• वित्तीय सेवा कंपनी जेफरीज की रिपोर्ट के अनुसार भारती एयरटेल और रिलायंस जियो की बाजार हिस्सेदारी बढ़ी

  • चालू वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी तिमाही में शीर्ष तीन कंपनियों की सकल आय में तिमाही -दर-तिमाही आधार पर 5 प्रतिशत की वृद्धि हुई

  • भारती के ग्राहकों की संख्या शुद्ध रूप से 1.39 करोड़ बढ़ी जबकि जियो ने 73 लाख नये ग्राहक जोड़े

नई दिल्ली, 02 नवंबर (एजेंसी)। दूरसंचार क्षेत्र में ‘लॉकडाउन’ में ढील दिये जाने का सकारात्मक असर पड़ा और सितंबर तिमाही में आय में करीब 5 प्रतिशत तक की वृद्धि हुई है। वहीं जून तिमाही में इसमें केवल एक प्रतिशत की वृद्धि हुई थी। वित्तीय सेवा कंपनी जेफरीज की रिपोर्ट के अनुसार भारती एयरटेल और रिलायंस जियो की बाजार हिस्सेदारी बढ़ी है। इन दोनों कंपनियों ने ये हिस्सेदारी वोडाफोन आइिया से हासिल की है।

Also Read: वीईसीवी की बिक्री अक्टूबर में 11.9 प्रतिशत बढ़कर 4,200 इकाई पर

भारती एयरटेल का प्रदर्शन परिचालन मानदंडों पर निरंतर बेहतर बना हुआ है। रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘चालू वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी तिमाही में शीर्ष तीन कंपनियों की सकल आय में तिमाही -दर-तिमाही आधार पर 5 प्रतिशत की वृद्धि हुई। जबकि पहली तिमाही में केवल एक प्रतिशत की वृद्धि हुई थी।’’ इनमें भारती एयरटेल की आय में 2020-21 की दूसरी तिमाही में सर्वाधिक 7 प्रतिशत की वृद्धि हुई। वहीं जियो की आय 6 प्रतिशत जबकि वोडाफोन आइडिया की आय इस दौरान केवल एक प्रतिशत की वृद्धि हुई। भारत का परिचालन मानदंद लगातार बेहतर बना हुआ है।

ग्राहकों की संख्या को देखा जाए तो जहां शुद्ध रूप से रिलायंस जियो और भारतीय एयरटेल को लाभ हुआ, वहीं वोडाफोन आइडिया को इस मामले में नुकसान हुआ है। बोफा सिक्योरिटीज ने सोमवार को अपनी रिपोर्ट में कहा, ‘‘…भारती के ग्राहकों की संख्या शुद्ध रूप से 1.39 करोड़ बढ़ी जबकि जियो ने 73 लाख नये ग्राहक जोड़े। दूसरी तरफ वोडाफोन आइडिया को 80 लाख ग्राहकों का नुकसान हुआ है।’’ बोफा ने कहा, ‘‘वोडाफोन आइडिया (वीआईएल) के लिये चिंताजनक बात उसके नेटवर्क पर डेटा/वॉयस ट्रैफिक में 4/4 प्रतिशत की गिरावट है। जबकि दूसरी दूरसंचर कंपनियों के मामले में इस खंड में वृद्धि हुई है। यह बताता है कि ग्राहक कंपनी छोड़कर जा रहे हैं…।’’

Also Read: बाजार उम्मीदों से बेहतर रहे रिलायंस इंडस्ट्रीज के नतीजे

रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि शुल्क दरों में वृद्धि के मामले में वीआईएल को अगुवा बनने की जरूरत होगी। इसका कारण कंपनी के बही-खातों का कमजोर होना है। इसमें कहा गया है, ‘‘भारती और जियो उसका अनुकरण कर सकती हैं लेकिन इस बात की संभावना कम है कि वे शुल्क में वृद्धि को लेकर अगुवाई करेंगी। इसका कारण प्रतिस्पर्धा के लिहाज दोनों के बेहतर स्थिति में होना है।’’ हालांकि शुल्क वृद्धि पर विचार करते समय वीआईएल ग्राहकों की धारणा समेत अन्य तत्वों पर विचार कर सकती है। उसे इस बात पर गौर करना होगा कि इससे उसके कारोबार को कोई जोखिम तो नहीं होगा। साथ ही वीआईएल के नेटवर्क गुणवत्ता में सुधार से उसे छोड़कर जाने वाले वाले ग्राहकों का प्रतिशत कम होगा।

Also Read: बजाज ऑटो की बिक्री अक्टूबर में 11 प्रतिशत बढ़कर 5,12,038 इकाई पर

दूरसंचार क्षेत्र में आने वाले समय में जियो स्मार्टफोन, नीलामी और वीआईएल के कोष जुटाने जैसी गतिविधियों पर नजरें होंगी। गोल्डमैन सैक्श ने कहा कि शुल्क वद्धि के बिना निकट भविष्य में दूरसंचार कंपनियों की आय में वृद्धि में गिरावट आएगी। उसने इस साल के समाप्त होने से पहले शुल्क दरों में वृद्धि का अनुमान जताया है।

Read all Latest Post on खेल sports in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें