6 अप्रैल से शुरू होने वाले चैत्र नवरात्र की पूजा विधि, घट स्थापना और समय जाने

chaitra navratri 2019 dates vasant navratri puja vidhi ghatasthapana time

6 अप्रैल से चैत्र नवरात्र शुरू हो रहे हैं तथा एकमात्र यही ऐसे नवरात्र होते है जब देशभर में माँ दुर्गा के साथ साथ शीतला माता की भी की जाती है। आपको बता दें कि भारत के कई प्रान्तों में होली का समापन फाग के दिन न होकर रंग पंचमी तक रहता है। जी हां, बसंत पंचमी से शुरू होने वाला फागुन मास का उन्माद चैत्र नवरात्र तक चलता रहता है। होली के बाद माँ शीतला की पूजा शुरू की जाती है, जो कि माँ भगवती का ही रूप है। माँ शीतला के सभी मंदिरों में मेलों का आयोजन किया जाता है। धर्म शास्त्रों के अनुसार इस दौरान शाकिनी, डाकिनी और पिशाचिनी की पूजा का विधान भी है। नवरात्रों में मां भगवती के अलग अलग रूपों की पूजा का विधान है।

इस बार चैत्र नवरात्रों की शुरूआत 6 अप्रैल से होगी तथा दुर्गाष्टमी के अगले दिन रामनवमी का त्यौहार मनाया जाता है, जो कि भगवान राम का जन्मोत्सव होता है। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि इस बार घटस्थापना का मुहूर्त प्रात: 6 बजकर 10 मिनट से लेकर 10 बजकर 19 मिनट तक रहेगा, जबकि प्रतिपदा तिथि की शुरुआत 5 अप्रैल को दोपहर 2 बजकर 40 मिनट से शुरू होकर 6 अप्रैल दोपहर 3 बजकर 23 तक रहेगा। सनातन धर्म में नवरात्रों की महिमा का बताया गया है। नवरात्रों में मां भगवती की उपासना से भक्तों की सभी प्रकार की मनाेकामनाएं पूर्ण होती हैं।


 

चैत्र नवरात्र की पूजा कैसे करें

पुराणों के अनुसार किसी भी पूजा की शुरुआत भगवान श्री गणेश की आराधना की जाती है अत: चैत्र नवरात्र की पूजा शुरू करने से पूर्व गणेश जी को ही पूजा जाता है तथा उसके बाद ही मां दुर्गा की मूर्ति को घर के मंदिर में स्थान दें। इसके बाद माँ का श्रृंगार किया जाता है अर्थात माँ को साड़ी, आभूषण, चुनरी, सुहाग, चावल, रोली, माला और फूल से सजाया जाता है। नवरात्रों में मा दुर्गा चालीसा और दुर्गा जी की आरती के पाठ से भक्तों की सभी प्रकार की मनोकामना पूर्ण होती हैं।

यदि आप जानना चाहते है कि नवरात्रों की सुबह हमे क्या करना चाहिए तो आपको बता दे कि नवरात्रों के प्रथम दिन से लेकर समापन तक हर सुबह मां को फल और मिठाई का भोग लगाना चाहिए।  गणेश जी और मां दुर्गा की आरती के साथ शुरुआत करने के बाद दिन भर व्रत रखें | सांयकाल होने पर मां दुर्गा की पूजा करें और दुर्गा चालीसा का पाठ करें तथा उसके बाद व्रत खोल लें। नवरात्रों में भगवती के दस रूपों दस महाविद्याओं की साधना से भी विशेष प्रकार के फल प्राप्त होते हैं।

 

 

 

Read all Latest Post on धर्म कर्म dharm karam in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: chaitra navratri 2019 dates vasant navratri puja vidhi ghatasthapana time in Hindi  | In Category: धर्म कर्म dharm karam

Next Post

दे दे प्यार दे का ट्रेलर हुआ लांच, वीडियो में देखे अजय देवगन को अपने से 24 साल छोटी लड़की से रोमांस करते हुए

Thu Apr 4 , 2019
रोमांटिक कॉमेडी फिल्म ‘दे दे प्यार दे‘ का ट्रेलर रिलीज हो चुका है। इस फिल्म में अजय देवगन, राकुल प्रीत सिंह, तब्बू और जिम्मी शेरगिल मुख्य भूमिका में नज़र आ रहे हैं। हालाँकि ट्रेलर लांच होते ही विवादों से घिर गया है। फिल्म के ट्रेलर से पता चल रहा है […]
De De Pyaar De Trailer: Ajay Devgn, Tabu And Rakul Preet Singh Present A Rom-Com 'For All Ages'De De Pyaar De Trailer: Ajay Devgn, Tabu And Rakul Preet Singh Present A Rom-Com 'For All Ages'

Leave a Reply