How to control your anger tips in hindi: क्या आपके साथ भी ऐसा होता है कि यदि आप किसी को कुछ बार बार कह रहे हैं और वो अनसुना कर रहा है तो आप को अत्याधिक क्रोध आ गया ! आप सड़क पर आराम से ड्राइिवंग कर रहे हैं और अचानक किसी ने आपको ओवरटेक कर दिया और आपका दिमाग अचानक भभकने लगा। यदि आपको भी रोज के जीवन में सामान्य बातों पर क्रोध आने लगता है और आप चीखने चिल्लाने लगते हैं तो मान लीजिए कि आप भी क्रोध या गुस्सा आने की बीमारी के शिकार हैं। 

गुस्सा आना एक सामान्य प्रक्रिया

गुस्सा आना या किसी पर क्रोधित होना एक सामान्य प्रक्रिया है, जो कि मानव की भावनाओ पर निर्भर है। अगर ऐसा कहें तो गलत नहीं होगा कि क्रोध आना व्यक्ति की शारीरिक प्रतिक्रिया का ही रूप है और जिस तरह मानव दुखी होता है, खुश होता है, वैसे ही वो क्रोधित भी होता है। परन्तु कभी कभी मानव का क्रोध इस कदर बढ़ जाता है कि वो किसी की भावनाओं को आहत कर देता है, तो इस दुनिया में कई शख्स ऐसे भी है जो बात-बात पर क्रोधित हो जाते हैं, मगर मानने को तैयार नहीं होते कि वो गुस्सैल स्वभाव वाले हैं। कई बार गुस्सा इतना भी बढ़ जाता है कि वो अपनों का अहित करने के बाद ही शांत होता है। आज आपको हम आपको खुलासा डॉट इन में बताते हैं कि किस तरह से इस आदत से निपटा जाए।

 आखिर किसी को गुस्सा आता ही क्यों है? Why People get Angry?

सबसे पहले हमे जानना होगा कि आखिर जब हमे गुस्सा आता है तो हमारा स्वभाव किस तरह से बदल जाता है। जब भी हम गुस्से में होते है तो हमारे अंदर कुछ परिवर्तन आने लगते हैं, जैसे हम धीरज खोने लगेंगे या गाली- गलौच करने लगेंगे,  हो सकता है हम  सामने वाले को नीचा दिखाने पर उतारू हो जाए या फिर सामने वाले पर चिड़चिड़ाने लगे। गुस्सा आने का सबसे बड़ा कारण होता है जलन । अगर आप यह नहीं जानते कि जलन या इष्र्या पर कैसे काबू पाया जाता है तो यह आगे चलकर क्रोध का भयंकर रूप ले सकता है। कुछ लोग अत्याधिक भावुक होते हैं और उनके मन का न होने पर वे क्रोधित हो जाते हैं। असर में जब कोई व्यक्ति अत्याधिक क्रोध में होता है तो उसके दिमाग में एड्रेनालाईन की मात्रा बढ़ जाती है जो क्रोध का रूप धारण कर लेती है।

क्रोध आने पर क्या क्या नुकसान होते हैं ? What are demerits of Anger?

सबसे पहले हमे जानना होगा कि आखिर जब हमे गुस्सा आता है तो हमारा स्वभाव किस तरह से बदल जाता है। जब भी हम गुस्से में होते है तो हमारे अंदर कुछ परिवर्तन आने लगते हैं, जैसे हम धीरज खोने लगेंगे या गाली- गलौच करने लगेंगे ,  हो सकता है हम  सामने वाले को नीचा दिखाने पर उतारू हो जाए या फिर सामने वाले पर चिड़चिड़ाने लगे।

इतना ही नहीं कुछ लोग तो गुस्सा होने की स्थिति में काम ही बंद कर देते या स्थिति से पीछे हट जाते हैं। यदि आपकी पत्नी, बच्चे या रिश्तेदारों आपसे बात करने में कतराते हैं तो समझ लीजिये आप एक गुस्सैल किस्म के इन्सान है। ये कुछ सामान्य लक्षण हैं। जो कि एक आम समस्या है, परन्तु कभी कभी इसका विकराल रूप खतरनाक साबित होता है अत: इसका समाधान अतिआवश्यक है।

