Stock market - बड़ी खबरें

अर्थ जगत

कुछ कंपनियों के शेयर जिन्हें जाड़ों में लग जाती है ठंड

हर साल चुनिंदा महीनों में विभिन्न क्षेत्रों में कुछ आंकड़े ऐसे होते हैं जो अगले साल फिर लगभग उसी तरह के होते हैं। ऐसा उन महीनों में फिर से उस मौसम के वापस आ जाने की वजह से होता है। आम तौर पर यह विभिन्न सामानों के उत्पादन और बिक्री में देखा जाता है। उदाहरण […]
अर्थ जगत

कंपनियां और ग्राहक, दोनों को भाती है बीमा की ऑनलाइन छतरी

बीमा नियामक, इंश्योरेंस रेगुलेटरी डेवलपमेंट अथॉरिटी (आईआरडीए) की ओर से हाल ही में कई नियमों को सख्त किया गया जिनमें से एक एजेंटों के कमीशन में कमी, भी शामिल था। इरडा के इस कदम के बाद से ऑनलाइन पॉलिसियों की बिक्री में अच्छा-खासा इजाफा देखने को मिला। पिछले कुछ महीनों में ही जहां एगॉन रेलिगियर […]
अर्थ जगत

समय के साथ बदली बीमा कंपनियों की सोच महिलाओं के लिए भी हैं बहुत सारी पॉलिसी

पौराणिक काल से महिलाओं को घर गृहस्थी संभालने का जिम्मा ही दिया जाता रहा है। उन्हें सिर्फ घरों तक सीमित रखा जाता था। शुरुआती दिनों में इंश्योरेंस के लिए योग्य, सिर्फ पुरूषों को ही समझा जाता था क्योंकि घर में कमाने की जिम्मेदारी उन्हीं की थी अर्थात पैसा वे ही कमाते थे। महिलाएं घरों में […]
अर्थ जगत

जोखिम कम और मुनाफा ज्यादा का वादा फोक्सड फंड

स्टॉक मार्केट में धन कमाने के लिए कुछ रणनीतिकार विभिन्न स्टॉक्स में पैसा लगाने की राय देते हैं, तो कुछ कसे हुए पोटफोलियो को तरजीह देते हैं। ऐसे में निवेशक अधिकतर बार असमजंस की स्थिति में ही रहते हैं कि वे कहां निवेश करे जिससे उनका जोखिम कम से कम हो और मुनाफा ज्यादा। वित्तीय […]
अर्थ जगत

भारी पड़ सकती है ऑन लाइन ट्रेडिंग में छोटी छोटी गलतियां

आम निवेशकों को ऑनलाइन ट्रेडिंग की सुविधा उपलब्ध कराए जाने के बाद से निवेश की दुनिया में खासा बदलाव देखने को मिला है क्योंकि इस सुविधा की वजह से ऐसे लोगों ने भी शेयर बाजार का रुख किया है जो शायद इसके बारे में कभी सोचते भी नहीं।  कारोबारियों और निवेशकों को ऑनलाइन ट्रेडिंग की […]
अर्थ जगत

शॉर्ट टर्म डिपोजिट पर रखें दूर की सोच

बहुत सारे निजी एवं सरकारी बैंक इन दिनों लघु सावधि जमाओं (एक वर्ष की परिपक्वता अवधि) पर बचत खातों पर मिलने वाले ब्याज की तुलना में ज्यादा ब्याज दे रहे हैं। मसलन, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने 01 जुलाई को अपने लघु अवधि की जमाओं के ब्याज की समीक्षा की। इस दौरान बैंक ने अब […]
अर्थ जगत

दमखम से भरे होते हैं फोक्सड फंड

जोखिम को कम करने के लिए जहां कुछ फंड मैनेजर अनेक स्टॉक में डाइवर्सिफिकेशन की रणनीति अपनाते हैं वहीं कुछ ऐसे भी हैं जो शेयर बाजार से कमाई के लिए एक कसे हुए पोर्टफोलियो को तरजीह देते हैं। कसाव से हमारा मतलब है कुछ ही शेयरों में निवेश। हाल ही में एक्सिस एसेट मैनेजमेंट (म्यूचुअल […]
अर्थ जगत

एक जैसे नामों से दिग्भ्रमित न हों

म्यूचुअल फंड निवेश के मामले में कुछ ऐसे नाम एवं शब्दावलियां होती हैं जिनमें भिन्नता होते हुए भी कई वजहों से एकरूपता दिखती है। इसकी वजह से निवेशकों के लिए काफी भ्रम की स्थिति उत्पन्न हो जाती है। उदाहरण के तौर पर आप ग्रोथ फंड एवं ग्रोथ ऑप्शन को ही देखिए, इसमें नामकरण के स्तर […]
अर्थ जगत

डेरिवेटिव्स से प्रबंधन

इक्विटी और डेट इंस्ट्रूमेंट्स के अलावा फंड मैनेजर किसी फंड के प्रबंधन के लिए डेरिवेटिव्स का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इन इंस्ट्रूमेंट्स का इस्तेमाल निवेश पोर्टफोलियो को हेज करने के लिए किया जाता है। हेजिंग वो तरीका है जिससे जोखिम को कम या समाप्त करने का प्रयास किया जाता है। डेरिवेटिव्स वैसे उत्पाद होते […]
अर्थ जगत

जानें क्या हैं शेयरधारकों के अधिकार

आम बोलचाल में जिसे शेयर या स्टॉक कहा जाता है वह असल में इक्विटी शेयर होता है। किसी कंपनी के कुल मूल्य का विभाजन कर बनाई गई सबसे छोटी इकाई को इक्विटी शेयर कहते हैं। इससे किसी कंपनी में एक अंश की हिस्सेदारी व्यक्त होती है। किसी कंपनी का इक्विटी शेयर उसके शेयरधारक को उस […]