जानिए (कुटर्रू) या हरा बंसता के बारे में रोचक जानकारी


छोटी गर्दन, बड़े सिर और लाल रंग की बड़ी भारी चोंच वाला हरा बंसता घने जंगलों और बाग बगीचों में अक्सर दिखाई देता है। चूंकि पक्षी के पंख हरे होते हैं इसलिए इसे हरा बंसल भी कहा जाता है। यह सफाई पंसद पक्षी है। यह परिंदा निचले हिमाचल से लेकर गोदावरी तक मिलता है। यह पक्षी छोटे-छोटे समूहों में रहता है। इसका कद मैना से थोड़ा बड़ा होता है।

amazing things about barbet bird in hindi जानिए (कुटर्रू) या हरा बंसता के बारे में रोचक जानकारी

नर और मादा लगभग एक समान होते हैं। उड़ान में यह कमजोर होता है। चोंच के पास उगे बालों की प्रारंभ में दाढ़ी समझ कर इसे बारबेट नाम दिया गया था। इनकी 72 जातियों में 16 भारतीय है। अमेरिका में 12, अफ्रीका में 37 जातियां पायी जाती हैं।

amazing things about barbet bird in hindi जानिए (कुटर्रू) या हरा बंसता के बारे में रोचक जानकारी

हरे बसंता का मुख्‍य भोजन पीपल, बरगद जैसे वृक्षों के फल, सेमल के फूलों का मकरंद, कचनार के फूल और कीड़े-मकोड़े आदि हैं। यह गरमी की नीरव दोपहरी में भी बोलना बंद नहीं करता है। गर्मी की तपती दोपहरी में भी कुटुरू-कुटुरू राग अलापने के कारण इसे कुटर्रू भी कहा जाता है।

amazing things about barbet bird in hindi जानिए (कुटर्रू) या हरा बंसता के बारे में रोचक जानकारी

नर और मादा मिलकर विशेषकर पुराने सड़ रहे वृक्षों या नरम लकड़ी के पेड़ों में कोटर बनाकर रहता है घरौंदा बनाते समय जो बुरादा कोटर से गिरता है। सामान्यतया मादा एक खेप में दो से चार अंडे देती है। अंडों को सेने और लालन-पालन का काम नर-मादा मिलकर करते हैं।

 

अब्राहम लिंकन को जानते हैं क्या आप
महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन के बारे में जानकर चौंक जाएंगे आप
सत्यार्थ प्रकाश के रचियता दयानंद सरस्वती के बारे में रोचक जानकारी
अपने खाए हुए साम्राज्य को दोबारा हासिल किया था हुंमायू ने
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें

Leave a Reply