1938 के शुरूआती समय में एक्शन कॉमिक्स में `सुपरमैन´ नामक काल्पनिक चरित्र की अपार सफलता ने डीसी कॉमिक्स को भी नए पात्र लोगों सामने लाने के लिए प्रेरित किया और इस तरह काफी कशमकश के बाद जन्म हुआ बैटमैन का। इस चरित्र को दो लोगों बॉब कॉन व बिल फिंगर ने मिलकर गढ़ा था। अपराधियों के दिलों में दहशत जगाने वाला यह किरदार सबसे पहले डीसी कॉमिक्स ने प्रकाशित किया था। बैटमैन की पहली कहानी थी `द केस-ऑफ द केमिकल सिंडीकेट´ जो कि सन् 1939 में आई थी। अपने खास चमगादड़ की शक्ल के काले लिबास में बैटमैन को बुरे लोगों से लड़ते हुए दिखाया गया पर इसके पास सुपरमैन की तरह कोई सुपरनैचुरल ताकत नहीं है। यह तो अपनी तीक्ष्ण बुद्धि, जासूसी दक्षता और तकनीकी ज्ञान के बलबूते अपराधियों को छकाता है।
बचपन में अपने माता-पिता की नृशंस हत्या का बदला लेने के लिए बैटमैन अपने आप को मानसिक व शारीरिक तौर पर मजबूत बनाता है और वह काल्पनिक शहर गोथम में अपने इस काम को अंजाम देता है। दरअसल बैटमैन का नाम ब्रूस वेन है जो कि आम जिंदगी में एक अमीर आदमी है। उसके दो सहयोगियों का नाम है रॉबिन व एन्फ्रेड। रॉबिन नामक पात्र को फिंगर के इस सुझाव के बाद बैटमैन की जिंदगी में शामिल किया गया कि प्रसिद्ध जासूसी पात्र शॉरलॉक होम्स की कहानियों में वॉटसन नामक किरदार की तरह बैटमैन को भी अपने मन की बात कहने के लिए किसी दोस्त की जरूरत है। इसकी लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 1952 में प्रकाशित कहानी `द माइटिएस्ट टीम इन द वल्र्ड´ में पहली बार इसे सुपरमैन के साथ पेश किया गया जिसमें यह दर्शाया गया कि दोनों एक दूसरे की असली पहचान को जान लेते हैं। यह सिलसिला लगभग 1986 तक लगातार चला क्योंकि बच्‍चों को यह बेहद पंसद आया। इसके बाद समय-समय पर लोगों की बदलती रुचि को ध्यान में रखकर इस पात्र में अपेक्षित बदलाव किए गए। 1943 में पहली बार बैटमैन पर एक टेलीविजन धारावाहिक का प्रसारण हुआ जिसमें लिक्स विल्सन यह किरदार निभाने वाले पहले अभिनेता बने। अगले दो वर्षों में यह किरदार सुपरमैन टीवी के साथ-साथ रेडियो पर भी छाने लगा और 1949 में बैटमैन एंड रॉबिन शीर्षक से बने धारावाहिक ने इसे उन घरों में भी पहुंचा दिया जिन्होंने कभी कॉमिक्स खरीदी ही नहीं।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: %e0%a4%ac%e0%a5%88%e0%a4%9f%e0%a4%ae%e0%a5%87%e0%a4%a8

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *