ख्‍वाबों की सैरगाह न्‍यूजीलैंड


न्‍यूजीलैंड एक छोटा सा देश है जो मुख्‍यत: उत्‍तरी व दक्षिणी, दो द्वीपों का समूह है। सर्फिंग, जेट बोटिंग, बेलूनिंग, स्‍काई डाइविंग, ग्‍लाइडिंग के लिए यह देश खास तौर पर मशहूर है। बेहतरीन सुव्‍यवस्थित गार्डन, चिडि़याघर, कैसिनों इस देश के कुछ अन्‍य ऐसे आकर्षण हैं जिनमें कोई भी सैलानी चाहकर भी स्‍वयं को अछूता नहीं रख पाता।
माउंट ताराबेस
उत्‍तरी द्वीप  पर स्थित यह पवित्र ज्‍वालामुखी माओरी जनजाति की संपत्ति मानी जाती है। इसके मुख का भाग अब पानी भर जाने के बाद रोतो माहाना झील के नाम से जाना जाता है। अतीत में कभी सक्रिय रहा यह ज्‍वालामुखी आज भी रोमांच का अनुभव कराता है। आप हेलीकॉप्‍टर के द्वारा झील तक पहुंच सकते हैं।
माटामाटा
यह जगह डेयरी व अच्‍छी नस्‍ल के घोड़ों के लिए प्रसिद्ध है।
पापारोओ राष्‍ट्रीय उद्यान – दक्षिणी द्वीप में स्थित यह उद्यान अपने पैनकेक्‍स के कारण विश्‍व प्रसद्धि है। 30,000 हेक्‍टेयर भूमि पर फैला यह उद्यान रमणीय प्राकृतिक दृश्‍यों से भरा पड़ा है।
नोट पैनेकेकस दरअसल लाइम स्‍टोन से बनी हुई प्राकृतिक परतें देखने में अद्भुत लगती हैं।
क्‍वींस टाउन
इस जगह के सुन्‍दरतम् दृश्‍य लॉर्ड ऑफ द रिंग्‍स फिल्‍म में केद है। क्‍वींस टाउन के आसपास की जगह भी काफी मनमोहक है।
तोंगारिरो राष्‍ट्रीय उद्यान
यह जगह विश्‍व विरासत के रूप में विख्‍यात है। उत्‍तरी द्वीप पर स्थित यह उद्यान अपने नाटकीय व अद्भुत दृश्‍यों के  लिए जाना जाता है। हरे घास के मेदान से गुजरते हुए कब आप पर्वत चोटियों के करीब पहुंच जाएं यह अनुमान लगाना यहां कठिन है।
ताउपो झील
साल भर चलने वाली पानी के खेलों के लिए यह जगह लोगों को बहुत प्रिय है। याहं बोटिंग का मजा ही कुछ और है।
माइराकी बोल्‍ड्स
दक्षिणी द्वीप पर ओमारू शहर के पास 50 किलोमीटर लम्‍बे समुद्र तट पर बिखरे विशालकाय माइराकी बोल्‍ड्स की खूबसूरती अद्वितीय है। अगर आपकी किस्‍मत अच्‍छी है तो आपको यहां पानी में इठलाती डॉल्फिन भी दिख सकती है।
कैंटरबरी
रूपहले समुद्र तट से दक्षिणी आल्‍पस पर्वत तक का सफर है कैंटरबरी। न्‍यूजीलैंड में आकर इसे देखे बिना आपका सफर अधूरा है।
यहीं पर आओराकी माउंट कुक पर्वत भी स्थित है। यह देश का सबसे ऊंचा बिंदु है, जिसकी ऊंचाई 3754 मीटर है। चालीस फीसदी ग्‍लेश्यिर से ढका यह पर्वत प्रकृति प्रेमियों की पसंदीदा जगह है।
बे ऑफ प्‍लेंटी
खूबसूरत हार्बर, लंबे तटीय क्षेत्र व आरामायक जीवन शैली के लिए इस जगह को जाना जाता है। यहां आने वाला हर सैलानी ताउरांगा शहर की ओर सबसे पहले जाता है। यह अच्‍छे भोजन, स्‍टाइलिश शॉपिंग व वाईन के लिए दुनिया भर में मशहूर है।
द थ्री सिस्‍टर्स एंड एलीफेंट रॉक्‍स
उत्‍तरी द्वीप के पश्चिमी भाग में स्थित यह जगह पास-पास स्थित 25 मीटर ऊंची तीन चट्टानों के लिए जानी जाती है। इन्‍हीं तीन चट्टानों को थ्री सिस्‍टर्स कहा जाता है। इससे कुछ दूरी पर एक ओर चट्टान है जो आश्‍चर्यजनक रूप से हाथी की आकृति से मेल खाती है। पहले यहां एक और चट्टान भी थी, वह अब जल कटाव के कारण समुद्र में लुप्‍त हो चुकी है।
वेस्‍ट कोस्‍ट
दक्षिणी द्वीप में स्थित वेस्‍ट कोस्‍ट नदियों, ग्‍लेशियरों, घने जंगलों व अपने भू विज्ञान के कारण हमेशा सैलानियों को आकर्षित करता रहा है।
नेल्‍सन
दक्षिणी द्वीप के उत्‍तर पश्चिम में स्थित नेल्‍सन का सबसे धूपदार स्‍थान है। यहां कलाकारों व शिल्‍पकारों का जमावड़ा हमेशा बना रहता है। नेल्‍सन में सैलानियों का आवागमन पूरे साल बना रहता है। यहां समुद्र में कायाकिंग का मजा ही कुछ और है।
लारनेच महल
दक्षिणी द्वीप के ओटागो प्रायद्वीप पर स्थित यह महल न्‍यूजीलैंड का एक मात्र महल है। 200 कारीगरों ने लगभग पांच साल के कठिन परिश्रम से इसका निर्माण किया था। 44 कमरे व एक विशाल बॉलरूम से सजा यह महल अपनी आंतरकि साजसज्‍जा के लिए पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बना रहता है।

कब जाएं
न्‍यूजीलैंड में सैर का सर्वोत्‍तम समय सितंबर से अप्रैल के बीच का है। इस वक्‍त यहां मौसम साल भर की तुलना में अपेक्षाकृत गर्म रहता है। मार्च के बाद शरद ऋतु का आगमन होता है जो मई तक बना रहता है।
कैसे पहुंचे
यह देश वायु मार्ग द्वारा शेष यूरोप से जुड़ा हुआ है। पूर्वी ऑस्‍ट्रेलिया से हवाई जहाज द्वारा सिर्फ साढ़े तीन घंटों में ही न्‍यूजीलैंड पहुंचा जा सकता है। न्‍यूजीलैंड में मुख्‍यत तीन तीन अंतराष्‍ट्रीय हवाई अड्डे हैं-ऑकलैंड, वेलिंगटन व क्राईस्‍ट चर्च।
कैसे घूमें
अपनी सुविधानुसार आप यहां सैर करने के लिए रेल, चार्टेड विमान या किराए की कार में से किसी एक का चुनाव कर सकते हैं।
न्‍यूजीलैंड बंजी जंपिंग के लिए भी विश्‍व विख्‍यात है। दरअसल बंजी जंपिंग यहां पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बिंदु है। इसके लिए 80-200 डॉलर का खर्च पड़ता है। इसी खर्चे में आपको एक टी-शर्ट व एक सर्टिफिकेट देने की भी व्‍यवस्‍था है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *