हर बार शाहरुख का दिल क्यों आता है किसी और की प्रेमिका पर


शाहरुख खान की अपनी ताज़ा रिलीज़ फिल्म ‘जब हैरी मेट सेजल’  में सेजल(अनुष्का शर्मा), जिनकी सगाई पहले ही किसी और से हो चुकी होती है, से इश्क फरमाते हुए नज़र आते है, वैसे फिल्म के अंत में सेजल की शादी हैरी से ही होती है। ऐसा पहली बार नही हुआ है, इससे पहले भी शाह रुख दूसरों की गर्लफ्रेंड, मंगेतर या पत्नी से प्यार करते हुए फिल्मो में दिखाये जा चुके हैं –

डर

हर बार शाहरुख का दिल क्यों आता है किसी और की प्रेमिका पर when shahrukh khan fell in love with committed women

कि कि कि किरण…. जब जब शाहरुख़ के अभिनय की तारीफ होगी तब तब 1993 में रिलीज़ डर का नाम जरूर लिया जायेगा। इस फिल्म में राहुल (शाह रुख़) किरण नाम की लड़की से प्यार करता है, मगर किरण की शादी किसी और से हो जाती है। इसके बाद राहुल किरण और उसके पति को परेशान करना शुरू कर देते हैं। अंत में किरण का पति राहुल को मार देता है।

दिल तो पागल है

हर बार शाहरुख का दिल क्यों आता है किसी और की प्रेमिका पर when shahrukh khan fell in love with committed women

1997 में आयी “दिल तो पागल है” लगभग सभी ने देखी है। इस फिल्म में राहुल (शाहरुख) को, पूजा (माधुरी दीक्षित) से प्यार हो जाता है, जबकि पूजा अजय (अक्षय कुमार) को पसंद करती है। मगर निर्देशक यश चोपड़ा की मेहरबानी से फिल्म के अंत में राहुल और पूजा एक हो जाते हैं।

अंजाम

हर बार शाहरुख का दिल क्यों आता है किसी और की प्रेमिका पर when shahrukh khan fell in love with committed women

1994 में आई अंजाम एक ऐसे अमीरजादे की कहानी है जिसका दिल एक शादीशुदा औरत पर आ जाता है और ये दीवानगी इतनी बढ़ जाती है कि वो उसके पति का कत्ल भी कर देता है। इस फिल्म में शाहरुख़ ने एक मानसिक रोगी का किरदार बखूबी निभाया था।

करण अर्जुन

हर बार शाहरुख का दिल क्यों आता है किसी और की प्रेमिका पर when shahrukh khan fell in love with committed women

1995 की करण-अर्जुन में भी कुछ ऐसा ही होता है। शाहरुख़ काजोल को पसंद करते है मगर काजोल की सगाई किसी और के साथ हो रखी होती है मगर फिल्म के अंत में ये जोड़ा एक हो जाता है ।

दिलवाले दुल्हनियां ले जाएंगे

हर बार शाहरुख का दिल क्यों आता है किसी और की प्रेमिका पर when shahrukh khan fell in love with committed women

शाहरुख़ खान के कैरियर की सबसे बड़ी फिल्म दिलवाले दुल्हनियां ले जायेंगे में भी शाहरुख़ काजोल को पसंद करते हैं मगर काजोल की शादी किसी और से होने वाली होती है।  1995 में रिलीज इस फिल्म ने शाहरुख़ को रोमांटिक हीरो के तौर पर स्थापित किया था।

परदेश

हर बार शाहरुख का दिल क्यों आता है किसी और की प्रेमिका पर when shahrukh khan fell in love with committed women

ऐसा ही कुछ 1997 में आई परदेश में होता है, महिमा चौधरी की सगाई अपूर्व अग्निहोत्री से हो जाता है और शाहरुख़ को महिमा से प्यार। अंत बिलकुल शुद्ध तरीके से दोनों के विवाह पर होता है।

कुछ कुछ होता है

हर बार शाहरुख का दिल क्यों आता है किसी और की प्रेमिका पर when shahrukh khan fell in love with committed women

1998 में आई कुछ कुछ होता है, शाहरुख़ की इस परंपरा की अगली इन्सटॉलमेंट के तौर पर पेश की जाती है, जहाँ शाहरुख़ एक बार फिर काजोल के प्यार में तब पड़ जाते है जब काजोल की शादी सलमान खान से होने वाली होती है ।

चलते चलते

हर बार शाहरुख का दिल क्यों आता है किसी और की प्रेमिका पर when shahrukh khan fell in love with committed women

2003 में शाहरुख़ फिर से खुद को रिपीट करते है और इस बार वो रानी मुखर्जी का घर तोड़ते है, फिल्म थी चलते चलते

वीर जारा

हर बार शाहरुख का दिल क्यों आता है किसी और की प्रेमिका पर when shahrukh khan fell in love with committed women

मदन मोहन के संगीत से सजी और यश चोपड़ा द्वारा निर्मित वीर ज़ारा (2004) में शाहरुख़ को एक मुस्लिम लड़की से प्यार हो जाता है, जिसकी सगाई पहले ही किसी और के साथ हो चुकी होती है। फिल्म में बहुत सारे ट्विस्ट लाने के बाद आखिर में ज़ारा वीर की हो जाती है ।

कभी अलविदा न कहना

हर बार शाहरुख का दिल क्यों आता है किसी और की प्रेमिका पर when shahrukh khan fell in love with committed women

2006 में आई कभी अलविदा न कहना में शाहरुख़ अपनी पत्नी को छोड़कर किसी और की पत्नी पर फ़िदा हो जाते है ।

जब तक है जान

हर बार शाहरुख का दिल क्यों आता है किसी और की प्रेमिका पर when shahrukh khan fell in love with committed women

2012 में आई जब तक है जान भी इसी श्रंखला की अगली कड़ी है | शाहरुख़ को कटरीना कैफ से उस वक़्त मोहब्बत हो जाती है, जब उनकी सगाई एक ब्रिटिश नागरिक से हो जाती है |

चेन्नई एक्सप्रेस

हर बार शाहरुख का दिल क्यों आता है किसी और की प्रेमिका पर when shahrukh khan fell in love with committed women

2013 में आई चेन्नई एक्सप्रेस इन्ही कहानियों को कॉमेडी फ्लेवर में दर्शको के बीच परोसी जाती है, और दर्शक समझ भी नही पाते कि शाहरुख़ ये सब पहले भी कई बार लोगो कर दिखाकर अपना कलेक्शन मजबूत कर चुके हैं।

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें

Leave a Reply