कविता

सुभद्रा कुमारी चौहान की कविता: राखी की चुनौती

सुभद्रा कुमारी चौहान की कविता: राखी की चुनौती Hindi Poem : Subhadra Kumari Chauhan Poem Rakhi Ki Chunauti

बहिन आज फूली समाती न मन में ।

तड़ित आज फूली समाती न घन में ।।

घटा है न झूली समाती गगन में ।

लता आज फूली समाती न बन में ।।

कही राखियाँ है, चमक है कहीं पर,

कही बूँद है, पुष्प प्यारे खिले हैं ।

ये आयी है राखी, सुहाई है पूनो,

बधाई उन्हें जिनको भाई मिले हैं ।।

मैं हूँ बहिन किन्तु भाई नहीं है ।

है राखी सजी पर कलाई नहीं है ।।

है भादो घटा किन्तु छाई नहीं है ।

नहीं है खुशी पर रुलाई नहीं है ।।

मेरा बंधु माँ की पुकारो को सुनकर-

के तैयार हो जेलखाने गया है ।

छिनी है जो स्वाधीनता माँ की उसको

वह जालिम के घर में से लाने गया है ।।

मुझे गर्व है किन्तु राखी है सूनी ।

वह होता, खुशी तो क्या होती न दूनी ?

हम मंगल मनावे, वह तपता है धूनी ।

है घायल हृदय, दर्द उठता है खूनी ।।

है आती मुझे याद चित्तौर गढ की,

धधकती है दिल में वह जौहर की ज्वाला ।

है माता-बहिन रो के उसको बुझाती,

कहो भाई, तुमको भी है कुछ कसाला ? ।।

है, तो बढ़े हाथ, राखी पड़ी है ।

रेशम-सी कोमल नहीं यह कड़ी है । ।

अजी देखो लोहे की यह हथकड़ी है ।

इसी प्रण को लेकर बहिन यह खड़ी है ।।

आते हो भाई ? पुन पूछती हूँ--

कि माता के बन्धन की है लाज तुमको?

-तो बन्दी बनो, देखो बन्धन है कैसा,

चुनौती यह राखी की है आज तुमको । ।

 

 

Read all Latest Post on कविता kavita in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: hindi poem subhadra kumari chauhan poem rakhi ki chunauti in Hindi  | In Category: कविता kavita

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *