79 साल का एक बुजुर्ग आर्यसमाजी जिसने नोबेल जैसा सम्मानित माने जाने वाला राइट लाइवलीहुड अॅवार्ड प्राप्त किया। जीवन भर बंधुआ मजदूरों और गरीब तबकों की लड़ाई लड़ी, महर्षि दयानन्द सरस्वती के मार्ग पर चलकर जहां एक ओर हिंदु धर्म में व्याप्त कुरीतियों का विरोध किया वहीं समाज की कतार […]

आज से करीब सौ वर्ष पहले दादा साहेब फालके उर्फ (धुंडिराजगोविन्दफालके) ने 1912 में अपनी पहली ‘मूक’ फिल्म बनाई जिसका नाम था ‘हरिश्चंद्र’। यह भारत की पहली फीचर फिल्म थी। इस फिल्म को बनाने में दादा साहेब ने करीब 15 हजार रुपए खर्च किए जो उस जमाने में एक मोटी […]