श्री राधा जी की आरती

Radha Ji Ki Aarti Lyrics in Hindi! श्री राधा आरती हिंदी में

आरती श्री वृषभानुसुता की, मंजु मूर्ति मोहन ममता की।।

त्रिविध तापयुत संसृति नाशिनि, विमल विवेक विराग विकासिनि।
पावन प्रभु पद प्रीति प्रकाशिनि, सुन्दरतम छवि सुन्दरता की।।


आरती श्री वृषभानुसुता की…

मुनि मन मोहन मोहन मोहनि, मधुर मनोहर मूरती सोहनि।।
अविरलप्रेम अमिय रस दोहनि, प्रिय अति सदा सखी ललिता की।।

आरती श्री वृषभानुसुता की…

[wp_ad_camp_2]

संतत सेव्य सत मुनि जनकी, आकर अमित दिव्यगुन गनकी।।
आकर्षिणी कृष्ण तन मनकी, अति अमूल्य सम्पति समता की।।

आरती श्री वृषभानुसुता की…

कृष्णात्मिका, कृषण सहचारिणि, चिन्मयवृन्दा विपिन विहारिणि।।
जगज्जननि जग दुखनिवारिणि, आदि अनादिशक्ति विभुता की।।

आरती श्री वृषभानुसुता की…

[wp_ad_camp_2]


Radha Ji Ki Aarti Lyrics in Hindi!

Aarti Shri Vrishbhanosuta Ki,
Manjul Murti Mohan Mamta Ki |

Trividh Tapyut Sansruti Nashini,
Vimal Vivek Virag Vikasini |

Pawan Prabhu Pad Preeti Prakashini,
Sundartum Chavi Sundarta Ki |

Muni Man Mohan Mohan Mohini,
Madhur Manohar Murti Sohini |


Aviral Prem Amiya Ras Dohini,
Priya Ati Sada Sakhi Lalita Ki |

Santat Sevye Sat Muni Jaanki,
Aakar Amit Divyagun Ganki,

Aakarshini Krishna Tan Manki,
Ati Amulye Sampati Samta Ki |


Krishnatmika Krishna Sahcharini,
Chinmeyvrinda Vipin Viharini |

Jagjanani Jag Dukh Nivarini,
Adi Anadi Shakti Vibhuta ki |

[wp_ad_camp_2]

Read all Latest Post on आरती संग्रह aarti sangrah in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: shree radha arti in hindi in Hindi  | In Category: आरती संग्रह aarti sangrah

Next Post

Garud puran: गरुड़ पुराण में बताए गए हैं ऐसे ऐसे नर्क, जानकर दहल जाएगा दिल

Sat Mar 16 , 2019
Garuda purana in hindi : संसार के विभिन्न धर्मों में मान्यता है कि इंसान की मृत्यु के बाद उसकी आत्मा आगे का सफर तय करती है, जहां उसके कर्मों के हिसाब से उसे फल प्राप्त होते हैं। सनातन धर्म में तो इस विषय पर पूरा एक पुराण है जिसका नाम […]
गुरुण पुराण में वर्णित है अलग अलग पापों की सजा 36 types of hell is described in garun puranगुरुण पुराण में वर्णित है अलग अलग पापों की सजा 36 types of hell is described in garun puran

Leave a Reply