• कृषि मंत्री या फिर किसी और मंत्री से बातचीत नहीं करेंगे : टिकैत
  • अभी तो किसान कानूनों की वापसी की मांग कर रहे हैं : टिकैत
  • जब कोई राजा डरता है तो किले बंदी का सहारा लेता है : टिकैत

नयी दिल्ली 04 फरवरी (एजेंसी) सूत्रों के अनुसार कानून वापसी की मांग पर अड़े किसानों ने बुधवार को हरियाणा के जींद जिले के कंडेला गांव में महापंचायत की, जिसमे भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि अब कृषि मंत्री या फिर किसी और मंत्री से बातचीत नहीं करेंगे, अब प्रधानमंत्री और गृहमंत्री को बातचीत के लिए आगे आना होगा।

यह भी पढ़ें : लैला: प्रेमचंद | Laila : Premchand’s Hindi story

टिकैत ने आगे कहा कि अभी तो किसान कानूनों की वापसी की मांग कर रहे हैं, जब गद्दी वापसी की मांग करेंगे तब सरकार क्या करेगी? जब कोई राजा डरता है तो किले बंदी का सहारा लेता है। ठीक ऐसा ही हो रहा है। बॉर्डर पर जो कीलबंदी की गई है, ऐसे तो दुश्मन के लिए भी नहीं की जाती है, लेकिन किसान डरेगा नहीं। किसान इसके ऊपर लेटेंगे और उसे पार करके जाएंगे।

यह भी पढ़ें : Andher hindi story by munshi premchand | अंधेर: प्रेमचंद की कहानी

सूत्रों की माने तो केजरीवाल सरकार ने दिल्ली पुलिस की ड्यूटी में भेजी गईं 576 DTC बसों को डिपो में तुरंत लौटाने का निर्देश दिया है। ये बसें किसान आंदोलन में सुरक्षाबलों की आवाजाही में लगी हैं। दिल्ली परिवहन विभाग ने DTC को ये निर्देश भी दिए हैं कि बिना सरकार की इजाजत के दिल्ली पुलिस को बसें नहीं दें। किसान आंदोलन के समर्थन में पिछले 24 घंटे में कई विदेशी हस्तियां सामने आईं। क्लाइमेट एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग ने सोशल मीडिया पर लिखा कि वे भारत में किसानों के आंदोलन के साथ हैं। वहीं पॉप सिंगर रिहाना ने लिखा कि आखिर हम किसान आंदोलन के बारे में चर्चा क्यों नहीं कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें : Somvar Vrat Rules : सोमवार व्रत (Somvar Vrat) की सोलह विशेष बातें, जो बदल देंगी जीवन

Read all Latest Post on खेल sports in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें