चंदू मामा के पांच हजार हो गए सवा करोड़


चंदू मामा से जब कभी सिस्टेमैटिक इनवेस्टमेंट प्लान – सिप की बात करता, वह खफा हो जाते। उन्हें निवेश के नए नए तरीके फरेब लगते थे। एक बार तो मुझे उन्होंने जोरदार डांट पिलाई। उन्हें लगा कि मैं उन्हें सिप का सुझाव कमीशन कमाने के लिए दे रहा हूं। उनके हिसाब से जमीन खरीदने से अच्छा कुछ भी नहीं है। उनका तर्क बड़ा सरल था। जमीन का रकबा तो बढऩे से रहा, पर जनसंख्या में बढ़ोतरी तो लगातार हो रही है। जनसंख्या बढ़ेगी तो जमीन की मांग भी बढ़ेगी। मांग के साथ कीमत तो बढ़ती ही है। मांग और आपूर्ति के सिद्धांत के अनुसार उनकी मान्यता सही थी। पर उन्होंने जमीन में कभी निवेश नहीं किया। बैंक में क्लर्क  के पद पर तैनात थे, बैंक के खाते से पैसा बाहर निकलने नहीं देते थे। यदि बहुत हुआ तो एफडी कर दिया। कभी इतने पैसे नहीं हुए कि जमीन खरीद सकें। मैं उनकी घुडक़ी सुन चुका था, पर हार नहीं माना।

एक दिन चंदू मामा मूड में थे। मैंने उनसे कहा कि यदि आप सिप करते तो कितनी रकम का करते। उन्होंने तपाक से जवाब दिया, जब करता ही नहीं तो रकम का सवाल ही कहां उठता है। मैंने अपना सवाल दोहराया। यदि प्लॉट खरीदते तो कितने का खरीदते। उनका चेहरा बुझ गया, मानो मैंने उनकी दुखती रग पर हाथ रख दिया हो। उन्होंने भरे मन से कहा कि महीने में आठ से दस हजार बचते हैं, इतने में कौन सा प्लॉट मिलेगा। मैंने उन्हें कहा कि  प्लॉट मिल सकता है। उन्हें विश्वास नहीं हुआ। आप भी हैरत में हैं न?

भई, मैंने उनकी जमीन की ख्वाहिश और सिप की पद्धति को मिलाकर एक संकर रणनीति तैयार की। तकरीबन पांच लाख रुपए का एक आवासीय प्लॉट ढूंढ़ निकाला। चूंकि वह बैंक में क्लर्क थे, उसी बैंक से उन्हें लोन भी मिल गया। लोन की किश्त बनी सात हजार रुपए। शुरू हो गया रिएल एस्टेट में उनका सिप। यदि आप भी रिएल एस्टेट में सिप करना चाहते हैं तो इस पद्धति को आजमा सकते हैं। इसके लिए सबसे पहले अपना टाइम हराइजन तय कीजिए। कितने समय के लिए निवेश करना चाहते हैं। यदि अभी अभी नौकरी ज्वाइन की है और रिएल एस्टेट में सिप करना चाहते हैं तो कोई ऐसी जगह चुनिए जहां नगर को पहुंचने में दस पंद्रह साल लगें। शहर से दूरी जितनी बढ़ेगी, लंबी अवधि में प्लॉट की कीमत उतनी ही अधिक बढ़ेगी। ध्यान रखिए, प्लॉट की कीमत मकान की तुलना में तेजी से बढ़ती है, इसलिए पहली प्राथमिकता प्लॉट को दें। यदि वह उपयुक्त जगह पर न मिले तो ही मकान में निवेश करें। यदि मकान खरीदते हैं तो आयकर रियायत का फायदा लेना न भूलें। बच्चे के लिए निवेश करना हो तो रिएल एस्टेट में सिप करने से अच्छा कुछ भी नहीं है। यदि पांच हजार रुपए का सिप बच्चे के नाम करना चाहते हैं तो बीस साल की अवधि के लिए पांच लाख रुपए का होम लोन ले लें। जब बच्चा बीस साल का होगा तो उसकी पढ़ाई लिखाई की पूरी जिम्मेदारी उसका सिप संभालेगा। वही उसकी शादी भी करा डालेगा। मोटे तौर पर बीस साल की अवधि में रिएल एस्टेट में निवेश की रकम पच्चीस गुनी हो जाती है। इस हिसाब से पांच हजार रुपए मासिक का रिएल एस्टेट सिप आपको कम से कम सवा करोड़ रुपए दिलाएगा। रिएल एस्टेट में सिप का नतीजा तो आपने देख लिया, अब बारी है कंपनियों के पहली तिमाही के परिणामों की।

जिस कंपनी का तिमाही परिणाम बेहतर आता है, उसके शेयर उछल पड़ते हैं और जिसका नतीजा खराब आता है, उसके शेयर औंधे मुंह गिर पड़ते हैं। हमने एक ऐसी रणनीति तैयार की है आपके लिए जिससे रिजल्ट चाहे जैसा भी आए, आप मुनाफा ही काटेंगे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *