गजल

कहाँ तो तय था चराग़ाँ हर एक घर के लिये : दुष्यंत कुमार

कहाँ तो तय था चराग़ाँ हर एक घर के लिये : दुष्यंत कुमार Kaha to tay tha charagaa harek ghar ke liye dushyant kumar ki gazal

कहाँ तो तय था चराग़ाँ हर एक घर के लिये

कहाँ चराग़ मयस्सर नहीं शहर के लिये

यहाँ दरख़्तों के साये में धूप लगती है

चलो यहाँ से चले और उम्र भर के लिये

न हो क़मीज़ तो घुटनों से पेट ढक लेंगे

ये लोग कितने मुनासिब हैं इस सफ़र के लिये

ख़ुदा नहीं न सही आदमी का ख़्वाब सही

कोई हसीन नज़ारा तो है नज़र के लिये

वो मुतमइन हैं कि पत्थर पिघल नहीं सकता

मैं बेक़रार हूँ आवाज़ में असर के लिये

जियें तो अपने बग़ीचे में गुलमोहर के तले

मरें तो ग़ैर की गलियों में गुलमोहर के लिये.

 

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: kaha to tay tha charagaa harek ghar ke liye dushyant kumar ki gazal | In Category: गजल  ( ghazal )

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *