श्रीमद्भागवत पुराण की आरती

Shrimadbhagwat puran ki aarti in hindi

आरती अतिपावन पुराण की।
धर्म भक्ति विज्ञान खान की।।

महापुराण भागवत निर्मल, शुक मुख विगलित निगम कल्ह फल।
परमानन्द-सुधा रसमय फल, लीला रति रस रसिनधान की।। आरती श्री मद्भागवत पुराण की…


[wp_ad_camp_2]

कलिमल मथनि त्रिताप निवारिणी, जन्म मृत्युमय भव भयहारिणी।
सेवत सतत सकल सुखकारिणी, सुमहैषधि हरि चरित गान की।। आरती श्री मद्भागवत पुराण की…

विषय विलास विमोह विनाशिनी, विमल विराग विवेक विनाशिनी।
भागवत तत्व रहस्य प्रकाशिनी, परम ज्योति परमात्मा ज्ञान को।। आरती श्री मद्भागवत पुराण की…

परमहंस मुनि मन उल्लासिनी, रसिक ह्रदय रस रास विलासिनी।
भुक्ति मुक्ति रति प्रेम सुदासिनी, कथा अकिंचन प्रिय सुजान की।। आरती श्री मद्भागवत पुराण की…

[wp_ad_camp_2]

 

Read all Latest Post on आरती संग्रह aarti sangrah in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: shrimad bhagwat puran ki aarti in Hindi  | In Category: आरती संग्रह aarti sangrah

Next Post

श्री भैरव की आरती

Mon Sep 3 , 2018
जय भैरव देवा प्रभु जय भैरव देवा। जय काली और गौरा कृतसेवा।। तुम पापी उद्धारक दुख सिन्धु तारक। भक्तों के सुखकारक भीषण वपु धारक।। वाहन श्वान विराजत कर त्रिशूल धारी। महिमा अमित तुम्हारी जय जय भयहारी।। [wp_ad_camp_2] तुम बिन देवा सेवा सफल नहीं होवे। चतुर्वतिका दीपक दर्शन दुःख खोवे।। तेल […]
Shri Bhairav ji aarti in hindiShri Bhairav ji aarti in hindi

Leave a Reply

error: खुलासा डॉट इन khulasaa.in, वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख कॉपीराइट के अधीन हैं। यदि कोई संस्था या व्यक्ति, इसमें प्रकाशित किसी भी अंश ,लेख व चित्र का प्रयोग,नकल, पुनर्प्रकाशन, खुलासा डॉट इन khulasaa.in के संचालक के अनुमति के बिना करता है , तो यह गैरकानूनी व कॉपीराइट का उल्ल्ंघन है। यदि कोई व्यक्ति या संस्था करती हैं तो ऐसा करने वाला व्यक्ति या संस्था पर खुलासा डॉट इन कॉपी राइट एक्त के तहत वाद दायर कर सकती है जिसका सारे हर्जे खर्चे का उत्तरदायी भी नियम का उल्लघन करने वाला व्यक्ति होगा।