श्री हनुमान चालीसा | Shri hanuman chalisa

श्री हनुमान चालीसा - Shri Hanuman Chalisa Hindi Lyrics Jai Hanuman Gyan Gun Sagar

Hanuman chalisa in hindi lyrics with meaning

भगवान शिव (Lord Shiv) के 11वें रुद्रावतार भगवान हनुमान (Hanuman Ji) जी ऐसे देवता है जो कलियुग में भी धरती पर विराजमान हैं। श्रीराम (Shri Ram) भक्त हनुमान जी को माता सीता ने अमरता का वरदान दिया था। कलियुग में हनुमान (Hanuman) अकेले ऐसे देव हैं जिनकी पूजा अर्चना से वे बहुत जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं और भक्तों के सारे संकट दूर कर देते हैं। हनुमान जी  को प्रसन्न करने का एकमात्र उपाय है हनुमान चालीसा (Hanuman chalisa) हनुमान जी की आरती (Hanuman aarti ) का पाठ, जो भक्त नियमित रूप से हनुमान चालीसा (Hanuman chalisa) का पाठ करता है उसे भूत प्रेत और बुरी शक्तियां परेशान नहीं करती और उसकी हर प्रकार की मनोकामना पूर्ण हो जाती है। खुलासा डॉट इन में हम हनुमान जी के भक्तों के लिए लाएं हैं हनुमान चालीसा और उसके फायदे (Benefits of hanuman chalisa)।

गोस्वामी तुलसी दास जी ने हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) की रचना की थी। माना जाता है कि गोस्वामी तुलसीदास (Goswami tulsidas) को श्रीरामचंद्र और भगवान हनुमान जी ने साक्षात दर्शन दिए थे। माना जाता है कि हनुमान चालीसा (Hanuman chalisa) स्तुति सिद्ध है यानी इसको पढ़ने मात्र से भक्तों के सभी प्रकार के कष्ट दूर होकर वह भवसागर से पार हो जाता है।


क्या लिखा है हनुमान चालीसा (Hanuman chalisa) में

चालीस चौपाइयों में तुलसीदास जी ने हनुमान (Hanuman) जी की स्तुति की है, इसमें उन्होंने हनुमान जी के नख से शिख का वर्णन किया है। बताया जाता है कि हनुमान जी से ही प्रेरणा लेकर गोस्वामी तुलसीदास (Goswami tulsidas) जी को श्रीरामचंद्र जी के दर्शन हुए थे। हनुमान चालीसा में में तुलसीदास जी ने हनुमान जी के बालों से लेकर रंग रूप तक का वर्णन किया है और उन्होंने हनुमान जी को श्रीराम का सबसे बड़ा भक्त बताया है। हनुमान चालीसा में तुलसीदास जी ने बताया है कि किसी मानव को हनुमान जी की कृपा से क्या क्या प्राप्त हो सकता है। हनुमान चालीसा में चालीस छंद होते हैं जिस कारण इसे चालीसा कहा जाता है। यदि कोई भी जातक इसका पूर्ण पाठ करता है तो उसे चालीसा पाठ कहा जाता है। माना जाता है कि जो भी जातक हनुमान चालीसा का नित्य पाठ करता है उसे शनिग्रह और साढ़े साती के कष्ट नहीं झेलने पड़ते।

Benefits of hanuman chalisa in hindi

माना जाता है कि इस कलिकाल में भगवान हनुमान (Lord Hanuman) ही एकमात्र जीवित देवता हैं। यह अपने भक्तजनों पर सदैव कृपा बनाए रखते हैं और उनकी हर मनोकामना पूरी करते हैं। भगवान हनुमान जी की कृपा से ही गोस्वामी तुलसीदास जी को श्रीराम जी के दर्शन प्राप्त हुए थे।

माना जाता है कि जहां भी राम कथा होती है वहां हनुमान जी अवश्य मौजूद होते हैं। हनुमान जी की महिमा और भक्तहितकारी स्वभाव को देखते हुए तुलसीदास जी ने हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए हनुमान चालीसा लिखा है। इस चालीसा का नियमित पाठ बहुत ही सरल और आसान है, लेकिन इसके लाभ हैं चमत्कारी।

हनुमान जी अष्टसिद्घि और नवनिधि के दाता कहा गया। जो व्यक्ति नियमित रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करता है। उसकी हर मनोकामना हनुमान जी पूरी करते हैं चाहे वह धन संबंधी इच्छा ही क्यों न हो।

जब कभी भी आपको आर्थिक संकट का सामना करना पड़े मन में हनुमान जी का ध्यान करके हनुमान चालीसा का पाठ करना शुरू कर दीजिए।

कुछ ही हफ्तों में आपको समस्या का समाधान मिल जाएगा और आर्थिक चिंताएं दूर हो जाएगी। इस बात का ध्यान रखें कि पाठ किसी दिन छोड़ें नहीं। अगर यह क्रम मंगलवार से शुरू करें तो बेहतर रहेगा।

 

श्री हनुमान चालीसा | Shri Hanuman chalisa

।।दोहा।।

श्री गुरु चरण सरोज रज, निज मन मुकुर सुधार |
बरनौ रघुवर बिमल जसु , जो दायक फल चारि |

बुद्धिहीन तनु जानि के , सुमिरौ पवन कुमार |
बल बुद्धि विद्या देहु मोहि हरहु कलेश विकार ||


।।चौपाई।।

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर, जय कपीस तिंहु लोक उजागर |
रामदूत अतुलित बल धामा अंजनि पुत्र पवन सुत नामा ||2||

महाबीर बिक्रम बजरंगी कुमति निवार सुमति के संगी |
कंचन बरन बिराज सुबेसा, कान्हन कुण्डल कुंचित केसा ||4|

हाथ ब्रज औ ध्वजा विराजे कान्धे मूंज जनेऊ साजे |
शंकर सुवन केसरी नन्दन तेज प्रताप महा जग बन्दन ||6|


विद्यावान गुनी अति चातुर राम काज करिबे को आतुर |
प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया रामलखन सीता मन बसिया ||8||

सूक्ष्म रूप धरि सियंहि दिखावा बिकट रूप धरि लंक जरावा |
भीम रूप धरि असुर संहारे रामचन्द्र के काज सवारे ||10||

लाये सजीवन लखन जियाये श्री रघुबीर हरषि उर लाये |
रघुपति कीन्हि बहुत बड़ाई तुम मम प्रिय भरत सम भाई ||12||


सहस बदन तुम्हरो जस गावें अस कहि श्रीपति कण्ठ लगावें |
सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा नारद सारद सहित अहीसा ||14||

जम कुबेर दिगपाल कहाँ ते कबि कोबिद कहि सके कहाँ ते |
तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा राम मिलाय राज पद दीन्हा ||16||

तुम्हरो मन्त्र विभीषन माना लंकेश्वर भये सब जग जाना |
जुग सहस्र जोजन पर भानु लील्यो ताहि मधुर फल जानु ||18|

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख मांहि जलधि लाँघ गये अचरज नाहिं |
दुर्गम काज जगत के जेते सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते ||20||

राम दुवारे तुम रखवारे होत न आज्ञा बिनु पैसारे |
सब सुख लहे तुम्हारी सरना तुम रक्षक काहें को डरना ||22||

आपन तेज सम्हारो आपे तीनों लोक हाँक ते काँपे |
भूत पिशाच निकट नहीं आवें महाबीर जब नाम सुनावें ||24||

नासे रोग हरे सब पीरा जपत निरंतर हनुमत बीरा |
संकट ते हनुमान छुड़ावें मन क्रम बचन ध्यान जो लावें ||26||

सब पर राम तपस्वी राजा तिनके काज सकल तुम साजा |
और मनोरथ जो कोई लावे सोई अमित जीवन फल पावे ||28||

चारों जुग परताप तुम्हारा है परसिद्ध जगत उजियारा |
साधु संत के तुम रखवारे। असुर निकंदन राम दुलारे ||30||

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता। अस बर दीन्ह जानकी माता
राम रसायन तुम्हरे पासा सदा रहो रघुपति के दासा ||32||

तुम्हरे भजन राम को पावें जनम जनम के दुख बिसरावें |
अन्त काल रघुबर पुर जाई जहाँ जन्म हरि भक्त कहाई ||34||

