गजल

मैं अपने इख़्तियार में हूँ भी नहीं भी हूँ-निदा फ़ाज़ली

मैं अपने इख़्तियार में हूँ भी नहीं भी हूँ-निदा फ़ाज़ली Nida Fazali ki gazal Mai apne Ikhtiyaar mai hanu bhi nahi bhi hanu

मैं अपने इख़्तियार में हूँ भी नहीं भी हूँ
दुनिया के कारोबार में हूँ भी नहीं भी हूँ.

तेरी ही जुस्तुजू में लगा है कभी कभी
मैं तेरे इंतिज़ार में हूँ भी नहीं भी हूँ.

फ़हरिस्त मरने वालों की क़ातिल के पास है
मैं अपने ही मज़ार में हूँ भी नहीं भी हूँ.

औरों के साथ ऐसा कोई मसअला नहीं
इक मैं ही इस दयार में हूँ भी नहीं भी हूँ.

मुझ से ही है हर एक सियासत का ऐतबार
फिर भी किसी शुमार में हूँ भी नहीं भी हूँ.

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: nida fazali ki gazal mai apne ikhtiyaar mai hanu bhi nahi bhi hanu | In Category: गजल  ( ghazal )

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *