जब शरीर से निकलते है प्राण, होता है कुछ यूं शरीर के साथ

death

मानव जीवन के सफ़र की आखिरी मंज़िल और सच्चाई मृत्यु का होना है, जिसे न तो बदला जा सकता और न ही नकारा ही जा सकता है | इसका आना तो निश्चित है, परन्तु मौत क्यों आती है या मृत्यु का क्या राज है, क्या आपको ये पता है ? यदि नहीं तो चलिए आज आपको मौत से जुडी कुछ बाते बताते हैं, शायद इन बातों की जानना आपके लिए आवश्यक है।

यदि आध्यात्मिकता के आधार पर इस बात को देंखें तो शरीर से प्राण यानि कि आत्मा से अलग हो जाने को मृत्यु या मौत का नाम दिया गया है, जिसमें प्राणों के शरीर से निकलते ही शरीर किसी निर्जीव वस्तु के समान हो जाता है, परन्तु विज्ञान के अनुसार मृत्यु का अर्थ भिन्न है | विज्ञान इस बारे में दो प्रकार की तरंगो भौतिक तरंग और मानसिक तरंग का तर्क देता है तथा जब इन दोनों तरंगो के बीच का संपर्क समाप्त हो जाता है तो मनुष्य काल के गाल में समा जाता है | वैसे मौत को तीन श्रेणियों में बाँटा गया है, जो कि भौतिक, मानसिक तथा आध्यात्मिक श्रेणी है ।


[wp_ad_camp_2]

भौतिक श्रेणी में ऐसी मृत्यु आती है, जिनमे दुर्घटना या बीमारी के चलते मौत हुई हो, जिसके चलते अचानक ही भौतिक तरंगे मानसिक तरंगों से अलग हो जाती हैं तथा मनुष्य अपने प्राण त्याग देता है।

कई बार आपने सुना होगा या देखा होगी कि किसी हादसे या घटना की खबर सुनकर किसी अन्य के प्राण पखेरू शरीर छोड़ देते हैं | यदि हां तो इसी प्रकार हुई मौत में भौतिक तरंगें मानसिक तरंगों से अलग हो जाती हैं तथा इसे मृत्यु का मानसिक कारण माना जाता है।

मानसिक तरंग का प्रवाह जब आध्यात्मिक प्रवाह में समाहित हो जाता है तो इस प्रकार हुई व्यक्ति को आध्यात्मिक श्रेणी में शामिल किया जाता है | इसमें भौतिक तरंग (भौतिक शरीर) का सम्पर्क मानसिक तरंगों से टूट जाता है, जिसे ऋषि मुनियों ने महामृत्यु कहकर संबोधित किया है। एक बात और ध्यान रहे है कि ग्रंथों के अनुसार महामृत्यु की प्राप्ति करने वाला प्राणी दोबारा जन्म नही लेता है तथा आत्मा जीवन-मरण के बंधन से मुक्ति पा जाती है।

[wp_ad_camp_2]

Read all Latest Post on धर्म कर्म dharm karam in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें
Title: an event called death when does the soul leave the body in Hindi  | In Category: धर्म कर्म dharm karam

Next Post

याद आयेगीं हमेशा श्रीदेवी, वीडियो में देखें उनके आखिरी पलों की तस्वीरें

Tue Feb 27 , 2018
  1983 में आयी फिल्म सदमा कमल हासन और श्रीदेवी की बेहतरीन फिल्मो में से एक है, हालाँकि कमल बॉलीवुड में पहले ही अपनी पहचान बना चुके थे, परन्तु इस फिल्म ने बॉलीवुड को एक ऐसी नटखट और चुलबुली नायिका दी, जिसने सबको खूब हँसाया और आज जब वो इन […]
63064766

All Post


Leave a Reply