और देवता चित्त न धरई हनुमत सेई सर्व सुख करई |
संकट कटे मिटे सब पीरा जपत निरन्तर हनुमत बलबीरा ||36||

जय जय जय हनुमान गोसाईं कृपा करो गुरुदेव की नाईं |
जो सत बार पाठ कर कोई छूटई बन्दि महासुख होई ||38||

जो यह पाठ पढे हनुमान चालीसा होय सिद्धि साखी गौरीसा |
तुलसीदास सदा हरि चेरा कीजै नाथ हृदय मँह डेरा ||40||

।।दोहा।।
पवन तनय संकट हरन मंगल मूरति रूप |
राम लखन सीता सहित हृदय बसहु सुर भूप ||

 

 

Hanuman Chalisa Lyrics In English

॥Doha॥

Shri Guru Charan Saroj Raj, Nij Man Mukuru Sudhaar।

Barnau Raghubar Bimal Jasu, Jo Daayak Phal Chaar॥

Buddhiheen Tanu Jaanike, Sumirau Pavan-Kumaar।

Bal Buddhi Vidya Dehu Mohi, Harahu Kalesh Vikaar॥

 

॥ Chaupai ॥

Jai Hanuman Gyaan Gun Sagar। Jai Kapis Teehun Lok Ujaagar॥

Ram Doot Atulit Bal Dhama। Anjani-Putra Pavansut Nama॥

Mahavir Bikram Bajrangi। Kumati Nivaar Sumati Ke Sangi॥

Kanchan Varan Viraaj Subesa। Kaanan Kundal Kunchit Kesha॥

Haath Bajra Aau Dhwaja Biraaje। Kaandhe Moonj Janeu Saaje॥

Sankar Suvan Kesarinandan। Tej Prataap Maha Jag Bandan॥

Vidyabaan Guni Ati Chaatur। Ram Kaaj Karibe Ko Aatur॥

Prabhu Charitra Sunibe Ko Rasiya। Ram Lakhan Sita Man Basiya॥

 

Sukshma Roop Dhari Siyahin Dikhawa। Vikat Roop Dhari Lanka Jarawa॥

Bheem Roop Dhari Asur Sanhaare। Ramchandra Ke Kaaj Sanwaare॥

Laaye Sajivan Lakhan Jiyaaye। Shri Raghubeer Harashi Ur Laaye॥

Raghupati Keenhi Bahut Badai। Tum Mam Priy Bharat Hi Sam Bhai॥

Sahas Badan Tumhro Jas Gaavein। As Kahi Shripati Kanth Lagavein॥

Sankadik Bramhadi Munisha। Narad Sarad Sahit Ahisa॥

Yam Kuber Digpaal Jahan Te। Kavi Kobid Kahi Sake Kahaan Te॥

Tum Upkaar Sugreevhin Kinha। Ram Milaaye Raajpad Dinha॥

Tumhro Mantra Vibhishan Maana। Lankeswar Bhaye Sab Jag Jana॥

Yug Sahastra Jojan Par Bhaanu। Lilyo Taahi Madhur Phal Jaanu॥

Prabhu Mudrika Meli Mukh Maahi। Jaldhi Laanghi Gaye Achraj Naahi॥

Durgam Kaaj Jagat Ke Jete। Sugam Anugraha Tumhre Tete॥

Ram Dooare Tum Rakhwaare। Hoat Na Aagya Binu Paisare॥

Sab Sukh Lahai Tumhari Sharna। Tum Rakhshak Kaahu Ko Darna॥

Aapan Tej Samharo Aapai। Teeno Lok Haank Te Kaanpen॥

Bhoot Pisaach Nikat Nahi Aave। Mahabir Jab Naam Sunave॥

Naasai Rog Harai Sab Peera। Japat Nirantar Hanumat Beera॥

Sankat Te Hanuman Chhoodave। Man Krama Vachan Dhyaan Jo Laave॥

 

Sab Par Raam Tapasvi Raja। Tin Ke Kaaj Sakal Tum Saaja॥

Aur Manorath Jo Koi Laave। Soi Amit Jivan Phal Paave॥

Chaaro Yug Partaap Tumhara। Hai Parsiddh Jagat Ujiyara॥

Saadhu Sant Ke Tum Rakhwaare। Asur Nikandan Ram Dulaare॥

Asht Siddhi Nau Nidhi Ke Daata। As Var Deenhi Janki Maata॥

Ram Rasayan Tumhre Paasa। Sada Raho Raghupati Ke Daasa॥

Tumhre Bhajan Ram Ko Bhaave। Janam Janam Ke Dukh Bisraave॥

Antakaal Raghubar Pur Jaayee। Jahan Janam Hari-Bhakt Kahayee॥

Aur Devta Chitt Na Dharayi। Hanumat Sei Sarb Sukh Karayi॥

Sankat Kate Mite Sab Peera। Jo Sumirai Hanumat Balbira॥

Jai Jai Jai Hanuman Gosaai। Kripa Karahun Gurudev Ki Naai॥

Jo Sat Baar Paath Kar Koi। Chhootahin Bandi Maha Sukh Hoyi॥

Jo Yah Padhe Hanuman Chalisa। Hoye Siddhi Saakhi Gaurisa॥

Tulsidas Sada Harichera। Kije Naath Hridaya Mahn Dera॥

॥ Doha ॥

Pavantanaye Sankat Haran, Mangal Moorati Roop।

Ram Lakhan Sita Sahit Hridaya Basahu Soor Bhoop॥

॥ It’s Shree Hanuman Chalisa॥

 

Shri Hanuman Chalisa lyrics video

 

Hanuman chalisa PDF

Hanuman Chalisa Hanuman Chalisa lyrics PDF Download हनुमान चालीसा हिंदी मेंHanuman Chalisa lyrics PDF Download

हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa PDF Download)  डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें

 

हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa Benefits in Hindi) की विशेष पंक्तियां जो करेंगी सभी कष्ट दूर

  • पढ़ने लिखने वाले छात्र और छात्राएं जिनके जीवन में ज्ञान, बुद्धि और एकाग्रता का विशेष महत्व होता है उनके लिए इस लाइन का जाप विशेष फलदाई होता है : बुद्धिहीन तनु जानिके सुमिरो पवनकुमार, बल बुद्धि विद्या देहि मोहि, हरहु कलेस विकार
  • अच्छा स्वास्थ्य प्राप्त करने के लिए रोज इस पक्ति का जाप करें : लाय संजीवन लखन जियाय, श्री रघुवीर हरसी उर लाय
  • संबंधों में प्रेम बनाए रखने के लिए रोज इस पंक्ति का जाप करें : रघुपति कीन्हीं बहुत बढ़ाई तुम मम पि्रय भरतहिं सम भाई
  • किसी भी तरह की दुर्घटनाओं और व्याधियों से हनुमान चालीसा की इस लाइन का जाप मुक्ति दिलाता है: नासै रोग हरे सब पीरा, जपत निरंतर हनुमत वीरा
  • जीवन में हर प्रकार के गलत रास्ते और खोटे कर्मों से बचे रहने के लिए इस लाइन का निरंतर जाप आवश्यक है: महावीर विक्रम बजरंगी कुमति निवार सुमति के संगी
  • अगर किसी मनुष्य का कोई काम अटक रहा हो और लगातार उसमें कोई न कोई अड़चन आ रही हो तो ऐसे में हनुमान चालीसा की इस लाइन का जाप बहुत कारक सिद्ध होता है : दुर्गम काज जगत के केते सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते

Also Read: 10 Interesting Facts About Lord Hanuman That You Definitely Did Not Know

 

Read all Latest Post on चालीसा chalisa in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: shri hanuman chalisa hindi lyrics jai hanuman gyan gun sagar in Hindi  | In Category: चालीसा chalisa

Next Post

Shani dev chalisa in hindi : श्री शनि देव चालीसा

Sat Mar 2 , 2019
शनिदेव (Shavi Dev) को न्याय का देवता कहा जाता है। सूर्यपुत्र शनिदेव सभी मनुष्यों के अच्छे और बुरे कर्मों के फलों को प्रदान करने वाले हैं। सभी देवों में शनि देव (Shani dev) को विशिष्ट स्थान प्राप्त है। शनि देव की महिमा (Shani Dev Mahima) ऐसी है कि वे पल […]
Shani dev chalisa in hindi श्री शनि देव चालीसा - Jayti Jayti Shanidev Dayala

Leave a Reply