• देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी रिलायंस जियो जबरदस्त मुनाफे में 
  • नेट प्रॉफिट तीन गुना बढ़कर 2,844 करोड़ रुपये पहुंच गया
  • उपयोक्ताओं की कुल संख्या 40.56 करोड़ हो गई है

नई दिल्ली। देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी रिलायंस जियो जबरदस्त मुनाफे में है। चालू वित्तीय वर्ष की दूसरी तिमाही में कंपनी का नेट प्रॉफिट तीन गुना बढ़कर 2,844 करोड़ रुपये पहुंच गया। इसकी प्रमुख वजह कंपनी की प्रति उपयोक्ता औसत आय बढ़ना है। निवेशकों को दी एक प्रस्तुति में कंपनी ने यह जानकारी भी दी उसके उपयोक्ताओं की कुल संख्या 40.56 करोड़ हो गई है । चीन के बाहर एक ही बाजार में 40 करोड़ से ज्यादा ग्राहक रखने वाली जियो पहली दूरसंचार कंपनी बन गई है।

कंपनी ने कहा कि अबू धाबी इंवेस्टमेंट अथॉरिटी और द पब्लिक इंवेस्टमेंट फंड ने मिलकर फाइबर ट्रस्ट से 3,779-3,779 करोड़ रुपये की हिस्सेदारी खरीदी है। शेयर बाजार को दी सूचना में कंपनी ने कहा कि 30 सितंबर को समाप्त तिमाही में उसका लाभ 2,844 करोड़ रुपये रहा। पिछले साल समान तिमाही में कंपनी का शुद्ध लाभ 990 करोड़ रुपये था। समीक्षावधि में कंपनी की परिचालन आय 33 प्रतिशत बढ़कर 17,481 करोड़ रुपये रही।

2019-20 की इसी अवधि में कंपनी की आय 13,130 करोड़ रुपये थी। कंपनी ने कहा कि समीक्षावधि में उसकी प्रति उपयोक्ता औसत आय (एआरपीयू) 145 रुपये रही। इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में कंपनी का एआरपीयू 127.4 रुपये था, जबकि इससे पिछली तिमाही में यह 140 करोड़ रुपये था। इस दौरान जियो प्लैटफॉर्म्स का शुद्ध लाभ 20 प्रतिशत बढ़कर 3,020 करोड़ रुपये रहा। इससे पिछली तिमाही में यह 2,520 करोड़ रुपये था। जियो प्लैटफॉर्म्स के तहत ही जियो से जुड़े तमाम ऐप और दूरसंचार कंपनी जियो का कारोबार आता है।

कर्ज में डूबी दूरसंचार कंपनी वोडाफोन आइडिया का एकीकृत घाटा चालू वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी तिमाही जुलाई-सितंबर में कम होकर 7,218.2 करोड़ रुपये रहा। कंपनी को पिछले वित्त वर्ष 2019-20 की इसी तिमाही में 50,897.9 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। इसका कारण कानूनी बकाया भुगतान के लिये किया गया प्रावधान था। वोडाफोन आइडिया की कुल आय चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में करीब 3 प्रतिशत घटकर 10,830.5 करोड़ रुपये रही जो एक साल पहले इसी तिमाही में 11,146.4 करोड़ रुपये थी।

वोडाफोन आइडिया के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी रवीन्द्र टक्कर ने कहा कि कोविड-19 से संबंधित चुनौतियां बनी हुई है, लेकिन दूसरी तिमाही में आर्थिक गतिविधियों में धीरे-धीरे सुधार के साथ पुनरूद्धार के संकेत दिखे हैं। उन्होंने कहा, ‘हमने अपनी रणनति और लागत को युक्तिसंगत बनाने का काम शुरू किया है। उसका बढ़ते बचत के रूप में सकारात्मक परिणाम दिखने लगा है।’ कंपनी के ग्राहकों की संख्या चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में घटकर 27.18 करोड़ रही जो इससे पूर्व वित्त वर्ष 2020-21 की इसी तिमाही में 27.98 करोड़ थी।

दूरसंचार कंपनी भारती एयरटेल का घाटा वित्तीय वर्ष 2020-21 की जुलाई-सितंबर की दूसरी तिमाही में घटकर 763 करोड़ रुपये रह गया। इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में कंपनी का घाटा 23,045 करोड़ रुपये था। हालांकि पिछले साल कंपनी के ज्यादा घाटे की प्रमुख वजह उच्चतम न्यायालय के आदेश पर समायोजित सकल राजस्व (एजीआर) से जुड़ा बकाया अदा करने के लिए 28,450 करोड़ रुपये का प्रावधान करना था।

कंपनी ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि तिमाही के दौरान उसकी परिचालन आय 22 प्रतिशत बढ़कर 25,785 करोड़ रुपये रही। इसका कारण कंपनी के विभिन्न पोर्टफोलियो का मजबूत वृद्धि करना है। बयान में कंपनी के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ)- भारत एवं दक्षिण एशिया गोपाल विट्टल ने कहा, ‘आम तिमाहियों से कमजोर तिमाही रहने के बावजूद कंपनी की आय में सालाना आधार पर 22 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। यह बेहतर प्रदर्शन है।’

उन्होंने कहा कि कंपनी अपना लाभ बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है। एजीआर के मुद्दे पर कंपनी ने कहा कि उसने सरकार के सामने अपनी बात रखी है और दूरसंचार विभाग की ओर से मांगे गए बकाये का 10 प्रतिशत से अधिक वह पहले भुगतान कर चुकी है। कंपनी न्यायालय के आदेश का अनुपालन सुनिश्चित करेगी।

Read all Latest Post on खेल sports in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें