सोनू को लगता है कि स्वीटी उसके दोस्त टीटू के लिए सही लड़की नहीं है, जबकि टीटू स्वीटी से ही शादी करना चाहता है । फिल्म का क्लाइमेक्स यही है कि क्या सोनू टीटू और स्वीटी की शादी रोक पायेगे ? क्या ये दोस्ती हमेशा बरक़रार रहेगी ? फिल्म का अंत जानने के लिए आपको सिनेमा हाल तक जाना पड़ेगा ।

लव रंजन ने फिल्म का निर्देशन अच्छी तरह से किया है, मगर वो चाहते तो इस फिल्म को और मनोरंजक बना सकते थे । फिल्म में नुसरत सुंदर दिखने के साथ साथ नकारात्मक भूमिका में फब्ती है । सनी सिंह इनोसेंट लड़के के रोल में अच्छे लगते है, मगर पूरी फिल्म कार्तिक आर्यन के कंधो पर टिकी हुयी है, जिसमे कभी वो सफल तो कभी थके हुए नज़र आते है, फिर भी वो अपने हिस्से के किरदार को बखूबी निभाने में सफल होते है यह कहना गलत नहीं होगा । दर्शको के लिए इस फिल्म में एक सरप्राइज था और वो थे अलोक नाथ । 2006 में आई विवाह के बाद से अलोक नाथ पर संस्कारी बाऊ जी का टैग जैसे चिपक ही गया था, इस फिल्म में वो उस टैग को हटाते हुए नज़र आते है । इन सबके अलावा दीपिका अमीन, आयशा रज़ा मिर्ज़ा, वीरेंद्र सक्सेना, राजेश जैस, पवन चोपड़ा और मधुमती कपूर ने अपनी भूमिका अच्छी तरह से निभायी है ।

इस वीकेंड पर इससे बेहतर कोई फिल्म नहीं है, फिल्म में कुछ कमियां है मगर जब फिल्म पूरी तरह से मनोरंजक को तो आप छोटी-मोटी गलती को नज़रंदाज़ कर भी दे तो कोई फर्क नहीं पड़ता ।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें

सुमित नैथानी

सुमित नैथानी

सुमित नैथानी पेशे से ब्लॉगर व लेखक हैं। कई क्षेत्रीय पत्र पत्रिकाओं के लिए लेखन के साथ जागरण जंक्शन (दैनिक जागरण का ब्लॉग ) पर भी लगातार लिखते रहे हैं।

Leave a Reply