गुस्सा भले ही दो सेकंड का क्यों ना हो वो होता बड़ा ही खतरनाक है। उन कुछ पलों के अंदर वह क्रोधित व्यक्ति सब कुछ भूल जाता है और बस उसे अपने क्रोध को शांत करने का उद्देश्य दीखता रहता है और वो उद्देश्य किस हद तक किसी को नुकसान पहुंचा सकता इसका कोई माप-दंड नहीं होता।

  • गुस्सा कभी-कभी आपके रिश्तों को भी तोड़ देता है।
  • कभी-कभी क्रोध के कारण लोग अपना नौकरी या कैरियर खो देते हैं।
  • इससे दिमाग पर बहुत बुरा असर पड़ता है।
  • ज्यादा क्रोधित होने से दिल की बीमारी, डायबिटीज़, कमज़ोर प्रतिरक्षा प्रणाली, हाइपरटेंशन जैसी स्वास्थ्य सम्बन्धी प्रॉब्लम हो सकती हैं।

क्रोध या गुस्से को शांत करने के  ज़बरदस्त उपाय Best tips for control your anger in Hindi

अधिकांश देखा गया है कि जब किसी को क्रोध आता है तो वो इस बात को दोस्तों या रिश्तेदारों से छुपाने की कोशिश करता है, परन्तु उनके व्यवहार में बदलाव आ जाता है, जिसके चलते उनके जान-पहचान वालो को जानते देर नहीं लगती कि यह इन्सान क्रोधित है। ऐसे में आप कुछ सरल उपायों से अपने गुस्से को नियंत्रित कर सकते है।

जब भी महसूस को कि आप क्रोधित होने वाले है या आपको गुस्सा आने वाला है तो ऐसे में शान्त होकर गहरी सांस लेंते हुए 10 तक नंबर गिने और जब तक आप ऐसा करते है आप पाएंगे कि आपका गुस्सा उड़नछू हो चुका होता है।

हर बार किसी के कारण गुस्सा आये ऐसा जरुरी नहीं है, हो सकता है कि आपके आस-पास की परिस्थिति ऐसी हो कि जिसके चलते आपको गुस्सा आ रहा हो। अत: ऐसे में या तो आप उस जगह से दूरी बना ले, यदि बात आपके कार्यस्थल से सम्बंधित है तो आप एक एक छोटा सा break ले सकते है या फिर कही टहल आये। इस तरह से आप न सिर्फ खुद के गुस्से को कण्ट्रोल करेंगे बल्कि किसी से दूरी बनाने से भी बच जायेंगे।

सबसे आवश्यक है उन कारणों का पता करना, जिसके कारण आपके सिर पर गुस्सा सवार हो रहा है और कारणों का पता चलने पर उनका समाधान करे।

हर व्यक्ति में क्रोध आने पर उसके शरीर में अलग अलग प्रतिक्रिया होती है। इसलिए क्रोध आने से पहले ही अपने शरीर के संकेतों पर ध्यान रखें। यदि आपको लगने लगे कि आपको क्रोध आने वाला है तो आप नीचे लिखी टिप्स पर अवश्य ध्यान दें। इन उपायों से आपको अपने क्रोध को काबू करने में सहायता मिलेगी।

1. अपने गुस्से के संकेतों को पहचाने Understand the early sign of your anger

अधिकतर लोगों को गुस्सा आने से पहले ही उनके शरीर में कुछ बदलने लगता है, जैसे दिल की धड़कन तेज होने लगती है। मुठि्ठयां भिंचने लगती हैं, शरीर में तनाव होने लगता है और सर भारी होने लगता है।

यदि आपको कभी भी लगने लगे कि आपको गुस्सा आ रहा है तो कुछ सरल उपाय आप अपना सकते हैं।

  • अपने शरीर में हो रहे शारीरिक परिवर्तनों को साक्षी भाव से देंखें।
  • थोड़ी देर तक लम्बी लम्बी से सांस लें, और दो तीन गिलास पानी पिएं
  • अपने आप को पूरे होश में रखें और कुछ भी बोलने से पहले थोड़ा सोंचे
  • लम्बी लम्बी सांस लेते हुए एक से दस तक धीरे-धीरे मन में गिनती करें
  • जितना जल्दी हो सके उस जगह से थोड़ी देर के लिए इधर उधर हो जाएं।

