पार्वती जी की चालीसा | Parvati Chalisa

Parvati Chalisa Chalisa Lyrics Hindi & English

Parvati Chalisa in Hindi

सनातन धर्म में मान्यता है कि मां दुर्गा, मां काली, मां अन्नपूर्णा, गौरा और समस्त देवियां मां पार्वती का ही रूप हैं। जो भी भक्त माता आदिशक्ति पार्वती की सच्चे मन से आराधना करता है मां उसके सभी प्रकार के दुखों और संतापों को हर लेती हैं। माता पार्वती की आरती और चालीसा का निरंतर पाठ भक्तों की सभी प्रकार की मनोकामनाओं को पूर्ण करने वाला है।

 


॥ दोहा ॥

जय गिरी तनये डग्यगे शम्भू प्रिये गुणखानी

गणपति जननी पार्वती अम्बे ! शक्ति ! भवामिनी

॥ चालीसा॥

ब्रह्मा भेद न तुम्हरे पावे , पांच बदन नित तुमको ध्यावे

शशतमुखकाही न सकतयाष तेरो , सहसबदन श्रम करात घनेरो ।।1।।

तेरो पार न पाबत माता, स्थित रक्षा ले हिट सजाता

आधार प्रबाल सद्रसिह अरुणारेय , अति कमनीय नयन कजरारे ।।2।।

ललित लालट विलेपित केशर कुमकुम अक्षतशोभामनोहर


कनक बसन कञ्चुकि सजाये, कटी मेखला दिव्या लहराए ।।3।।

कंठ मदार हार की शोभा , जाहि देखि सहजहि मन लोभ

बालार्जुन अनंत चाभी धारी , आभूषण की शोभा प्यारी ।।4।।

नाना रत्न जड़ित सिंहासन , टॉपर राजित हरी चारुराणां


इन्द्रादिक परिवार पूजित , जग मृग नाग यज्ञा राव कूजित ।।5।।

श्री पार्वती चालीसा गिरकल्सिा,निवासिनी जय जय ,

कोटिकप्रभा विकासिनी जय जय ।।6।।


त्रिभुवन सकल , कुटुंब तिहारी , अनु -अनु महमतुम्हारी उजियारी

कांत हलाहल को चबिचायी , नीलकंठ की पदवी पायी ।।7।।

देव मगनके हितुसकिन्हो , विश्लेआपु तिन्ही अमिडिन्हो

ताकि , तुम पत्नी छविधारिणी , दुरित विदारिणीमंगलकारिणी ।।8।।

देखि परम सौंदर्य तिहारो , त्रिभुवन चकित बनावन हारो

भय भीता सो माता गंगा , लज्जा मई है सलिल तरंगा ।।9।।

सौत सामान शम्भू पहायी , विष्णुपदाब्जाचोड़ी सो धैयी

टेहिकोलकमल बदनमुर्झायो , लखीसत्वाशिवशिष चड्यू ।।10।।

नित्यानंदकरीवरदायिनी , अभयभक्तकरणित अंपायिनी।

अखिलपाप त्र्यतपनिकन्दनी , माही श्वरी , हिमालयनन्दिनी।।11।।

काशी पूरी सदा मन भाई सिद्ध पीठ तेहि आपु बनायीं।

भगवती प्रतिदिन भिक्षा दातृ ,कृपा प्रमोद सनेह विधात्री ।।12।।

रिपुक्षय कारिणी जय जय अम्बे , वाचा सिद्ध करी अबलाम्बे

गौरी उमा शंकरी काली , अन्नपूर्णा जग प्रति पाली ।।13।।

सब जान , की ईश्वरी भगवती , पति प्राणा परमेश्वरी सटी

तुमने कठिन तपस्या किणी , नारद सो जब शिक्षा लीनी।।14।।

अन्ना न नीर न वायु अहारा , अस्थिमात्रतरण भयुतुमहरा

पत्र दास को खाद्या भाऊ , उमा नाम तब तुमने पायौ ।।15।।

तब्निलोकी ऋषि साथ लगे दिग्गवान डिगी न हारे।

तब तब जय , जय ,उच्चारेउ ,सप्तऋषि , निज गेषसिद्धारेउ ।।16।।

सुर विधि विष्णु पास तब आये , वार देने के वचन सुननए।

मांगे उबा, और, पति, तिनसो, चाहत्ताज्गा , त्रिभुवन, निधि, जिन्सों ।।17।।

एवमस्तु कही रे दोउ गए , सफाई मनोरथ तुमने लए

करी विवाह शिव सो हे भामा ,पुनः कहाई है बामा।।18।।

जो पढ़िए जान यह चालीसा , धन जनसुख दीहये तेहि ईसा।।19।।

।।दोहा।।

कूट चन्द्रिका सुभग शिर जयति सुच खानी

पार्वती निज भक्त हिट रहाउ सदा वरदानी।

 

Paarvati Chalisa Lyrics In English

“Doha”

Jai Giri Tanaye Dagyaje Shambhu Priye Gunkhani

Ganpati Janani Paarvati Ambey! Shakti! Bhawamni

“Chopaai”

Brahma Bhed na tumhare paave, Panch badan nit tumko dhyavey,

Shashatamukhkahi na sakatyash tero,

Sahasbadan shram karat ghanero.

Tero paar na paabat Mata, sthith raksha lay heet sajaaata,

adhar prabaal sadrish arunaarey, ati kamniy nayan kajrare.

Lalit laalat vileypit keshar kumkum akshatshobhamanohar

Kanak basan kanchuiki sajaaye, kati mekhalaa divya lahraaye

Kanth madaar haar ki shobha, jaahi dekhi sahjahi man lobh

Baalaarun anant chabhi dhaari, aabhushan ki shobha pyari.

Nana ratna jadit sinhaasan, taapar raajit hari charuraanan

Indraadik parivaar pujit, jag mrig naag yagya rav kujit

Girkailaas,nivaasini jai jai, kotikprabha vikaasinI jai jai Paarvati Mata

Tribhuwan sakal,kutumb tihaari, anu-anu mahamtumhaari ujiyaari

Hai Mahesh Praanesh ! tumhaarey, Tribjuwan ke jo nit rakhvaarey

Unso,pati tum,prapt,kinh jab, sukrit puratanudibhay tab

Budho bail savari jinki, mahima ka gaavey kou teenki

Sada shamashaan bihari Shankar, aabhushan hai bhujang bhayankar

Kanth halahal ko chabichaayi, nilkanth ki padvi paayi

Dev maganke hituskinho, vishlaiaapu tinhi amidinho

Taaki,tum patni chavidhaarini, durit vidarinimangalkarini

Dekhi param sondarya tihaaro, tribhuwan chakit banaavan haaro

Bhay bhita so mata ganga, lajja may hai salil taranga

Sout samaan Shambhu pahaayi, Vishupadabjachodi so dhayyi

Tehikolkamal badanmurjhaayo, lakhisatvaShivshish Chadyaoo

Nityanandkarivardaayini, abhaybhaktkarnit anpaayini

Akhilpaap tryatapnikandani, maahey shwari,himaalaynandini

Kaashi Puri sada man bhaayi siddh peeth tehi aapu banayi

Bhagwati Pratidin Bhiksha Daatri, kripa pramod Saneh Vidhaatri

Ripukshay kaarini jai jai Ambey, vaacha siddh kari ablambey

Gauri Uma Shankari Kali, Annapurna jag prati paali

Sab jan,ki ishwari Bhagwati, pati praana parmeshwari Sati

Tumney kathin tapasya kini, Naarad so jab shiksha lini

Anna na nir na vaayu ahara, asthimaatratan bhayutumhara

Patra dhaas ko khaadya na bhaau, Umaa naam tab tumney Paayau

Tabniloki rishi saath padharey lage diggavan digi na haarey

Tab tab jai,jai,jai,ucchareu, saptarishi,nij gehsidhaareu

Sur vidhi Vishnu paas tab aaye, var dene,ke vachan sunnaye

Maangey uba,aur,pati,tum,tinso, chaahattajga,tribhuwan,nidhi,jinso

Aivmastu kahi tey dou gaye, sufal manorath tumne laye

Kari vivah Shiv so hey bhama, punah: kahaai har ki bama

Jo padhiyey jan yah chaalisa, dhan jansukh deehaye tehi isaa

“Doha”

Kut chandrika subhag Shir Jayati such khaani

Paarvati nij bhakt hit rahau sada vardaani

 

Parwati Chalisa | पार्वती चालीसा |

 

 

 

 

Read all Latest Post on चालीसा chalisa in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: parvati chalisa lyrics in hindi in Hindi  | In Category: चालीसा chalisa

Next Post

Kali Chalisa in hindi: काली चालीसा

Wed Sep 19 , 2018
Kaali Mata Chalisa In Hindi काली माता को (Kaali Maa) सनातन धर्म में एक प्रमुख देवी के रूप में पूजा जाता है। मां काली (Kaali) माता पार्वती का ही एक रूप हैं। इन्हें दस महाविद्याओं (Dus Mahavidya) में भी प्रमुख देवी माना जाता है। माना जाता है कि देवताओं की रक्षा […]
Kali Chalisa in HIndi Lyrics: काली चालीसा

Leave a Reply

error: खुलासा डॉट इन khulasaa.in, वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख कॉपीराइट के अधीन हैं। यदि कोई संस्था या व्यक्ति, इसमें प्रकाशित किसी भी अंश ,लेख व चित्र का प्रयोग,नकल, पुनर्प्रकाशन, खुलासा डॉट इन khulasaa.in के संचालक के अनुमति के बिना करता है , तो यह गैरकानूनी व कॉपीराइट का उल्ल्ंघन है। यदि कोई व्यक्ति या संस्था करती हैं तो ऐसा करने वाला व्यक्ति या संस्था पर खुलासा डॉट इन कॉपी राइट एक्त के तहत वाद दायर कर सकती है जिसका सारे हर्जे खर्चे का उत्तरदायी भी नियम का उल्लघन करने वाला व्यक्ति होगा।