Home Posts tagged meri pathshala
साहित्य

संस्मरण : मेरी पाठशाला

मैंने रैक में किताब के ऊपर किताब रख दी। ”अनुराग, यह क्या कर रहा है? ऐसे किताब के ऊपर किताब या कोई चीज नहीं रखते। कवर खराब हो जाता है।” मैंने चौंककर देखा, कोई नहीं था। मैं लेख लिख रहा था। शब्द गलत लिखा गया। मैंने उस पर चार-पांच बार पेन फेर दिया। ”यह क्या […]