2. जल्दी से जल्दी समाधान ढूंढने की कोशिश करें Search for a correct solution ASAP

सकारात्मक सोच रखें और कोशिश करें कि जो आपको गुस्सा दिला रहा है उसे मुस्करा कर व्यवहार करें। समस्या का फटाफट समाधान खोजने में अपना दिमाग लगाएं न कि समस्या के बारे में बार बार सोच सोच कर अपना क्रोध बढ़ाएं। जैसे मान लें कि आपका कोई सहकर्मी आपके द्वारा दिया हुआ काम समय पर नहीं निपटा पा रहा है तो आप अपना समय और एनर्जी उस पर क्रोध करके नष्ट न करें बल्कि सकारात्मक सोच रखते हुए समस्या का जल्द से जल्द हल निकलाने की कोशिश करें।

3. कुछ व्यायाम करें Do some exercises

व्यायाम और विश्राम करने से भी गुस्से को कंट्रोल या कम किया जा सकता है, जिनमे तैराकी और योग प्रमुख है। इसके अलावा सुबह की ताजी हवा में सैर और खुली हवा में गहरी सांसे लेने से भी गुस्से पर काबू पाया जा सकता है अत: अपने दैनिक जीवन में व्यायाम और योग को भी जगह जरुर दें।

4. रात को अच्छी नींद सोयें Take a good sleep at night

ऐसा नहीं है कि किसी की वजह से ही ऐसा हो रहा हो, अधिक काम के प्रेशर से भी इन्सान ऐसा हो जाता है, जिसके चलते सिरदर्द, तनाव व चिड़ाचिड़ाहट होना आम बात होती है और धीरे धीरे यही क्रोध में परिवर्तित हो जाता है। ऐसे में नींद का पूरा होना आवश्यक है अत: 7 से 8 घंटे की नींद अवश्य लें।

5. अपने गुस्से को अभिव्यक्त अश्वय करें Express your anger

अपने गुस्से को लगातार दबाना भी बहुत अच्छा नहीं होता इसलिए इस पर बात अवश्य करनी चाहिए, और यदि आपको अत्याधिक गुस्सा आता है तो इस विषय में बात करने में किसी तरह का कोई संकोच नहीं करना चाहिए। यदि आप किसी से बोलकर अपने गुस्से की समस्या के बारे में बात नहीं कर पाते हैं तो आप इस विषय में लिखकर अवश्य बात करें।

6. कुछ दिनों के लिए काम से अवकाश लें Go for Holiday

कई बार ऑफिस का तनाव भरा माहौल या कुछ सहकर्मियों का व्यवहार भी आपको चिड़चिड़ा और गुस्सैल बना सकता है। यदि आपको लग रहा है कि ऑफिस के नकारात्मक माहौल के कारण आपका गुस्सा बढ़ रहा है तो आपको ऑफिस से अवकाश लेकर कुछ दिन के लिए कहीं घूम आना चाहिए। या अपने परिवार के साथ कुछ समय बिताना चाहिए।

7. स्वयं से सकारात्मक बातें करें Talk positively with yourself

जीवन में सकारात्मक बातें करना या सकारात्मक चीजों से जुड़े रहना हर क्षेत्र में लाभकारी साबित हुआ है। अपने सोचने के तरीके को नकारात्मक से सकारात्मक में बदले को “संज्ञानात्मक पुनर्गठन” कहा जाता है जो आपके गुस्से या क्रोध को अच्छे तरीके से काबू करने में मदद करता है।

8. ख़ुश करने वाली चीजों के विषय में सोचें

अगर आप जानते हैं कि आपको गुस्सा बहुत आता है तो ज्यादातार आपको ख़ुशी देने वाली चीजों के विषय में सोचें या फिर आप कोई ऐसा चीज भी कर सकते हैं जिससे आपको ख़ुशी मिलती है। अगर आपके साथ बुरा भी हो रहा हो तो भी खुश रहें क्योंकि दुखी होने से इसका कोई हल तो निकलने वाला है नहीं।

 

 

 

 

 

Read all Latest Post on खेल sports in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें