bollywood news - बड़ी खबरें

फिल्म समीक्षा मनोरंजन

तुम्हारी सुलू – सपनो की उड़ान

वैसे तो फिल्म का निर्माण महिला वर्ग को रख कर किया गया है, फिर भी यदि आपने बहुत दिनों से कोई पारिवारिक फिल्म नही देखी है तो यक़ीनन तुम्हारी सुलु आपके ही लिए ही है | फिल्म में कुछ कमियां है, चाहे तो आप उन्हें नज़रंदाज़ कर फिल्म का लुफ्त उठा सकते है | फिल्म […]
फिल्म समीक्षा मनोरंजन

इत्तेफाक : कही कोई इत्तेफाक नहीं

1969 का वो दौर जब राजेश खन्ना अपने करियर ग्राफ को आगे बढ़ा रहे थे तो उन्होंने बी.आर.चोपड़ा के बैनर तले एक फिल्म की जिसके निर्देशक थे यश चोपड़ा, फिल्म का नाम इत्तेफाक | फिल्म एक अमेरिकन फिल्म Signpost to Murder का हिन्दी वर्जन था, जिसे राजेश खन्ना और नंदा ने रूपहेले पर्दे पर फिर […]
फिल्म समीक्षा मनोरंजन

रांची डायरीज : मुख्य पृष्ठ से आकर्षक अंदर से बकवास

ओम जय जगदीश में निर्देशन का कार्यभार सँभालने के बाद अब अनुपम खेर दर्शको के बीच निर्माता के तौर पर रांची डायरीज लाये है जिसका निर्देशन सात्विक मोहंती ने किया है और सात्विक की ये पहली फिल्म है | अपनी पहली ही फिल्म से निराश करते है | निर्देशक फिल्म में हास्य का पुट डालने […]
फिल्म समीक्षा मनोरंजन

शेफ : वेलकम बेक सैफ

जिस तरफ से एक के बाद एक कॉपीएड फिल्मे आ रही है, उससे तो ऐसा प्रतीत होता है कि बॉलीवुड में कहानियों का अकाल पड़ता जा रहा है | जहाँ पिछले हफ्ते जुड़वाँ 2 पुरानी जुड़वाँ की नक़ल थी तो इस हफ्ते हॉलीवुड फिल्म शेफ का हिंदी रुपान्तरण लेकर दर्शको के बीच राजा कृष्णा मेनन […]
फिल्म समीक्षा

पटेल की पंजाबी शादी : फीकी फीकी सी जलेबी

जिस फिल्म में ऋषि कपूर, परेश रावल और प्रेम चोपड़ा जैसे बेहतरीन कलाकार हो और संजय छैल का निर्देशन हो तो फिल्म से उम्मीदें अधिक होने लगती है, मगर पटेल की पंजाबी शादी आपकी उम्मीदों पर पानी फेरने में कोई कसर नही छोडती | फिल्म का पूरा नाम है 'पटेल की पंजाबी शादी:लड़ो मगर प्यार […]
फिल्म समीक्षा

लखनऊ सेंट्रल : ख्वाबों का जैसे टूट जाना

बॉलीवुड के ऐसे कलाकारों में से एक फरहान अख्तर है जो हमेशा कुछ अलग करने में विश्वास रखते है और इस बार वो अकेले नही आये है अपने साथ वो इनामुल हक, डायना पेंटी, दीपक डोबरियाल, गिप्पी ग्रेवाल, राजेश शर्मा, रॉनित रॉय, मनोज तिवारी और रवि किशन जैसे बड़े स्टारों के साथ आये है | […]
फिल्म समीक्षा

न्यूटन : जवाब नही, सवाल है ये

न्यूटन कहानी है उस वर्ग की जिसको नेता और आम जनता दोनों ही अक्सर नज़रंदाज़ करते है | फिल्म 92,300 वर्ग किलोमीटर में फैले दंडकारण्य में रहने वाली जनता की बात करती है | छत्तीसगढ़, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और तेलंगाना की सीमा से लगा हुये, इस क्षेत्र को पिछले काफी वर्षो से माओवादियों का गढ़ […]
फिल्म समीक्षा

किंग्समैन द गोल्डन सर्कल : इनका अंदाज़ है अलग

2014 में आयी किंग्समैन : द सीक्रेट सर्विस की अगली कड़ी के रूप में दर्शको के बीच किंग्समैन : द गोल्डन सर्कल पेश है | किंग्समैन : द सीक्रेट सर्विस के मुकाबले ये फिल्म थोड़ी सी कमजोर है, मगर entertainment के मामले में ये फिल्म आपकी उम्मीदों पर खरा उतरेगी | इस सीरीज के पहले […]
फिल्म समीक्षा

भूमि : सिर्फ और सिर्फ संजय दत्त  

2016 में जेल से रिहाई के बाद फिर एक बार संजय दत्त किसी फिल्म में मुख्य भूमिका में आ रहे है, फिल्म का नाम है भूमि, जिसका निर्देशन ओमंग कुमार ने किया है | फैन्स के लिए सच में संजय दत्त की एक परफेक्ट कमबैक है और ये कहना भी गलत नही होगा कि यह […]
फिल्म समीक्षा मनोरंजन

बाबुमोशाय बन्दूकबाज़ : यमराज का एजेंट

2012 में आयी गैंग्स ऑफ़ वासेपुर आज भी लोगो के बीच दो ही कारणों के जानी जाती है पहली इसमें भरपूर गालियों का प्रयोग और दूसरा इसका एडल्ट कंटेंट | यह कहना बिलकुल गलत नही होगा कि 2017 में रिलीज़ बाबुमोशाय बन्दूकबाज़ इसी प्रथा की अगली कड़ी है । फिल्म में द्विअर्थी (double meaning) शब्दों […]