lekhak manch - बड़ी खबरें

साहित्य

संस्मरण : मेरी पाठशाला

मैंने रैक में किताब के ऊपर किताब रख दी। ”अनुराग, यह क्या कर रहा है? ऐसे किताब के ऊपर किताब या कोई चीज नहीं रखते। कवर खराब हो जाता है।” मैंने चौंककर देखा, कोई नहीं था। मैं लेख लिख रहा था। शब्द गलत लिखा गया। मैंने उस पर चार-पांच बार पेन फेर दिया। ”यह क्या […]
खासखबर

अब शब्‍दों का विश्‍व बैंक बनाने की तैयारी : अनुराग

आधुनिक काल में हिन्‍दी के पहले शब्‍दकोश ‘समांतर कोश’(1996), ‘द हिंदी-इंग्लिश इंग्लिश-हिंदी थिसारस ऐंड डिक्शनरी’(2007) जैसे महाग्रंथ और ‘अरविंद लैक्सिकन’(2011) के रूप में इंटरनैट पर विश्‍व को हिन्‍दी-अंग्रेजी के शब्‍दों का सबसे बड़ा ऑनलाइन ख़ज़ाना देने वाले अरविंद कुमार अब ‘शब्दों का विश्‍व बैंक’ बनाने की तैयारी में जुटे हैं। उनके डाटाबेस में हिन्‍दी-इंग्लिश के […]