Shri ganga mata ki aarti lyrics in hindi: सनातन धर्म में मां गंगा की बड़ी मान्यता है। लोगों की मान्यता है कि मां गंगा पापों से मुक्त करने वाली है। मां गंगा अपने भक्तों के सभी पापों को हर कर उसे सभी प्रकार के पापों से मुक्त कर देती है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार मां गंगा को पृथ्वी पर लाने का श्रेय भागीरथ को जाता है। इसलिए इनका एक नाम भागीरथी है। गंगा मा का इतना महात्मय है कि महादेव ने इन्हें अपने शीश पर धारण किया हुआ है। खुलासा डॉट इन में पढ़िए मां गंगा की आरती।

 

Shri ganga mata ki aarti | श्री गंगा माता की आरती

ऊँ जय गंगे माता, श्री गंगे माता ।
जो नर तुमको ध्यावत, मनवंछित फल पाता।। ऊँ जय गंगे माता…

चन्द्र सी ज्योत तुम्हारी जल निर्मल आता।
शरण पड़े जो तेरी, सो नर तर जाता ।। ऊँ जय गंगे माता…

पुत्र सगर के तारे सब जग को ज्ञाता ।
कृपा दृष्टि तुम्हारी, त्रिभुवन सुख दाता।। ऊँ जय गंगे माता…

एक ही बार भी जो नर तेरी शरणगति आता ।
यम की त्रास मिटा कर, परम गति पाता।। ऊँ जय गंगे माता…

आरती मात तुम्हारी जो जन नित्य गाता।
दास वही जो सहज में मुक्ति को पाता।। ऊँ जय गंगे माता…

Aarti Shri Ganga Mata Ji

Om Jai Gange Mata, Shri Jai Gange Mata
Jo Nar Tumko Dhyata, Man Vanchhit Phal Pata

Om Jai Gange Mata…..

Chandra Si Jyot Tumhari, Jal Nirmal Aata
Sharan Pade Jo Teri, So Nar Tar Jata

Om Jai Gange Mata…..

Putra Sagar Ke Tare, Sab Jag Ko Gyata
Kripa Drishti Tumhari, Tribhuvan Sukh Data

Om Jai Gange Mata…..

Ek Bar Jo parani, sharan teri aata
Yum Ki Tras Mitakar, Paramgati Pata

Om Jai Gange Mata…..

Aarti Mat Tumhari, Jo Jan Nitya Gata
Sevak Wahi Sahaj Me, Mukti Ko Pata

Om Jai Gange Mata…..

श्री गंगा आरती ( हरिद्वार ) || Ganga Aarti Haridwar

Read all Latest Post on खेल sports in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें