भारत आस्था और विश्वास का देश है। यहां जितने धर्म और मत के लोग रहते हैं उतनी ही तरह की आस्था और विश्वास यहां के जनमानस के हृदय में बसे हैं। ऐसी ही एक अगाध श्रृद्धा और आस्था के साथ हर वर्ष 22 जून से 26 जून तक असम के कामख्या मंदिर में अंबुबाची पर्व मनाया जाता है। अंबुबाची मेले के  बारे में विस्तार से जानने के लिए पढ़े अंबूवासी: कामख्या मंदिर पर लगने वाला मेला जिसके बारे में जानकर हो जाओगे हैरान।

नीलांचल पर्वत पर है मां कामख्या का मंदिर

कामख्या मंदिर असम की राजधानी दिसपुर के पास गुवाहाटी से करीब 8 किलोमीटर की दूरी पर नीलाचंल पर्वत पर स्थित है। इस मंदिर में देवी की योनि की पूजा की जाती है।  इस मंदिर को तंत्र का सर्वोच्च स्थान भी बताया जाता है।

मां होती है रजस्वला

पौराणिक मान्यता है कि इन चार दिनों के दौरान देवी रजस्वला होती हैं और मंदिर में स्थित योनि से रक्त निकलता है। इसी दौरान देश विदेश से हजारो की संख्या में पर्यटक, अघोरी, तांत्रिक व मांत्रिकों का मंदिर परिसर में जमावड़ा लगा रहता है।

ambubachi-mela_1
Ambubachi Mela Interesting Fact You Never Know, Kamakhya Devi,

[wp_ad_camp_2]

मंदिर का नाम कामख्या कैसे पड़ा ?

पौराणिक कथाओ के अनुसार कामाख्या को ‘सती’ (भगवान शिव की पत्नी) का एक अवतार माना जाता है। सती की मृत्यु के बाद भगवान शिव अत्याधिक क्रोधित हो गए  और सती की मृत देह को लेकर तांडव करने लगे, जिसके कारण धरती पर प्रलय आने जैसा प्रतीत होने लगा,  उन्हें रोकने के लिए विष्णु ने अपना सुदर्शन चक्र छोड़ा था, जिसने सती के शरीर को 51 हिस्सों में काट दिया था ।

माना जाता है कि ये 51 हिस्से धरती पर जहां-जहां गिरे, उन्हें ‘शक्तिपीठ’ का नाम दिया गया है। इन्हीं में से एक हिस्सा वहां गिरा, जहां पर इस वक्त कामाख्या मंदिर है। सती का गर्भाशय इस जगह पर गिरा था मगर किसी को इस बारे में पता नही चला, इस जगह के बारे में तब पता चला जब कामदेव ने शिव के शाप से मुक्त होने के लिए इसे ढूंढा। शिव के शाप से कामदेव का शरीर तहस-नहस हो चुका था लेकिन उन्होंने सती की योनि ढूंढ कर उसकी पूजा की  और अपना शरीर वापस पा लिया। इसी कारण इस मंदिर या देवी को कामाख्या के नाम से जाना जाता है क्योंकि कामदेव इनकी पूजा करते थे।

कामाख्या मंदिर का निर्माण

कामाख्या मंदिर का निर्माण 1565 में नर-नारायण करवाया था और तभी से ये मंदिर अंबुबाची मेले /पर्व से जुड़ गया था । मंदिर के गर्भगृह (प्रमुख हिस्सा) में देवी की कोई मूर्ति नहीं है । मंदिर के गर्भगृह में योनी के आकर का एक पत्थर है और इसमें से हमेशा प्राकृतिक पानी निकलता रहता है ।

naga-sadu
Ambubachi Mela Interesting Fact You Never Know, Kamakhya Devi,

[wp_ad_camp_2]

कामाख्या मंदिर की विशेषता

अंबुबाची का पर्व आषाढ़ के महीने (जून-जुलाई) में आता है । जबसे कामाख्या मंदिर बना है, हर साल ये पर्व मनाया जाता है। महीने के आखिरी चार दिनों में ये मेला लगता है, ऐसी मान्यता है कि ये वो चार दिन होते हैं, जब कामाख्या देवी रजस्वला होती हैं। मंदिर के दरवाज़े बंद रहते हैं । इस दौरान मंदिर के अंदर बने हुए एक छोटे से तालाब का पानी लाल रंग में बदल जाता है ।

प्रसाद के तौर पर देवी का निकलने वाला पानी या फिर अंगवस्त्र (लाल कपड़ा, जिससे देवी की योनि को ढका जाता है) मिलता है । स्थानीय लोगो का ऐसा मानना हैं कि इस प्रसाद में औरतों में होने वाली पीरियड से समस्याओं को ठीक करने और उन्हें ‘बांझपन’ से मुक्त करने की ताकत होती है। नागा साधुओं से लेकर अघोरी तक सभी तरह के संन्यासी इस पर्व में जाते हैं । भारत के हर कोने से  लोग देवी के दर्शन करने और उनका आशीर्वाद लेने आते हैं ।

Also Read: कौन है मां कैलादेवी, क्यों की जाती है इनकी पूजा

Also Read: टांगीनाथ धाम जहां आज भी करते हैं परशुराम निवास

Also Read: भारत के ऐसे मंदिर जहां जाने से घबराता है लोगों का दिल

Also Read: अष्टधाम भुजा मंदिर जहां होती है खंडित मूर्तियों की पूजा

Also Read: Shani dev ki kahani hindi me 

 

 

 

 

 

Read all Latest Post on खेल sports in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें