रांची डायरीज : मुख्य पृष्ठ से आकर्षक अंदर से बकवास


ओम जय जगदीश में निर्देशन का कार्यभार सँभालने के बाद अब अनुपम खेर दर्शको के बीच निर्माता के तौर पर रांची डायरीज लाये है जिसका निर्देशन सात्विक मोहंती ने किया है और सात्विक की ये पहली फिल्म है | अपनी पहली ही फिल्म से निराश करते है | निर्देशक फिल्म में हास्य का पुट डालने के चक्कर में फिल्म का कबाड़ा कर देते है |

फिल्म की कहानी रांची के कुछ युवाओ की है, जो जल्द से जल्द अमीर बनने के चाहत में गलत रास्ते को चुन लेते है | जिसके बाद इनके जीवन में एक के बाद कई परेशानियाँ शुरू हो जाती है |

फिल्म की कहानी न तो नयी और न ही दमदार और इसके ऊपर से कमजोर स्क्रीन प्ले | हां, फिल्म का क्लाइमेक्स बहुत अच्छा है, मगर क्लाइमेक्स आने तक आधे से ज्यादा जनता सिनेमा घर से बाहर आ चुकी होती है | करेले पर नीम चढ़े का काम करते है फिल्म के थके हुए संवाद, बेकार लोकेशन और बोर करता हुआ संगीत |

फिल्म की स्टार कास्ट की बात की जाए तो अनुपम खेर, जिमी शेरगिल, सौंदर्या शर्मा, हिमांश कोहली जैसे स्टार होने के बावजूद फिल्म अपनी स्टोरी की वजह से मार खा जाती है और इस फिल्म को मुख्य पृष्ठ (अनुमम खेर और जिमी शेरगिल से ) से आकर्षित होकर फिल्म न देखने जाए क्योंकि ये डायरी अंदर से पूरी तरह से बकवास है |


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *