गजल

लोग हर मोड़ पर रुक – रुक के संभलते क्यों हैं: राहत इन्दौरी

लोग हर मोड़ पर रुक – रुक के संभलते क्यों हैं: राहत इन्दौरी Rahat Induari Gazal in hindi: Log har mod par ruk ruk ke sambhalte kyo hai

लोग हर मोड़ पर रुक – रुक के संभलते क्यों है

इतना डरते है तो फिर घर से निकलते क्यों है

मैं ना जुगनू हूँ दिया हूँ ना कोई तारा हूँ

रौशनी वाले मेरे नाम से जलते क्यों हैं

नींद से मेरा ताल्लुक ही नहीं बरसों से

ख्वाब आ – आ के मेरी छत पे टहलते क्यों हैं

मोड़ तो होता हैं जवानी का संभलने के लिये

और सब लोग यही आकर फिसलते क्यों हैं

-राहत इन्दौरी

 

Read all Latest Post on गजल ghazal in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: rahat induari gazal in hindi log har mod par ruk ruk ke sambhalte kyo hai in Hindi  | In Category: गजल ghazal

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *