एविएशन सेक्टर तेजी से बढ‍़ने वाला सेक्टर है, इस सेक्टर में काम करने वाले प्रोफेशनल की मांग दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। जहां पहले एविएशन का क्षेत्र सरकारी हवाई सेवाओं तक ही सीमित था, वहीं अब निजी क्षेत्र भी एविएशन की दौड़ में शामिल हो गए हैं। देश के आर्थिक विकास को तेजी देने वाले इस क्षेत्र में संभावनाओं का एक अनंत आसमान युवाओं को अपनी ओर खींच रहा है। यह क्षेत्र जितना रोमांचक है, उतना ही चुनौतीपूर्ण भी। दूसरे क्षेत्रों की तुलना में शानदार जीवनशैली, सुविधाओं और उम्‍दा वेतन ने इसे करियर का हॉट ऑप्‍शन बना दिया है।

2025 तक होगा एविएशन क्षेत्र में करियर होगा नंबर वन

एविएशन के क्षेत्र में जिस तेजी से विकास हो रहा है, उसके अनुसार भारत इस क्षेत्र में सन 2025 तक नंबर वन पर होगा। वर्तमान में देखा जाए, तो विश्व का केवल दो प्रतिशत एविएशन बिजनेस भारत में होता है। करियर बनाने के लिए आजकल युवा ऐसे ही ऑप्‍शन तलाश रहे हैं, जिनमें पैसे के साथ-साथ ग्‍लैमर भी हो। एयरहोस्‍टेस  बनकर आप ये दोनों ही चीजें बड़ी आसानी से हासिल कर सकते हैं। आइए लेते हैं एविएशन इंडस्‍ट्री का एक जायजा।

नौकरियों की कोई कमी नहीं

एयर होस्‍टेस एकेडमी की ममता गुप्ता का मानना है कि इस क्षेत्र में नौकरियों की कोई कमी नहीं है, बशर्ते कोर्स करने के लिए आपने एक सही संस्‍थान का चयन किया हो। एविएशन के क्षेत्र में करियर बनाने को लेकर जिन लोगों के मन में कोई भ्रम है या जो लोग इस क्षेत्र की बारीकियों को समझना चाहते हैं उनके लिए ममता गुप्ता एक किताब का नाम सुझाती हैं  ‘विनिंग स्‍ट्रैटेजी : सर्विंग विद अ स्‍माइल’ नाम की यह किताब एविएशन में रुचि रखने वाले लोगों के लिए बेहद उपयोगी है।

सबसे तेजी से बढ़ने वाले क्षेत्रों में से एक

वर्ष 1994 से पहले तक निजी ऑपरेटर्स को डोमेस्टिक एयरलाइंस और एविएशन की सुविधा नहीं थी, लेकिन 1994 में एयर कॉर्पोरेशन एक्‍ट में सुधार किया गया और निजी ऑपरेटर्स को भी डोमेस्टिक एयरलाइंस ऑपरेट करने की सुविधा दे दी गई। इसके बाद जेट एयरवेज, एयर सहारा, स्‍पाइस जेट आदि कंपनियां इस क्षेत्र में अपनी सेवाएं देने लगीं। आने वाले समय में नई एयरलाइंस अपनी सेवाएं शुरू करने जा रही हैं। ग्‍लोबलिसिस लिमिटेड ने भारतीय एविएशन मार्केट का अध्‍ययन करके यह निष्‍कर्ष निकाला है कि यह विश्‍व के सबसे तेजी से बढ़ने वाले क्षेत्रों में से एक है।

एविएशन सेक्टर में जाने के लिए बेसिक योग्यता

एयरहोटसस फ्लाइट स्‍टीवर्ड से संबंधित कोर्स को करने के लिए कैंडिडेट को बारहवीं पांस होना चाहिए। यह क्षेत्र जितना ग्‍लैमरस है उतना ही हार्ड वर्क भी मांगता है, साथ ही जिसमें सेवा करने की भावना होगी, वही इस क्षेत्र में सफल हो सकता है। एजुकेशन क्‍वालिफिकेशन के साथ कम्‍युनिकेशन स्क्लिस और ग्रूमिंग को भी इस क्षेत्र में महत्‍व दिया जाता है। एविएशन का क्षेत्र काफी विस्‍तृत है, एयरहोस्‍टेस, पायलट के अलावा सेल्‍स रिजर्वेशन, टिकटिंग, सिक्‍योरिटी, कार्गो, एचआर, मार्केटिंग, इंजीनियरिंगकेटरिंग प्रमुख हैं। आमतौर पर पायलट और एयरहोस्‍टेस के लिए ही जाने जाने वाले इस क्षेत्र में टेक्निकल और नॉन टेक्निकल दोनों ही क्षेत्रों में नौकरियां उपलब्‍ध कराई जाती हैं।

एविएशन सेक्टर में वेतन

एविएशन के क्षेत्र के अलग-अलग कर्मचारियों और अधिकारियों को यात्रा, चिकित्‍सा, सुविधा और आवास के साथ बीस हजार से लेकर पांच लाख तक वेतन मिलता है। यह सब आपके पद और क्षेत्र पर निर्भर करता है।

कौन कौन से संस्थान कराते हैं कोर्स

  • एयरहोस्‍टेस एकेडमी नई दिल्‍ली
  • राजस्‍थान स्‍टेट फद्यलाइंग स्‍कूल, जयपुर
  • सहारा एविएशन एकेडमी दिल्‍ली

 

Read all Latest Post on खेल sports in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें