Author: मनोज त्यागी के सभी लेख

यात्रा

प्रकृति में समाया आनंद मिरिक, कुर्सियांग व कलिंपोंग

यूं तो दार्जिलिंग अपनी सर्द खूबसूरत वादियों के लिए जाना जाता है। लेकिन इससे थोड़ा नीचे और इसके करीब की कुछ रोमाटिंग वादियों- मिरिक, कुर्सियांग ओर कलिंपोंग की जादुई प्राकृतिक छटा पर्यटकों को बरबस अपनी ओर खींच लाती हैं। मिरिक में प्रकृति ने अपना वैभव जम कर लुटाया है। वह पर्यटक जो भीड़-भाड़ से दूर
यात्रा

रमणीक स्थलों से भरा है कोलकाता

कोलकाता कोलकाता भी अपनी रमणीक स्‍थलों के लिए मशहूर है। हर साल हजारों देशी-विदेशी कोलकाता आते हैं। वैसे तो बहुत से निकटवर्ती इलाके ऐसे हैं जो सड़क मार्ग से जुड़ी हैं लेकिन यहां चौरंगी रोड स्थित बस टर्मिनल से सिलिगुड़ी के लिए रॉकेट बस सेवा है। इसके अलावा फुन्‍तशोलिंग व ढाका के लिए भी बसों […]
यात्रा

सफर सुहाना मैसूर से ऊटी तक

फिजा में चंदन की खूशबू लिए मैसूर अपने गौरवशाली इतिहास पर इठलाता नजर आता है। दक्षिण भारत के कर्नाटक राज्‍य में बसा यह शहर अपने विशाल महलों, सिल्‍क की साडि़यों व प्राकृतिक छटा के लिए मशहूर है। लकड़ी पर की गई खूबसूरत नक्‍काशी यहां सभी को खूब लुभाती है। क्‍लॉक टावर से स्‍टेशन तक, चिडि़याघर […]
यात्रा

प्रकृति का एक अचम्भा है चम्बा

विख्‍यात कलापारखी और डच विद्वान डॉ. बोगल ने चम्बा को यूं ही अचंभा नहीं कह डाला था और सैलानी भी यूं ही इस नगरी में नहीं खिंचे चले आते। हिमाचलप्रदेश स्थित चम्बा की वादियों में कोई ऐसा सम्मोहन जरूर है जो सैलानियों को मंत्रमुग्‍ध कर देता है और वे बार-बार यहां दस्तक देने को लालायित […]
यात्रा

सैलानियों के आकर्षण का केन्द्र है छत्तीसगढ‍़

भारत के हृदय में बसा छत्‍तीसगढ़ आज सैलनियों के आकर्षण का केन्‍द्र बनता जा रहा है। अनुपम प्राकृतिक छटा, दुर्लभ वन्‍यजीव सम्‍पदा व प्राचीन मंदिरों से सजा यह राज्‍य अपने आप में अद्भुत सौन्‍दर्य समेटे हुआ है। छोटी-छोटी पर्वत मालाएं और इसकी गोद में अठखेलियां करती हुई नदियां बरबस ही अपनी ओर ध्‍यान आकर्षित करती […]
महिला जगत

किराए की कोख चाहिए तो यहां आइए !

सुनकर थोड़ा अजीब लग रहा होगा, पर सच है भारत में किराए की कोख का कारोबार करीब 3 बिलियन डॉलर से 4 बिलियन डॉलर तक का है। इंटरनेट पर उपलब्ध आंकड़ों पर अगर गौर करे तो यह बात साफ तौर पर साफ हो जाती है कि भारत में किराए की कोख का कारोबार दिनोंदिन बढ़ता […]
महिला जगत

आज भी अपनी स्वतंत्रता की लड़ाई लड़ रही है औरत

प्रतिबंधों के साथ जीवन का आरंभ और इसी के साथ अंत। यही त्रासदी है भारतीय समाज में स्त्री स्‍वतंत्रता की। धर्म ग्रंथों में शक्ति स्‍वरूपा लक्ष्‍मी व दुर्गा आदि की उपमा प्राप्‍त कर चुकी स्‍त्री इक्‍कसवीं सदी में भी अपनी स्‍वतंत्रता की लड़ाई लड़ रही है। शैक्षिक क्रांति व आर्थिक संपन्‍नता ने कुछ अपवाद अवश्‍य […]